सपा अध्‍यक्ष अखिलेश यादव की महापंचायत से पहले गांव-गांव जुड़ रहीं पंचायतें, विस्‍तार से जानिए रणनीति

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव की तीन मार्च काे महापंचायत है।

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव की तीन मार्च काे प्रस्तावित महापंचायत की तैयारी में जुटे पार्टीजन गांव-गांव पंचायतें जोड़ रहे हैं। इनमें सबसे आगे हैं सपा में शामिल हुए कांग्रेस के पूर्व सांसद चौ. बिजेंद्र सिंह।

Sandeep kumar SaxenaFri, 26 Feb 2021 08:43 AM (IST)

अलीगढ़, जेएनएन। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव की तीन मार्च काे प्रस्तावित महापंचायत की तैयारी में जुटे पार्टीजन गांव-गांव पंचायतें जोड़ रहे हैं। इनमें सबसे आगे हैं सपा में शामिल हुए कांग्रेस के पूर्व सांसद चौ. बिजेंद्र सिंह। जाट बहुल्य इलाकों में उनका रुतबा कांग्रेस में रहते हुए भी था। आंदोलन भी खूब किए। अपनी आक्रामक भाषा शैली से ग्रामीणों के बीच जगह बनाई। अब वही हथकंडे वह सपा में रहकर आजमा रहे हैं। 

कद बढ़ाने में लगे बिजेंद्र सिंह

अखिलेश की महापंचायत को लेकर उनके तुफानी दौरे हो रहे हैं। पार्टी के अन्य नेता तो कैंप कार्यालयों में रणनीति बनाते हैं, मगर वे गांव-गांव में संपर्क कर भीड़ जुटाने का प्रयास कर रहे हैं। इसके पीछे वजह भी है। पहली तो कांग्रेस को अपना कद दिखाना और दूसरी सपा में अपना वजूद बनाना। कांग्रेस से पूर्व सांसद की नाराजगी किसी से छिपी नहीं है। सार्वजनिक तौर पर भी वे जाहिर कर चुके हैं। अब सपा का दामन थामने के बाद वह अपना कद बढ़ाने में लगे हैं। टप्पल में आयोजित महापंचायत को लेकर गुरुवार को उन्होंने गांव नगलिया गोरोला, घांटोली, जैदपुर, पाखोदना, मेवगढ़ी, उटवारा, कंसेरा आदि गांवों का दौरा किया। इधर, सपा जिलाध्यक्ष गिरीश भी महापंचायत को सफल बनाने की तैयारी में बैठकें कर रहे हैं। पूर्व सांसद के साथ भी वे कभी-कभार दौरे पर चले जाते हैं।

महंगाई आम व्यक्ति की कमर तोड़ रही

पूर्व सांसद ने कहा कि कृषि बिल विरोधी आंदोलन का सपा समर्थन कर रही है। किसानों की लड़ाई वह पहले भी लड़ते आए हैं। किसानों के हित में लड़ाई जारी रखने के लिए तीन मार्च को राष्ट्रीय अध्यक्ष महापंचायत में शामिल होंगे। इस महापंचायत को सफल बनाने के लिए गांव-गांव जाकर किसानों से संपर्क किया जा रहा है। भारी संख्या में किसान पार्टी से जुड़ रहे हैं। पार्टी की नीतियों पर भी किसानों ने सहमति जताई है। उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार की गलत नीतियों के चलते किसान हर तरह की मुश्किल से जूझ रहा है। महंगाई आम व्यक्ति की कमर तोड़ रही है, युवा रोजगार के लिए दर-दर की ठोकरें खा रहे हैं। उधर, सरकार सिर्फ अपने कारपोरेट मित्रों की भलाई कर रही है। पूर्व सांसद ने कहा कि टप्पल में महापंचायत सफल रहेगी। हजारों की तादात में किसान जुटेंगे।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.