ग्राम प्रधान का चुनाव लड़ेगी भाजपा, एमएलसी चुनाव में जुटेंगे विधायक Aligarh News

मनोज जादौन, अलीगढ़ : जमीनी स्तर के कार्यकर्ताओं के लिए खुशखबरी है। भाजपा ग्राम प्रधान, बीडीसी, जिला पंचायत सहित अन्य पंचायत चुनाव को पहली बार लडऩे जा रही है। इतना ही नहीं पार्टी के उत्तर प्रदेश के संगठन महामंत्री सुनील बंसल ने जिलाध्यक्ष व विधायकों से साफ कहा कि उन्हें एक लाख जनप्रतिनिधि चाहिए। प्रदेश में 483 (विधायक) या 80 लोकसभा सदस्यों से भला होने वाल नहीं। स्नातक व शिक्षक एमएलसी चुनाव में जीत के लिए पूरा दमखम लगा दें। किसी तरह की चूक नहीं चाहिए।

यह है मकसद

दरअसल पार्टी के शीर्ष नेतृत्व का मकसद अर्से से संगठन के जरिये मेहनत करने वाले कार्यकर्ताओं को सियासी हिस्सेदारी देना है, जिनके बूते केंद्र व राज्य की सरकारें बनी हैं। बंसल ने खुद स्वीकार किया कि उनकी वफादारी व संघर्ष का प्रतिफल मिलना चाहिए। उन्हें सिर्फ फर्श उठाने वाला कार्यकर्ता की मनोवृत्ति बदली जाए।

भाजपा दमदारी से लड़ेगी एमएलसी चुनाव

सुनील बंसल सोमवार को आगरा के आरबीएस डिग्र्री कॉलेज सभागार में आगरा खंड के कार्यकर्ताओं को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि एमएलसी चुनाव दमदारी से लड़ा जाए। वह दावा करते हैं कि स्नातक के लिए अब तक कुल 90 में से 80 हजार मतदाता भाजपा के हैं। वहीं, शिक्षक सीट के लिए 28 में से 25 हजार।

भाजपा किसी वर्ग को नहीं छोड़ेगी अकेले

भाजपा के प्रदेश संगठन मंत्री सुनील बंसल का कहना है कि भाजपा किसी वर्ग को अकेले नहीं छोड़ेगी, इसलिए निर्णय लिया है कि सभी स्नातक और शिक्षक क्षेत्र पर उम्मीदवार उतारे जाएंगे, यह क्षेत्र भी हमारा अभिन्न अंग है। इसी की तर्ज पर पंचायत चुनाव लड़ा जाएगा।

विधायकों की लगाई क्लास, अध्यक्षों को दी नसीहत

सुनील बंसल ने विधायकों की भी क्लास लगाई। जनता के बीच रहकर उनकी समस्याओं के निस्तारण पर जोर दिया। वहीं, महानगर व शहर अध्यक्षों से जनप्रतिनिधियों का फीड बैक भी लिया। इनसे एमएलसी चुनाव में दमखम के साथ जुट जाने को कहा। अलीगढ़ से सभी विधायक राज्यमंत्री संदीप सिंह, जिलाध्यक्ष ठा. गोपाल सिंह मौजूद थे।

डॉ.मानवेंद्र से लिया फीडबैक

प्रत्याशी डॉ. मानवेंद्र से लिया फीड बैक

सुनील बंसल ने अपने संबोधन के दौरान कई बार स्नातक एमएलसी के पार्टी के घोषित प्रत्याशी डॉ. मानवेंद्र प्रताप सिंह से मुखातिब हुए। उनसे तैयारियों का अलग से फीड बैक भी लिया।

1952 से 2019 तक इन राज्यों के विधानसभा चुनाव की हर जानकारी के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.