Taj Unlocked: 188 दिन के बाद ताजमहल और किले का खुल रहा ताला, घूमने के लिए बने नियम

Taj Unlocked: 188 दिन के बाद ताजमहल और किले का खुल रहा ताला, घूमने के लिए बने नियम
Publish Date:Sun, 20 Sep 2020 11:11 AM (IST) Author: Prateek Gupta

आगरा, निर्लोष कुमार। आगरा में पर्यटकों के लिए आकर्षण का मुख्य केंद्र ताजमहल और आगरा किला सोमवार से खुल जाएंगे। इसके साथ ही ताजमहल में 17 मार्च से पसरा सन्नाटा टूटेगा। स्मारक में एक बार फिर 'वाह ताज' बोलते सैलानी नजर आएंगे। ताजमहल खुलने पर कारोबारियों को पर्यटन कारोबार में रौनक लौटने की उम्मीद है।

आगरा में स्मारक 17 मार्च को बंद हो गए थे। जिला प्रशासन की अनुमति के बाद ताजमहल व आगरा किला को छोड़कर अन्य सभी स्मारक एक सितंबर से खोल दिए गए थे। अब ताजमहल और आगरा किला सोमवार से खुल जाएंगे। एक दिन में ताजमहल में अधिकतम पांच हजार और आगरा किला में 2500 पर्यटकों को ही प्रवेश मिलेगा। दोनों स्मारकों पर टिकट विंडो बंद रहेंगी। पर्यटकों को एएसआइ की वेबसाइट से ऑनलाइन टिकट बुक करनी होगी। स्मारकों पर क्यूआर कोड को स्कैन कर भी वो टिकट ले सकेंगे। अधीक्षण पुरातत्वविद वसंत कुमार स्वर्णकार ने बताया कि ताजमहल और आगरा किला को खोलने की सभी तैयारियां पूरी हो चुकी हैं। स्मारकों में स्टैंडर्ड ऑपरेटिंग प्रोसीजर (एसओपी) का पालन सुनिश्चित कराया जाएगा।

188 दिन की बंदी का बनेगा रिकॉर्ड

ताजमहल और आगरा किला 21 सितंबर को खुलेंगे तो 188 दिन की बंदी का नया रिकॉर्ड बनेगा। दोनों स्मारकों के संरक्षित घोषित होने के बाद से यह बंदी का नया रिकॉर्ड होगा। ताजमहल इससे पूर्व भारत-पाकिस्तान युद्ध, 1971 के दौरान चार से 18 दिसंबर तक 15 दिन बंद रहा था। दूसरी बार इसे सितंबर, 1978 में यमुना में बाढ़ आने पर सुरक्षा की दृष्टि से बंद किया गया था। आगरा किला पहली बार बंद हुआ है।

सीआइएसएफ करेगी स्पर्श मुक्त सुरक्षा जांच

केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (सीआइएसएफ) द्वारा पर्यटकों को स्मारक में प्रवेश देने से पूर्व स्पर्श मुक्त सुरक्षा जांच की जाएगी। जरूरत महसूस होने पर ही हाथों से छूकर पर्यटकों की सुरक्षा जांच की जाएगी।

एसओपी के अनुसार लागू होगी व्यवस्था

-स्मारकों पर टिकट विंडो बंद रहेंगी। प्रवेश ऑनलाइन टिकट से ही होगा।

-पार्किंग समेत सभी भुगतान डिजिटल पैमेंट से करने होंगे।

-पर्यटकों के लिए शारीरिक दूरी का पालन करना और फेस मास्क लगाना अनिवार्य होगा।

-पर्यटकों को दीवारों व रेलिंग से दूर रहना होगा।

-शू कवर, पानी की बाेतल, टिश्यू पेपर आदि उन्हें डस्टबिन में डालने होंगे।

-स्मारक में प्रवेश से पूर्व पर्यटकों की थर्मल स्क्रीनिंग की जाएगी। बिना लक्षण वाले ही प्रवेश पा सकेंगे।

-स्मारकों पर रजिस्टर में सभी पर्यटकों का विवरण दर्ज किया जाएगा।

-एएसआइ स्मारक के किसी भी अांतरिक भाग में प्रवेश रोक सकेगा।

-स्मारक में ग्रुप फोटोग्राफी की इजाजत नहीं होगी।

-वैध लाइसेंसधारक गाइड ही स्मारक में प्रवेश कर सकेंगे।

-ताजमहल में फोटोग्राफरों को चार ग्रुपों में बांटा गया है, जिससे एक दिन छोड़कर फोटोग्राफर का नंबर आएगा।

मुख्य मकबरे में एक बार में पांच सैलानियों को मिलेगा प्रवेश

ताजमहल में शहंशाह शाहजहां और मुमताज की कब्रों को सैलानी देख सकेंगे। भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआइ) मुख्य मकबरे में स्थित कब्रों वाले कक्ष में एक बार में पांच सैलानियों को प्रवेश देगा। अन्य को बाहर रोककर इंतजार करने को कहा जाएगा। म्यूजियम भी पर्यटकों के लिए खुला रहेगा।

ताजमहल में मुख्य मकबरे में स्थित शाहजहां और मुमताज की कब्रों वाले कक्ष का प्रवेश द्वार संकरा है। कुछ ऐसी ही स्थिति पश्चिमी जल महल में संचालित म्यूजियम की भी है। यहां शारीरिक दूरी के नियम का पालन कराने में बाधा आ सकती है। एएसआइ के आगरा सर्किल ने दिल्ली मुख्यालय को इस समस्या से अवगत कराते हुए पांच-पांच के ग्रुप में पर्यटकों को प्रवेश देने का सुझाव दिया था। शुक्रवार को दिल्ली में हुई बैठक में अधिक पर्यटकों के नहीं आने को ध्यान में रखते हुए एएसआइ के प्रस्ताव पर सहमति बनी। वहीं, ताजमहल में पूर्वी व पश्चिमी गेट, फोरकोर्ट, सेंट्रल टैंक व मुख्य मकबरे पर फोटोग्राफरों, गाइडों और पर्यटकों के लिए दिशा-निर्देशों से संबंधित बोर्ड, फ्लैक्स, स्टैंडी आदि लगाए गए हैं। मुख्य मकबरे पर सुरक्षाकर्मियों के निर्देशों का पालन करने और सेंट्रल टैंक पर अपनी बारी का इंतजार करने का आग्रह करते हुए बोर्ड लगाए गए हैं। वहीं, पूर्वी व पश्चिमी गेट के अंदर व बाहर शारीरिक दूरी का पालन कराने को एएसआइ ने गोले बनवा दिए हैं। अधीक्षण पुरातत्वविद वसंत कुमार स्वर्णकार ने बताया कि मुख्य मकबरे में एक बार में पांच सैलानियाें को प्रवेश दिया जाएगा। म्यूजियम भी खुला रहेगा।

ताजमहल और आगरा किला को खोलने का निर्णय अच्छा कदम है। इससे शहर के पर्यटन कारोबार में रौनक लौटने की उम्मीद जगी है। ताजमहल खुलने पर यहां आसपास के लोगों का घूमने आना शुरू हो जाएगा, जिससे हाेटल और रेस्टोरेंट को काम मिलेगा। लोगों को रोजगार मिलेगा।

-हरी सुकुमार, अध्यक्ष टूरिज्म गिल्ड ऑफ आगरा

ताजमहल का खुलना अच्छा संकेत है। छह माह से निराशा में डूबे पर्यटन कारोबार से जुड़े लोगों को इससे एक उम्मीद की किरण नजर आई है। पर्यटकों को सुरक्षित महसूस कराने को संबंधित विभागों को अपनी जिम्मेदारी सही से निभानी चाहिए, जिससे खामियां रहने पर नकारात्मक संदेश न जाए।

-सुनील गुप्ता, चेयरमैन नोर्दर्न रीजन, इंडियन एसोसिएशन ऑफ टूर ऑपरेटर्स

ताजमहल व आगरा किला को पहले ही खोल देना चाहिए था। यहां अभी अधिक पर्यटक नहीं आएंगे, लेकिन ताजमहल खुलने पर निराशा का माहौल बदलेगा। उद्योग को काेरोना के संकट से उबरने में समय लगेगा। इंटरनेशनल फ्लाइट और पर्यटन वीजा सर्विस की शुरुआत सरकार को शीघ्र करनी चाहिए।

-सुमित उपाध्याय, टूर ऑपरेटर

ताजमहल खुलने से पर्यटन उद्योग को आस जगी है। छह माह से पर्यटन कारोबार से जुड़े लोग ताजमहल बंद होने से काम-धंधा नहीं होने से परेशान थे। ताजमहल में अभी भले ही कम पर्यटक आएंगे, लेकिन लोगों काे रोजगार मिलना शुरू हो जाएगा। दुनिया में भी इससे अच्छा संदेश जाएगा।

-अमित दत्ता, गाइड

 

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.