कोविड की संभावित तीसरी लहर से बचाने को आगरा में बच्चों को विटामिन-ए की खुराक

जीवनी मंडी स्वास्थ्य केंद्र से हुआ अभियान का शुभारंभ। नौ माह से पांच वर्ष के बच्चों को किया जाएगा चिन्हित। जिला अस्पताल में पोषण पुनर्वास केंद्र में 25 बेड होने वाले हैं। तीसरी लहर के अंदेशे को देखते हुए पीकू वार्ड को भी तेजी से तैयार कराया जा रहा है।

Prateek GuptaThu, 29 Jul 2021 05:35 PM (IST)
जीवनी मंडी स्‍वास्‍थ्‍य केंद्र पर बच्‍चों को विटामिन ए की खुराक देते सीएमओ व डा. मेघना शर्मा।

आगरा, जागरण संवाददाता। बच्चों को कोविड-19 की संभावित तीसरी लहर से बचाने के लिए स्वास्थ्य विभाग ने नौ माह से पांच वर्ष तक के बच्चों को विटामिन-ए की खुराक पिलाने का अभियान शुरू कर दिया गया है। जीवनी मंडी स्वास्थ्य केंद्र पर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. अरुण कुमार श्रीवास्तव ने बच्चे को पहली खुराक पिलाकर इसका शुभारंभ किया।

जिला प्रतिरक्षण अधिकारी डा. संजीव वर्मन ने बताया कि विटामिन ए की खुराक से बच्चों की प्रतिरोधक क्षमता में बढ़ोतरी होती है। डा. वर्मन ने बताया कि कोविड-19 को ध्यान में रखते हुए बुधवार और शनिवार को लगने वाले ग्रामीण स्वास्थ्य पोषण दिवस और शहरी स्वास्थ्य पोषण दिवस पर ही बच्चों को एएनएम द्वारा विटामिन-ए की खुराक दी जाएगी। जीवनी मंडी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र की प्रभारी डा. मेघना शर्मा ने बताया कि बाल स्वास्थ्य पोषण माह के अंतर्गत कुपोषित बच्चों को चिन्हित किया जाएगा। इन बच्चों को एल्बेंडाजोल व आयरन की गोली दी जाएंगी।आशा और आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं द्वारा छह माह तक बच्चे को केवल स्तनपान कराने हेतु समुदाय में प्रेरित किया जाएगा। इस मौके पर बाल स्वास्थ्य पोषण माह की समन्वयक विद्या, विश्व स्वास्थ्य संगठन की शहरी समन्वयक सुचिता, यूनिसेफ के डीएमसी अमृतांशु, मधुमिता, एनआई से बीएसपीएम को-आर्डिनेटर विद्या, डब्ल्यूएचओ अरबन को-आर्डिनेटर सुचिता, डीएमसी अमृतांशु, यूनीसेफ को-आर्डिनेटर मधुमिता व जीवनी मंडी पीएचसी का समस्त स्टाफ मौजूद रहा।

कुपोषित बच्चों के लिए पोषण पुनर्वास केंद्र में अब होंगे 25 बेड

जिला अस्पताल में पोषण पुनर्वास केंद्र में 25 बेड होने वाले हैं। एक से दो दिन बाद 25 बेडों की सुविधा शुरू हो जाएगी। पहले इस केंद्र में 10 बेड थे। पोषण पुनर्वास केंद्र पर बुधवार तक 21 बेड लगा दिए गए थे। बरसात के कारण कर्मचारियों को बेड शिफ्ट करने में दिक्कत हुई। बाकी के छह बेड गुरुवार को केंद्र में लगा दिए जाएंगे। वर्तमान में केंद्र में 11 बच्चों का इलाज चल रहा है। केंद्र में आने वाले कुपोषित बच्चों को स्पेशल डाइट दी जाती है, जिसमें दलिया, दूध, दालें व फल आदि शामिल होते हैं। सरकार की तरफ से तीमारदारों को 100 रुपये रोज के भी दिए जाते हैं। अस्पताल के सीएमएस डा. अशोक अग्रवाल ने बताया कि बेडों की संख्या 30 की जाएगी। आगरा में 300 से से 400 के बीच कुपोषित बच्चों का आंकड़ा है। फिलहाल पीकू वार्ड पर ज्यादा ध्यान है, पर आने वाले समय में इस केंद्र को भी इन बच्चों के अनुपात में तैयार किया जाएगा। शुक्रवार या शनिवार तक इस केंद्र में 25 बेड चालू कर दिए जाएंगे।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.