Aligarh Weather Forecast : तप रहा दिन, झुलस रही शाम, निरंतर बढ़ रहा तापमान

मौसम की बेरुखी सितम ढाने लगी है। हालत यह है कि सुबह नौ बजे के बाद ही आसमान से अंगारे बरसने लगते हैं। घर से निकलने का मन नहीं करता। निकल भी गए तो धूप में कुछ देर खड़े होने पर चक्कर आने लगते हैं।

Sandeep Kumar SaxenaFri, 02 Jul 2021 03:35 PM (IST)
मानसून का अभी कहीं कोई पता नहीं है।

अलीगढ़, जेएनएन। मौसम की बेरुखी सितम ढाने लगी है। हालत यह है कि सुबह नौ बजे के बाद ही आसमान से अंगारे बरसने लगते हैं। घर से निकलने का मन नहीं करता। निकल भी गए तो धूप में कुछ देर खड़े होने पर चक्कर आने लगते हैं। पूरा शरीर पसीना-पसीना हो जाता है। शाम के वक्त उमस से बैचेनी होती है। तापमान 40 डिग्री पार कर गया है। मानसून का अभी कहीं कोई पता नहीं है।

गर्मी में बिजली कटौती रुला रही

ऐसी गर्मी में बिजली कटौती रुला रही है। ओवरलोडिंग के चलते फाल्ट हो जाते हैं, इन्हें ठीक करने में ही घंटों गुजर जाते हैं। इस बीच संबंधित इलाके में लोगों का बुरा हाल हो जाता है। जर्जर तारों की वजह से फीडरों पर लोड संभल नहीं पा रहा। शुक्रवार को जैसे-जैसे दिन चढ़ता गया, तापमान में वृद्धि होती गई। दाेपहर के वक्त लू शरीर को झुलसा रही थी। दोपहिया वाहनों पर सवार राहगीर पसीना दे रहे थे। आटो, ई-रिक्शा, बसों में सफर करने वाले यात्रियों का भी बुरा हाल रहा। यही नहीं, तपते आसमान के नीचे देह झुलसा देने वाली गर्मी में कई जगह मजदूर काम करते नजर आए। पशु-पक्षियों को भी इस गर्मी ने बेहाल कर दिया है। सड़कों पर घूमने वाले छुट्टा पशु पेड़ों की छांव तलाशते हैं। उधर, किसान भी परेशान हैं। धान की नर्सरी तैयार कर चुके किसान रोपाई कर रहे हैं। इसके लिए पानी चाहिए। लेकिन बारिश हो नहीं रही। बिजली न आने से नलकूप भी नहीं चल पाते। ऐसे में पर्याप्त पानी नहीं मिल पा रहा। किसानों का कहना है कि अगले कुछ दिनों पर बारिश न हुई तो धान की पौध मारी जाएगी।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.