PNG: बिना अनुमति आगरा में पीएनजी की खोदी जा रही थी लाइन, हंगामा

आवास विकास सेक्टर-सात में महिलाओं ने जताई नाराजगी। ग्रीन गैस लिमिटेड की टीम पर लगाए अभद्रता के आरोप। क्षेत्रीय लोगों ने कार्य की अनुमति दिखाने को कहा तो टीम वह भी नहीं दिखा सकी। नगर निगम की टीम ने मौके पर पहुंच कार्य रुकवा दिया।

Nirlosh KumarThu, 23 Sep 2021 03:01 PM (IST)
बिना अनुमति के पीएनजी की लाइन डालने को कर रहे थे खोदाई।

आगरा, जागरण संवाददाता। बारिश के दौरान ग्रीन गैस लिमिटेड की टीम पाइप्ड नेचुरल गैस (पीएनजी) के लिए आवास विकास में गड्ढे खोद रही थी, इसको लेकर क्षेत्रीय महिलाओं ने विरोध जताया तो टीम के सदस्यों ने अभद्रता कर दी। इसके बाद क्षेत्रीय लोगों ने हंगामा कर दिया और नगर निगम को सूचना दे दी। क्षेत्रीय लोगों ने कार्य की अनुमति दिखाने को कहा तो टीम वह भी नहीं दिखा सकी। नगर निगम की टीम ने मौके पर पहुंच कार्य रुकवा दिया।

आवास विकास सेक्टर-7 में बुधवार को ग्रीन गैस लिमिटेड की टीम ने खोदाई शुरू की तो क्षेत्रीय लोगों ने बारिश में किसी हादसे की आशंका जताई। क्षेत्रीय निवासी मोहन बंसल ने बताया कि ग्रीन गैस लिमिटेड की टीम महिलाओं से अभद्रता करने लगी, जिस कारण पार्षद सुषमा जैन को सूचना दी गई। उन्होंने नगर निगम अधिकारियों को स्थिति से अवगत कराया। मौके पर नगर निगम निर्माण विभाग के सुपरवाइजर सत्येंद्र यादव पहुंचे। उन्होंने ठेकेदार की ओर से मौजूद अजित यादव नामक व्यक्ति से अनुमति मांगी तो वह दिखा नहीं सका। बिना अनुमति बारिश में खोदाई कार्य रुकवा दिया गया। क्षेत्रीय लोगों ने बताया कि नगर निगम की टीम के जाने के बाद फिर खोदाई शुरू कर दी गई। पार्षद के साथ क्षेत्रीय लोगा मेयर नवीन जैन और नगर आयुक्त निखिल टीकाराम से मामले की शिकायत करेंगे।

ग्रीन गैस लिमिटेड के मीडिया समन्वयक विनय भारद्वाज ने बताया कि मामला संज्ञान में नहीं है। क्षेत्रीय ठेकेदार से बात की जाएगी। अगर वहां टीम ने कोई अभद्र व्यवहार किया है तो कठोर कार्रवाई की जाएगी। सभी ठेकेदारों को नियम के तहत कार्य करने के निर्देश दिए गए हैं।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.