चंबल नदी के घाट पर दो माह बाद शुरू हुआ पैंटून पुल

चंबल नदी के घाट पर दो माह बाद शुरू हुआ पैंटून पुल

यूपी और एमपी की सीमा को जोड़ने वाले इस पुल के बनने से 125 गांवों के लोगों को होगा फायदा अभी दोपहिया वाहनों को ही निकलने की दी गई है अनुमति

Publish Date:Fri, 27 Nov 2020 06:05 AM (IST) Author: Jagran

जेएनएन, आगरा। चंबल नदी के पिनाहट घाट पर दो माह की देरी के बाद गुरुवार शाम से पैंटून पुल संचालन शुरू हो गया। इससे क्षेत्रीय ग्रामीणों को राहत मिली है।

चंबल नदी पर बने इस पैंटून पुल पर उत्तर प्रदेश और मध्यप्रदेश के करीब 125 गांवों के लोगों का प्रतिदिन आवागमन होता है। इस वर्ष पीडब्ल्यूडी और वन विभाग की आपसी खींचतान की वजह से यह दो माह बाद शुरू हो सका है। इससे क्षेत्रीय लोगों को काफी मुश्किल हो रही थी। उन्हें अतिरिक्त चक्कर लगाकर पहुंचना पड़ रहा था लेकिन अब उनका आवागमन सुगम हो जाएगा। गुरुवार शाम को पुल के चालू होते ही दोपहिया वाहन और पैदल लोगों का आवागमन शुरू हो गया। पीडब्ल्यूडी के जेई बीके पाडेय ने बताया कि एक सप्ताह के अंदर पुल पर बैरीकेडिंग, रंगाई-पुताई आदि सभी काम पूरे कर लिए जाएंगे। फिलहाल यहां से दोपहिया वाहनों को निकलने की ही अनुमति दी गई है। धमौटा में पेयजल संकट गहराया

जेएनएन, आगरा। सदर तहसील की पूर्वी सीमा पर बसे फतेहाबाद के धमौटा गाव में पानी की पाइप लाइन फट जाने से एक सप्ताह से पेयजल संकट पैदा हो गया है। ग्रामीण टैंकरों से पानी खरीदने को मजबूर हैं। एक वर्ष पूर्व नौ करोड़ रुपये की लागत से ओवरहेड टैंक का निर्माण कराया गया था। इससे कुंडौल, धमौटा और बिसारना के ग्रामीणों को पाइप लाइन के माध्यम से पानी मिल रहा था। पिछले दिनों यह पाइप लाइन फट गई। इस संबंध में भटपुरा निवासी सत्येंद्र लवानिया ने संपूर्ण समाधान दिवस में शिकायत की लेकिन समस्या का समाधान अब तक नहीं हो सका है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.