दिल्ली

उत्तर प्रदेश

पंजाब

बिहार

उत्तराखंड

हरियाणा

झारखण्ड

राजस्थान

जम्मू-कश्मीर

हिमाचल प्रदेश

पश्चिम बंगाल

ओडिशा

महाराष्ट्र

गुजरात

आगरा के ISBT के आस-पास अनाधिकृत बसों का कब्जा, नहीं होती कोई कार्रवाई

सर्विस रोड पर ये बसें जमकर सवारियां भरती हैं।

हाईवे पर लगा रहता जाम सर्विस रोड कर देते हैं बंद। आगरा संभाग में कुल 613 बसों काे परमिट जारी हुआ है जिसमें से आगरा से विभिन्न रूटों पर चलने वाली 323 बसें है। हाईवे के निकट बसें सवारियां भरती हैं। कई बार उन पर कार्रवाई कराई गई है।

Tanu GuptaTue, 13 Apr 2021 01:41 PM (IST)

आगरा, जागरण संवाददाता। अनाधिकृत बसों का आइएसबीटी के निकट सड़क पर और कुछ दूर स्थित हाईवे पर कब्जा है। परिसर से हाईवे की ओर आने वाले रास्ते और हाईवे से गुरुद्वारा गुरु का ताल की ओर जाने वाली सर्विस रोड पर ये बसें जमकर सवारियां भरती हैं। इन्हें रोकने वाले जिम्मेदारों ने आंखें मूंद रखी हैं। जाम के कारण आए दिन विवाद होता है, लेकिन कोई समाधान नहीं हो पा रहा है।

आगरा संभाग में कुल 613 बसों काे परमिट जारी हुआ है, जिसमें से आगरा से विभिन्न रूटों पर चलने वाली 323 बसें है। अनाधिकृत बसों ने भगवान टाकीज चौराहा फ्लाईओवर के निकट, वाटर वक्र्स चौराहा, रामबाग चौराहा, टेढ़ी बगिया, बिजली घर चौराहा, ईदगाह डिपो के निकट, कुबेरपुर पर ठिकाना बना रखा है। आइएसबीटी के पास सर्वाधिक बुरा हाल है। यहां से कुछ दूरी पर ही अनाधिकृत वाहनों पर लगाम लगाने वाले परिवहन विभाग का कार्यालय है। संबंधित अधिकारी इन बसों के कारण लगे जाम से जूझते हैं, लेकिन कार्रवाई करने को तैयार नहीं है। पिछले दिनों परिवहन निगम की टीम ने राजस्व को नुकसान पहुंचा रही इन बसों के विरुद्ध अपने स्तर से अभियान चलाया। बसों को पकड़ परिवहन विभाग के अधिकारियों को सूचना दी गई। इसके बाद भी कई बार संबंधित अधिकारी नहीं पहुंचे। आइएसबीटी के निकट से सवारियां भरने वाली ये बसें कोविड-19 के नियम भी तार-तार कर रही हैं। बसों में सवारियों को बेहिसाब भर लिया जाता है। मास्क न चालक, परिचालक लगाए होते हैं और अधिकतर सवारियों का भी कुछ ऐसा ही हाल होता है। एआरएम जयकरन ने बताया कि परिसर के आस-पास बसों को नहीं खड़ा होने दिया जाता है। हाईवे के निकट बसें सवारियां भरती हैं। कई बार उन पर कार्रवाई कराई गई है। 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.