अलीगढ़ में गेहूं को मिल रहा ठंड का साथ, अच्छी फसल की आस

अलीगढ़ में गेहूं को मिल रहा ठंड का साथ, अच्छी फसल की आस

आने वाले दिनों में तापमान में और गिरावट आने की उम्मीद।

Publish Date:Fri, 04 Dec 2020 02:05 AM (IST) Author: Jagran

जागरण संवाददाता, अलीगढ़ : कई दिन से पड़ रही ठंड गेहूं की फसल के लिए वरदान साबित होगी। आने वाले दिनों में तापमान में और गिरावट आने की उम्मीद है। कृषि के जानकारों की मानें तो कोहरा भी शुरू हो जाएगा। यह भी गेहूं के लिए फायदेमंद होगा। अगर पाला पड़ा तो आलू व सरसों की फसल को नुकसान हो सकता है।

किसान देवेंद्र, रमेश, मुकेश आदि का कहना है कि गेहूं के लिए ठंड सबसे ज्यादा मुफीद है। अगर आने वाले दिनों में कोहरा ज्यादा पड़ता है तो सरसों की फसल में चेंपा आ सकता है। पाले से भी नुकसान होगा।

पाले से फसलों का ऐसे करें बचाव

पाले का हानिकारक प्रभाव अगेती सरसों, आलू, फलों व सब्जियों की नर्सरी व छोटे फलदार पौधों पर पड़ता है। इससे बचाव के लिए किसान पानी उपलब्ध हो तो सब्जियों व फलदार पौधो की सिचाई करें। खेत के किनारे 15 से 20 फीट की दूरी के अंतराल पर जिस ओर से हवा आ रही है, रात्रि के समय कूड़ा कचरा सूखी घास आदि एकत्रित कर धुआं करें। सीमित क्षेत्र में लगी फल व सब्जियों की नर्सरी को टाट, पॉलीथिन व भूसे से ढकें। इन उपायों से फसलों, सब्जियों व फलदार पौधों को पाले से होने वाले नुकसान से बचाया जा सकता है। जिला कृषि अधिकारी विनोद कुमार सिंह का कहना है कि इस बार गेहूं की फसल अच्छा होने का अनुमान है। सरसों की फसल में भी अभी तक कोई नुकसान नहीं हुआ है। दिसंबर में ठंड और बढ़ेगी। यह भी गेहूं के लिए फायदेमंद होगा।

ठिठुरन शुरू : तापमान गिरने के साथ ही ठिठुरन बढ़ गई है। इससे लोगों ने ज्यादा से ज्यादा गरम कपड़ों का इस्तमाल करना शुरू कर दिया है। अलाव भी जलने शुरू हो गए हैं। रैन बसेरों में भी लोगों की संख्या बढ़ने लगी है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.