पदाधिकारी का चल रहा एकाधिकार, जनकपुरी में हो रहा सौतेला व्यवहार

आगरा(जेएनएन): जनकपुरी आयोजन इस बार जंग का मैदान बनता जा रहा है। कभी जनकपुरी विकास समिति के पदाधिकारियों की आपसी रार, तो कभी जनता का आक्रोश।

बुधवार की सुबह क्षेत्रीय जनता का आक्रोश विकास कार्यो के खिलाफ फूट पड़ा। लोग समिति के पदाधिकारी और विधायक के खिलाफ नारेबाजी करते हुए धरने पर बैठ गए। लोगों का आरोप था कि जनकपुरी विकास कार्यो में क्षेत्र के ही अधिकांश इलाकों को अनदेखा किया जा रहा है। बाहरी क्षेत्र तक में विकास कार्य हो रहे हैं लेकिन जनकपुरी आयोजन से आस लगाई जनता बदहाली में ही जीने को मजबूर है।

बुधवार सुबह विजय नगर स्थित राधा कृष्ण मंदिर में आसपास की बस्तियों में रहने वाले लोग एकत्र हो गए। जनकपुरी विकास समिति के पदाधिकारी सुनील जैन और दोनों क्षेत्रीय पार्षदों धर्मवीर व नेहा गुप्ता का घेराव किया। लोगों का कहना था कि क्षेत्र के साथ सौतेला व्यवहार किया जा रहा है। इसे तत्काल रोकना चाहिए। हंगामे की सूचना पर मेयर नवीन जैन मौके पर पहुंच गए। उन्होंने लोगों को सांत्वना दी कि क्षेत्र उपेक्षा का शिकार नहीं होगा। उधर क्षेत्रीय पार्षद धर्मवीर ने आरोप लगाया है कि विकास समिति के कुछ पदाधिकारी और विधायक कुछ इलाकों में विकास नहीं होने दे रहे।

बता दें कि इस बार जनकपुरी विजय नगर कॉलोनी में सजेगी। जनकपुरी में विकास कार्यो के लिए बने प्रस्तावों व टेंडर पर सवाल खड़ा हो गया है। जनकपुरी से बाहर के क्षेत्रों में विकास कार्यो के प्रस्ताव तैयार कर टेंडर किए गए हैं। इन्हें निरस्त करने की मांग करते हुए कमिश्नर, एडीएम सिटी, अध्यक्ष मंडल व अन्य अधिकारियों से शिकायत की गई है। इस बार जनकपुरी का क्षेत्र राष्ट्रीय राजमार्ग-2, सुल्तानगंज की पुलिया से पालीवाल पार्क चौराहा, यहां से ¨रग रोड, विनायक अपार्टमेंट और वहां से राष्ट्रीय राजमार्ग-2 सुल्तानगंज पुलिया तक है। यहां सड़क, नाली, इंटरलॉकिंग टाइल्स के काम लोक निर्माण विभाग, नगर निगम, उप्र आवास विकास परिषद, आगरा विकास प्राधिकरण द्वारा कराए जाने हैं।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.