Murder Case in Agra: आगरा में पिता की हत्या में दोषी पुत्र और बहू को आजीवन कारावास की सजा

Murder Case in Agra फतेहपुर सीकरी की वर्ष 2009 की घटना गाड़ी में डालकर ले गए थे आरोपित। दो दिन बाद नदी में मिली थी लाश दर्ज हुआ था अपहरण व हत्या का मुकदमा। फतेहपुर सीकरी के बमनपुरा गांव निवासी विमलेश ने थाने पर मुकदमा दर्ज कराया था।

Tanu GuptaFri, 26 Nov 2021 06:30 PM (IST)
फतेहपुर सीकरी की वर्ष 2009 की घटना

्आर गरा, जागरण संवाददाता। पिता को अगवा कर उनकी हत्या में दोषी पुत्र और बहू को अदालत ने अाजीवन कारावास की सजा सुनाई है।पुत्र अपनी पत्नी की मदद से पिता को जबरन गाड़ी में डालकर ले गया था। विरोध करने पर स्वजन से मारपीट की थी। दो दिन बाद पिता का शव नदी में मिला था।

घटना 29 अक्टूबर 2009 की है। फतेहपुर सीकरी के बमनपुरा गांव निवासी विमलेश ने थाने पर मुकदमा दर्ज कराया था। विमलेश का आरोप था कि उसके ससुर देवी सिंह 20 अक्टूबर को शौच के लिए खेत पर गए थे। रास्ते में देवी सिंह के पुत्र तेजवीर सिंह उर्फ सूखा, बहू राजकुमारी व उसके पुत्र विष्णु उर्फ दीपू ने उनसे मारपीट की। देवी सिंह को बेहोशी की हालत में आरोपित जीप में डालकर ले जाने लगे।

जानकारी होने पर वादिनी उसके पुत्र व ग्रामीणों ने आरोपितों को रोकने का प्रयास किया। जिस पर तेजवीर सिंह के साथ आए आधा दर्जन लोगों ने हथियारों के दम पर धमकी दी। ससुर देवी सिंह और बीच में आने वालों को जान से मारने की कहा। एक नवंबर को देवी सिंह का शव खारी नदी में मिला। पुलिस ने मृतक के पुत्र तेजवीर सिंह, बहू राजकुमारी के खिलाफ अपहरण, हत्या व साक्ष्य नष्ट करने के आरोप में मुकदमा दर्ज किया था।

दोनों के खिलाफ आरोप पत्र अदालत में दाखिल किया था। अभियाेजन ने वादिनी समेत आठ गवाह अदालत में पेश किए। मुकदमे के विचारण के दौरान अपर जिला जज रवि करण सिंह ने वादिनी के वरिष्ठ अधिवक्ता अरविंद शर्मा के तर्क के आधार पर आरोपितों तेजवीर सिंह व राजकुमारी को दोषी पाते हुए आजीवन कारावास की सजा सुनाई। इसके साथ ही दोनों को डेढ़ लाख रुपये के अर्थदंड से दंडित किया। 

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.