पिनाहट में बुखार से तीन और बच्चों ने दम तोड़ा

बेकाबू होते जा रहे हालात पिनाहट क्षेत्र में अब तक आठ की मौत

JagranFri, 24 Sep 2021 06:25 AM (IST)
पिनाहट में बुखार से तीन और बच्चों ने दम तोड़ा

जागरण टीम, आगरा। देहात अंचल में बुखार बेकाबू होता जा रहा है। बुधवार को दो बच्चों की मौत के बाद गुरुवार को फिर तीन बच्चों की मौत हो गई। पिनाहट क्षेत्र में बुखार से अब तक आठ की मौत हो चुकी है।

पिनाहट के चांदनी चौक निवासी योगेश की आठ वर्षीय बेटी सुमन को तीन दिन से बुखार था। उसका इलाज कस्बे के ही चिकित्सक के यहां चल रहा था। स्वजन ने बताया कि गुरुवार सुबह आठ बजे सुमन की तबीयत बिगड़ गई। स्वजन फतेहाबाद स्थित अस्पताल पहुंचे, तभी सुमन ने दम तोड़ दिया। पड़ुआपुरा निवासी मदन की चार वर्षीय बेटी नंदिनी को तीन दिन से बुखार था। उसका इलाज फतेहाबाद में चल रहा था। गुरुवार सुबह तबीयत बिगड़ने पर स्वजन नंदिनी को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र लेकर पहुंचे। जहां चिकित्सकों ने मृत घोषित कर दिया। मैदीपुरा, मनसुखपुरा निवासी मनोज की चार वर्षीय बेटी प्रज्ञा की भी गुरुवार को मौत हो गई। उसे दो दिन से बुखार था। अस्पताल ले जाते समय रास्ते में प्रज्ञा ने दम तोड़ दिया। बीते बुधवार को ही अमन (3) राजेंद्र वर्मा निवासी चांदनी चौक, प्राची (नौ माह) पुत्री प्रमोद शर्मा निवासी राटौटी की बुखार से मौत हो गई थी। इससे पूर्व 19 सितंबर को पिनाहट के पूर्व प्रधान रवि पांडेय के 14 वर्षीय बेटे छोटू, 17 सितंबर को सूबेदार पुरा निवासी सतीश की नौ माह की बेटी गायत्री और 11 सितंबर को भावनाथ की ढारि निवासी सुदामा के 14 वर्षीय बेटे वीकेश की मौत हो चुकी है। गुरुवार को तीन बच्चों की बुखार से मौत की जानकारी संज्ञान में है। जिन गांवों में बुखार फैला हुआ है, वहां स्वास्थ्य शिविर आयोजित कर मरीजों की जांच व दवाएं दी जा रही हैं।

डा. विजय कुमार, सीएचसी अधीक्षक इन गांवों में फैला हुआ है बुखार

पिनाहट, हुसैनपुरा, उटसाना, चचिहा, भावनाथ की ढारि, कांकरखेड़ा, पिढ़ौरा, मनसुखपुरा, सेहा। जैतपुर में झोलाछाप के इलाज से जच्चा-बच्चा की मौत

जागरण टीम, आगरा। झोलाछाप के जानलेवा इलाज ने प्रसूता और नवजात शिशु की जान ले ली। स्वजन ने उसके खिलाफ थाने में तहरीर दी है। वहीं स्वास्थ्य टीम ने झोलाछाप का क्लीनिक सील कर दिया।

जैतपुर के उधन्नपुरा निवासी दशहरी लाल की बेटी सुमन (23) का विवाह दिसंबर, 2020 को चित्राहाट के गांव सूरजनगर निवासी संजीव से हुआ था। दशहरी लाल ने बताया कि गुरुवार सुबह प्रसव पीड़ा होने पर सुमन को जैतपुर में स्थित एक झोलाछाप के यहां भर्ती कराया गया। आरोप है कि शाम चार बजे सुमन ने मृत बच्चे को जन्म दिया। इसके बाद सुमन को ब्लीडिंग होने लगी। यह देख झोलाछाप के हाथ पांव फूल गए। उसने सुमन को आगरा रेफर कर दिया। दशहरी लाल ने बताया कि रास्ते में सुमन ने भी दम तोड़ दिया। इधर, जानकारी पर सीएचसी अधीक्षक डा. जितेंद्र वर्मा पुलिस बल के साथ पहुंचे और क्लीनिक को सील करा दिया। मृतका के पिता ने थाने में तहरीर देकर झोलाछाप के विरुद्ध मुकदमा दर्ज कराने की मांग की।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.