Tax Officer Arrest: लूट का आरोपित वाणिज्‍य कर अफसर हाथ आया, अब आगरा पुलिस दूसरे की तलाश में जुटी

Tax Officer Arrest मथुरा के कारोबारी काेे डरा धमकाकर लूटे थे 40 लाख से अधिक रुपये। एसटीएफ और लोहामंडी पुलिस ने ईदगाह बस स्टैंड से किया गिरफ्तार। 50 हजार के इनामी के घर की कुर्की की तैयारी कर रही थी पुलिस।

Prateek GuptaWed, 15 Sep 2021 11:37 AM (IST)
वाणिज्‍य कर के इन दो फरार अफसरों में से एक अजय कुमार को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है।

आगरा, जागरण संवाददाता। चांदी कारोबारी से लूट के आरोपित वाणिज्यकर विभाग के निलंबित असिस्टेंट कमिश्नर अजय कुमार को मंगलवार को एसटीएफ और लोहामंडी पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। आरोपित पर 50 हजार का इनाम घोषित था और पुलिस कुर्की की तैयारी कर रही थी। चार माह से वह पुलिस को चकमा देकर फरार चल रहे थे।

मथुरा के गोविंद नगर निवासी चांदी कारोबारी प्रदीप अग्रवाल ने 30 अप्रैल को वाणिज्यकर विभाग के अधिकारियों पर 43 लाख रुपये लूटने का आरोप लगाया था। इस मामले में लोहामंडी थाने में भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम, लूट व अन्य धाराओं में मुकदमा दर्ज हुआ था, जिसमें नामजद कांस्टेबल संजीव कुमार और चालक दिनेश को पुलिस गिरफ्तार कर जेल भेज चुकी है। मामले में नामजद वाणिज्यकर विभाग के निलंबित असिस्टेंट कमिश्नर अजय कुमार और वाणिज्यकर अधिकारी शैलेंद्र कुमार फरार चल रहे थे। दोनों की गिरफ्तारी के पुलिस ने बहुत प्रयास किए, लेकिन वे हाथ नहीं आए हैं। इन पर 50-50 हजार रुपये का इनाम घोषित हो चुका था। पुलिस दोनों के खिलाफ कुर्की पूर्व की कार्रवाई कर चुकी है। अजय कुमार लखनऊ के इंदिरा नगर के मूल निवासी हैं और आगरा में फिनिक्स पुष्पविला गार्डेनिया अपार्टमेंट में रहते थे। मंगलवार को पुलिस ने एसटीएफ लखनऊ की टीम और लोहामंडी थाना पुलिस ने अजय कुमार को ईदगाह बस स्टैंड से गिरफ्तार कर लिया। पुलिस के अनुसार, आरोपित बस से कहीं भागने की तैयारी में थे। आरोपित के कब्जे से लूट की रकम में से एक लाख रुपये, एक प्लेटिनम कार्ड, पांच मोबाइल, एक आधार कार्ड, एक कार की चाबी बरामद हुई है।

छह राज्यों में काटी फरारी

पुलिस के अनुसार, आरोपित अजय कुमार अपनी कार सिकंदरा क्षेत्र में स्थित अपार्टमेंट की पार्किंग में ही खड़ी छोड़ गए थे। गिरफ्तारी के बाद आरोपित ने बताया कि वह दिल्ली, हिमाचल प्रदेश, राजस्थान, पंजाब, मध्यप्रदेश और महाराष्ट्र में अपने परिचितों के यहां ठहरता रहा था। पुलिस से बचने के तरीके उन्हें पता थे। फरारी के दौरान अपने स्वजन या करीबियों से अपने फोन से कभी बात नहीं की। उनकी गाड़ी भी इस्तेमाल नहीं की। अधिकतर सफर बस और ट्रेन से किया था।

कोर्ट में समर्पण को दिया था प्रार्थना

आरोपित अजय कुमार और शैलेंद्र ने कोर्ट में समर्पण को प्रार्थना पत्र दिया था। इस पर कोर्ट ने पिछले दिनों आगरा पुलिस से आख्या मांगी थी। इस पर सुनवाई को 16 सितंबर नियत थी। इससे पहले ही एसटीएफ और पुलिस टीम ने आरोपित को दबोच लिया।

शैलेंद्र की गिरफ्तारी को बिछाया जाल

लूट के मामले में अभी मूलरूप से चंदौली के रहने वाले शैलेंद्र सिंह फरार हैं। उनकी गिरफ्तारी को भी पुलिस लगातार दबिश दे रही है। अभी तक हाथ नहीं आए हैं। शैलेंद्र के घर की कुर्की की पुलिस तैयारी कर रही है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.