दिल्ली

उत्तर प्रदेश

पंजाब

बिहार

उत्तराखंड

हरियाणा

झारखण्ड

राजस्थान

जम्मू-कश्मीर

हिमाचल प्रदेश

पश्चिम बंगाल

ओडिशा

महाराष्ट्र

गुजरात

Vegetables Price: ताजनगरी में टमाटर की लाली हुई सस्ती, फुटकर में आ गया सर्दियों जैसा भाव, मिर्च हुई दाम में मीठी

आगरा में इस समय टमाटर की आवक अच्‍छी है। खेत में टमाटर की पैदावार दिखाता किसान।

छह महीने पहले 80 रुपये किलो तक पहुंच गए थे भाव स‍िकंदरा मंडी में सात रुपये क‍िलो के भाव पर बिक रहा टमाटर। दूसरे राज्‍यों की सीमा पर पुलिस चौकसी के चलते सब्जी उत्पादकों के सामने संकट आ गया है। स्थानीय मंडी में सब्जी की आवक बढ़ी।

Prateek GuptaTue, 18 May 2021 10:38 AM (IST)

आगरा, संजीव जैन। ताजनगरी की स‍िकंदरा फल एंव सब्‍जी मंडी में आवक बढ़ने से टमाटर की लाली सस्ती हो गई है। थोक में टमाटर के भाव छह से सात रुपये प्रति किलो तक चल रहे हैं, जबकि फुटकर बाजार में यह 10 से 15 रुपये प्रति किलो तक बिक रहा है। छह महीने पहले यही टमाटर 80 रुपये किलो तक में बिका था। व्यापारियों का कहना है कि मंडी में प्रतिदिन 850 से 900 क्विंटल तक टमाटर की आवक हो रही है। इस कारण इसके भाव में भी गिरावट हुई है। अच्छी क्‍वालिटी का टमाटर दस रुपये किलो तक है। यदि आवक ऐसी ही रही तो आने वाले दिनों में टमाटर और भी सस्ता हो सकता है, जिसका सीधा फायदा ग्राहकों को मिलेगा।

स‍िकंदरा फल एंव सब्‍जी मंडी में इन दिनों टमाटर की लाली चमक रही है। प्रतिदिन अच्छी आवक हो रही है। आगरा समेत आसपास के जनपदों से टमाटर की आवक मंडी में हो रही है, जहां से आगरा शहरी क्षेत्र के अलावा देहात क्षेत्र में टमाटर बिकने पहुंच रहा है। अच्छी आवक होने के साथ ही इसके भाव में भी गिरावट हुई है। एक महीने में 10 रुपये प्रति किलो तक की कमी आई है। दिसंबर व जनवरी में टमाटर 30 रुपये प्रति किलो तक में मिल रहा था, जबक‍ि फरवर, मार्च में 15 से 20 रुपये प्रत‍ि क‍िलो। अप्रैल माह में 10 से 15 रुपये प्रत‍ि क‍िलो ब‍िका। मई माह का तीसरे सप्‍ताह शुरू होते ही इसके दाम सात रुपये से आठ रुपये प्रति क‍िलो तक पहुंच गए। थोक कारोबारी द‍िलीप कुमार व इमरान की मानें तो अभी टमाटर की आवक की शुरुआत है। आने वाले दिनों में इसकी आवक बढ़ेगी। एक हजार क्विंटल के पार आवक पहुंच जाएगी। इससे इसके भाव में और भी कमी आएगी और आमजनों को भी भाव में राहत मिलेगी।

अन्‍य सब्‍‍िजयों के दाम भी बे-भाव

लाकडाउन का असर है क‍ि राज्‍य के अन्य जिलों के साथ ही दूसरे राज्‍यों की सीमाओं पर पुलिस का कड़ा पहरा है। ऐसे में सब्जी उत्पादकों के सामने संकट आ गया है। सब्जी दूसरे राज्‍यों में न जा पाने के कारण स्थानीय स्तर की मंडी में सब्जी ज्यादा आ रही है। ऐसे में यहां भाव नहीं मिल पा रहा है। क‍िसानों को औने-पौने दामों पर सब्जी बेचने के लिए मजबूर होना पड़ रहा है। प‍िछले कोरोना काल में 30-35 रुपये किलो तक बिकी हरी मिर्च दस रुपये किलो में बिक रही है। थाेक में पांच रुपये किलो पत्ता गोभी और 12 रुपये किलो फूल गोभी थोक में बिक रही है, जबकि पिछले साल गोभी 20 रुपये किलो तक थोक में बिकी थी। चुकंदर पिछले साल कोरोना काल में आढ़तियों ने दिल्ली की मंडियों में भेजी थी, लेकिन इस बार वह नहीं भेज पा रहे हैं। इसलिए चुकंदर के भाव के मंडी में दस रुपये किलो तक के रह गए हैं। व्‍यापारी प्रीतम स‍िंंह, महेद्र का कहना है क‍ि राजस्थान, हरियाणा और मध्यप्रदेश में उत्तर प्रदेश की गाडिय़ों को प्रवेश नहीं करने दिया जा रहा है। कई बार किसानों की सब्जियों से भरी गाड़ी बार्डर से वापस कर दी गई हैं। आगरा में होटल, ढाबे, रेस्टोरेंट और वैवाहिक कार्यक्रम बंद हैं। ऐसेे में सब्जियों के ग्राहक नहीं मिल पा रही है। इसलिए सब्जियों की कीमत हो गई हैं।

फलों के दाम में दोहरा इजाफा

स‍िकंदरा फल मंडी के प्रमुख कारोबारी प्रीतम स‍िंंह व राजेन्‍द्र ने बताया क‍ि लाकडाउन के कारण दिल्ली, मध्‍यप्रदेश से आने वाले फलों की आवक में कमी आई है। ऐसे में फल की आमद कम होने के कारण दाम ज्यादा हैं। असर है कि पहले 100 रुपये किलोग्राम बिकने वाला सेब अब 150-180 रुपये, 50 रुपये बिकने वाला हरा नारियल 70 रुपये बिक रहा है। कीवी के दाम भी 100 रुपये बढ़े हुए हैं। अन्‍य फलों के दाम का भी यही हाल है।

मंडी में मंदी, बाहर ज्यादा दाम

लाकडाउन के कारण स‍िकंदरा फल एंव सब्‍जी मंडी में फुटकर ग्राहक नहीं आ रहा है और केवल फड़ व ठेले वाले फुटकर व्यापारी ही सब्जियां ले रहे हैं। ऐसे में सब्जियों की आपूर्ति ज्यादा है, लेकिन बिक्री कम। इसका फायदा फुटकर विक्रेता उठा रहे हैं और मंडी से सस्ती सब्जी लेकर गली मोहल्लों में मंहगे दाम में बेच रहे हैं। मंडी में सात रुपये प्रत‍ि क‍िलो उपलब्‍ध टमाटर कमला नगर में 20 रुपये, आवास व‍िकास कालोनी में 15 रुपये, बल्‍केश्‍वर में 20 रुपये प्रत‍ि क‍िलो ब‍िक रहा है।

नींबू कर रहा दांत खट्टे

60 रुपए किलो तक बिकने वाला नींबू कोरोना के कारण 100 रुपए प्रति किलो तक बिक रहा है। कहा जा रहा है कि कोरोना वायरस से बचाव में नींबू कारगर है। इस वजह से सब्जी के फुटकर विक्रेताओं ने इसके दाम बढ़ा दिए हैं। वैसे भी, गर्मी में नींबू पानी की डिमांड बढ़ने से इसकी बिक्री ज्यादा रहती है।

फल पहले के दाम, अब दाम

आम 40 50

अनार 60 140

केला 40 60

पपीता 30 50

चीकू 60 100

सेब 100 180

अंगूर 70 120

खरबूजा 10 10

कीवी 180 280

नारियल 50 70

सब्जियों के पहले के दाम, अब दाम

टिंडा 50 30

घीया 10 5

बैंगन 15 10

भिंडी 50 25

करेला 20 20

तोरी 40 10

शिमला मिर्च 20 15

नींबू 80 100

प्याज 20 15

खीरा 15 10

कच्‍चा आम 20 10

सभी भाव प्रत‍ि क‍िलो रुपये में है।

 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.