Aligarh Health Department : 25 पद के लिए पहुंचे 550 अभ्यर्थी, देर रात तक चला साक्षात्‍कार Aligarh news

कोरोना की दूसरी लहर में बार-बार वाक एंड इंटरव्यू करके भी जरूरत के आधे भी चिकित्सक व पैरामेडिकल स्टाफ नहीं मिल रहा था वहीं बुधवार को विकास भवन में आयोजित वाक एंड इंटरव्यू में 25 पदों के सापेक्ष करीब 550 अभ्यर्थी पहुंच गए।

Anil KushwahaThu, 23 Sep 2021 09:06 AM (IST)
चिकित्सक व स्टाफ नर्सों की अस्थाई नियुक्ति के लिए बुधवार को विकास भवन में देर रात तक चला साक्षात्‍कार।

अलीगढ़, जागरण संवाददाता। यह बात चिंता की भी है और राहत की भी। कोरोना की दूसरी लहर में बार-बार वाक एंड इंटरव्यू करके भी जरूरत के आधे भी चिकित्सक व पैरामेडिकल स्टाफ नहीं मिल रहा था, वहीं बुधवार को विकास भवन में आयोजित वाक एंड इंटरव्यू में 25 पदों के सापेक्ष करीब 550 अभ्यर्थी पहुंच गए। देररात तक सीडीओ व सीएमओ अभ्यर्थियों की पत्रवालियों का अवलोकन कर साक्षात्कार लेते रहे। हालांकि, रात के समय साक्षात्कार लिए जाने पर कुछ लोगों ने सवाल भी उठाए। 

कोरोना संक्रमण से निपटने की तैयारियां 

कोरोना नियंत्रण व रोकथाम के दृष्टिगत सीएचसी, पीएचसी व अन्य स्वास्थ्य इकाइयों पर विशेषज्ञों, चिकित्सक व स्टाफ नर्सों की अस्थाई नियुक्ति के लिए बुधवार को विकास भवन में सुबह 10 बजे से वाक एंड इंटरव्यू शुरू हुए। सीडीओ अंकित खंडेलवाल व सीएमओ डा. आनंद उपाध्याय की उपस्थिति में आठ विशेषज्ञ, 12 चिकित्साधिकारी व सात स्टाफ नर्सों के पदों (कुल 25) पर अभ्यर्थियों को आमंत्रित किया था। अफसर यह देखकर हैरान रह गए कि सुबह से ही विकास भवन प्रांगण में अभ्यर्थियों की भीड़ जुटनी शुरू हो गई। ऐसे में अतिरिक्त स्टाफ को लगाकर अभ्यर्थियों के आवेदन-पत्र व अन्य प्रमाण-पत्रों की जांच की गई। दोपहर हो गई, लेकिन अभ्यर्थियों की भीड़ नहीं छंटी। अधिकारी भी हैरान रह गए कि 25 पदों के लिए करीब 550 अभ्यर्थियों ने आवेदन किया है। ऐसे में अधिकारी देररात तक साक्षात्कार में व्यस्त रहे। सीएमओ डा. आनंद उपाध्याय ने बताया कि पदों के सापेक्ष साढ़े पांच से अधिक अभ्यर्थी आए, जिसके चलते राततक साक्षात्कार चले। प्रक्रिया आज भी निपटाई जानी हैं।

एनएमसी निरीक्षण के बाद बढ़ेगी जेएनएमसी एमबीबीएस की सीटें

अलीगढ़ । एएमयू के जेएन मेडिकल कालेज को स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय के राष्ट्रीय चिकित्सा आयोग (एनएमसी) ने एमबीबीएस सीटों की संख्या 150 से बढ़ाकर 200 करने के लिए किए गए आवेदन को स्वीकार कर लिया है। अगले साल से जेएन मेडिकल कालेज में सीटों की संख्या बढ़ाने के निर्णय को एनएमसी अधिकारियों की ओर से निरीक्षण सर्वेक्षण के बाद लागू किया जाएगा।कुलपति प्रो. तारिक मंसूर ने कहा कि कोविड महामारी ने स्वास्थ्य में पर्याप्त संख्या में योग्य और कुशल मानव संसाधनों के महत्व की प्रासंगिकता को रेखांकित किया। उसके लिए यह जरूरी है कि देशभर में जेएन मेडिकल व अन्य मेडिकल कालेजों में एमबीबीएस सीटों की संख्या में वृद्वि हो। उन्होंने कहा कि छात्रों की संख्या में वृद्धि को पूरा करने के लिए हमारे पास एक उन्नत बुनियादी ढांचा, पर्याप्त संकाय सदस्य, अपेक्षित सर्जरी ओटी, लेक्चर हाल, वाड्र्स, बड़े और पर्याप्त आवासीय छात्रावास और अत्याधुनिक प्रयोगशाला सुविधाएं हैं। इस बीच, यूपी नर्स और मिडवाइव्स काउंसिल ने इंडियन नर्सिंग काउंसिल की अधिसूचना के अनुसार जेएन मेडिकल की ओर से संचालित जनरल नर्सिंग एंड मिडवाइफरी पाठ्यक्रम को बीएससी नर्सिंग डिग्री में 20 छात्रों के प्रवेश के साथ अपग्रेड करने की अनुमति दी है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.