अलीगढ़ मे खाद कारोबारियों की मनमानी जारी, यूरिया संग किसानों को थमा रहे लगेज

जनपद में यूरिया खाद की आपूर्ति नियमित हो रही है। लेकिन विभागीय अफसर खाद कारोबारियों की मनमानी पर अंकुश नहीं लगा पा रहे। निर्धारित से अधिक मूल्य पर किसानों को यूरिया बेचा जा रहा है। कारोबारी यूरिया के साथ अनुपयोगी सामग्री (लगेज) भी किसानों को जबरन थमा रहे हैं।

Anil KushwahaThu, 09 Dec 2021 09:07 AM (IST)
विभागीय अफसर खाद कारोबारियों की मनमानी पर अंकुश नहीं लगा पा रहे।

अलीगढ़, जागरण संवाददाता। जनपद में यूरिया खाद की आपूर्ति नियमित हो रही है। लेकिन, विभागीय अफसर खाद कारोबारियों की मनमानी पर अंकुश नहीं लगा पा रहे। निर्धारित से अधिक मूल्य पर किसानों को यूरिया बेचा जा रहा है। यही नहीं, कारोबारी यूरिया के साथ अनुपयोगी सामग्री (लगेज) भी किसानों को जबरन थमा रहे हैं। आपत्ति करने पर यूरिया नहीं दिया जाता। ये स्थिति तब है, जब प्रतिदिन दर्जनों दुकानों का निरीक्षण कृषि विभाग के अधिकारी कर रहे हैं। किसी के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की गई।

सरकार ने खाद पर दिया है मोटा अनुदान

किसानों को सस्ती दरों पर खाद उपलब्ध हो सके, इसके लिए सरकार ने खाद पर मोटा अनुदान दिया है। इसके बाद भी किसानों को सरकारी मूल्य पर खाद उपलब्ध नहीं हो पा रहा। गेहूं, जौ, सरसों, मसूर की फसल कर रहे किसानों को इन दिनों यूरिया की जरूरत है। सरकारी मूल्य 266.50 रुपये प्रति बैग निर्धारित है। जबकि, फुटकर दुकानों पर यह बैग किसानों को 300 रुपये तक दिया जा रहा है। इसके अलावा जिंक, पोटास आदि अनुपयोगी सामग्री भी किसानों को जबरन बेची जा रही है। किसानों का कहना है कि ये सामग्री न खरीदें तो यूरिया नहीं मिलता। वहीं, फुटकर खाद विक्रेताओं का कहना है कि थोक विक्रेता उन्हें लगेज बेचते हैं। लगेज न लिया जाए तो खाद नहीं देते। मजबूरी में लगेज लेना पड़ता है और इसे किसानों को बेच देते हैं। थोक विक्रेताओं को लगेज खाद निर्माता कंंपनियां दे रही हैं। यानि, पूरा खेल ऊपर से नीचे तक चल रहा है और कृषि विभाग मौन साधे है। न किसी थोक विक्रेता पर कार्रवाई की गई, न फुटकर विक्रेता पर। खाद निर्माता कंपनियों तक पहुंचने की अधिकारी हिम्मत नहीं जुटा पाते।

1700 मीट्रिक टन मिला यूरिया

जनपद में 12,575 मीट्रिक टन यूरिया उपलब्ध है। बुधवार को 730 मीट्रिक टन यारा फर्टिलाइजर यूरिया और 1000 मीट्रिक टन कानपुर फर्टिलाइजर यूरिया प्राप्त हुआ है। गुरुवार को 1300 मीट्रिक टन एनएफएल यूरिया, 1700 मीट्रिक टन कृभको यूरिया और शुक्रवार को 2650 मीट्रिक टन आइपीएल यूरिया की रैक पहुंचने की संभावना है।

इनका कहना है

यूरिया पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध है और लगातार आ रहा है। किसान आवश्यकता अनुसार ही यूरिया खरीदें। कोई भी खाद विक्रेता निर्धारित से अधिक मूल्य वसूलता है या अनुपयोगी सामग्री जबरन टैग करता है तो उसकी शिकायत कंट्रोल रूम के हेल्पलाइन नंबर (0571-2742581) पर की जा सकती है। संंबंधित विक्रेता के खिलाफ तत्काल कार्रवाई की जाएगी।

डा. रामप्रवेश, जिला कृषि अधिकारी

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.