जहरीली शराब पीने से किसी का सिंदूर उजड़ता है तो किसी की सूनी होती है गोद

अवैध शराब की बिक्री कानूनन गलत है। अवैध शराब जहरीली हो सकती है और इसके सेवन ने किसी की भी मौत हो सकती है। ऐसे में आबकारी विभाग ने ग्रामीणों से मार्मिक अपील की है कि हमें शराब की अवैध बिक्री की सूचना जरूर दें ।

Anil KushwahaSat, 18 Sep 2021 12:17 PM (IST)
देशी शराब दुकान महौ व देशी शराब दुकान मिर्जापुर का निरीक्षण किया गया।

हाथरस, जागरण संवाददाता।  अवैध शराब की बिक्री कानूनन गलत है। अवैध शराब जहरीली हो सकती है और इसके सेवन ने किसी की भी मौत हो सकती है। ऐसे में आबकारी विभाग ने ग्रामीणों से मार्मिक अपील की है कि हमें शराब की अवैध बिक्री की सूचना जरूर दें क्योंकि शराब के सेवन से मौत हो सकती है। जहरीली शराब पीने से किसी के माथे का सिंदूर उजड़ता है तो किसी की गोद सूनी होती है।

नकली व अवैध शराब से होनी वाली हानियों के बारे में बताया गया 

जिलाधिकारी रमेश रंजन, पुलिस अधीक्षक विनीत जायसवाल, संयुक्त आबकारी आयुक्त आगरा जोन आगरा, उप आबकारी आयुक्त अलीगढ़ प्रभार अलीगढ़ के निर्देशन में जनपद हाथरस में चलाए जा रहे विशेष प्रवर्तन अभियान आपरेशन प्रहार के अंतर्गत जिला आबकारी अधिकारी हाथरस सुबोध कुमार श्रीवास्तव के नेतृत्व में आगामी त्योहारों व चुनावों के दृष्टिगत आबकारी टीम द्वारा थाना हाथरस जंक्शन के अंतर्गत गांव महौ के ग्राम प्रधान और अन्य प्रबुद्ध व्यक्तियों और जनसामान्य को अवैध, नकली, सस्ती शराब के सेवन से जनसामान्य को होने वाली हानियों तथा उक्त से संबंधित अपराध में आबकारी विभाग के अद्यतन अधिनियमों व प्राविधानित दंड के विषय में जागरूक किया गया तथा गांव में यदि कोई भी व्यक्ति अवैध शराब बनाने या बेचने का काम करता है तो इसकी गोपनीय सूचना तत्काल आबकारी विभाग और पुलिस को देने के लिए कहा गया। तत्पश्चात टीम द्वारा हाथरस जलेशर रोड पर स्थित ढाबों व वाहनों की सघन चेकिंग की गई। कहीं से भी अवैध मदिरा की बरामदगी नहीं हुई। देशी शराब दुकान महौ व देशी शराब दुकान मिर्जापुर का निरीक्षण किया जो सही संचालित होते पाया।

जारी रहेगा चेकिंग अभियान

आबकारी विभाग और पुलिस के संयुक्त रूप से चेकिंग अभियान चला रही है। गांव गांव चौपाल लगाकर ग्रामीणों को जागरूक कर रही है। आसपास के जनपदों में जहरीली शराब पीने से लोगों की मौत के बाद आबकारी विभाग पूरी तरह से सतर्क है। लगातार अभियान चलाने के बाद भी पुलिस और आबकारी विभाग को अपेक्षित सफलता नहीं मिल पा रही है। इस कारण विभागीय अफसरों में टेंशन में हैं।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.