पैंटून पुल पर आवागमन शरू, दो दिन बाद दौड़ेगे वाहन

चंबल नदी के पिनाहट घाट पर पैंटूल पुल का निर्माण कार्य हुआ पूरा विभाग की लापरवाही के चलते डेढ़ माह की देरी से हुआ कार्य

JagranTue, 30 Nov 2021 06:10 AM (IST)
पैंटून पुल पर आवागमन शरू, दो दिन बाद दौड़ेगे वाहन

जागरण टीम, आगरा। चंबल नदी घाट स्थित पैंटूल पुल निर्माण कार्य पूरा होने के बाद पैदल यात्रियों के लिए खोल दिया गया। वहीं दोपहिया वाहन चालक गर्डरों से जान जोखिम में डालकर गुजर रहे हैं। दो दिन बाद वाहनों के लिए पुल चालू होने की संभावना है।

चंबल नदी के पिनाहट घाट पर उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश को जोड़ने के लिए लोक निर्माण विभाग द्वारा पैंटूल पुल बनवाया जाता है। 15 अक्टूबर से 15 जून तक इस पुल से ही दोनों राज्यों के लोग आवागमन करते हैं। बरसात के दिनों में स्टीमर के माध्यम से लोग नदी पार करते हैं। इस वर्ष लोक निर्माण विभाग की लापरवाही के चलते डेढ़ माह की देरी से पुल निर्माण कार्य चालू कराया गया। अब पैंटून पुल कार्य लगभग पूरा हो चुका है। मंगलवार व बुधवार तक पुल चालू होने की संभावना जताई जा रही है। जलमग्न फसलों के नुकसान का लिया जायजा

जागरण टीम, आगरा। फतेहपुर सीकरी के गांव बदनपुर में माइनर ओवरफ्लो होने से गेहू के खेत जलमग्न हो गए। भारतीय किसान संघ के पूर्व प्रांत अध्यक्ष मोहन सिंह चाहर व जिलाध्यक्ष देवेंद्र सिंह लोधी ने गांव पहुंचकर नुकसान का जायजा लिया। किसानों ने बताया कि माइनर की सफाई न होने की वजह से माइनर ओवरफ्लो हो गई। किसान नेता ने एसडीएम से बात की और क्षति आंकलन करने को कोई अधिकारी कर्मचारी के नहीं पहुंचने पर नाराजगी जताई। उन्होंने जल्द क्षति आंकलन कराकर प्रभावित किसानों को मुआवजा देने की मांग की। उन्होंने कहा कि माइनर की सफाई नहीं की गई है। घास जमी होने से पानी रुक गया। विभाग की लापरवाही का खामियाजा किसानों को भुगतना पड़ा। आक्रोशित किसानों ने नहर विभाग के अधिशासी अभियंता व सहायक अभियंता के विरुद्ध लापरवाही बरतने के कारण फसल नष्ट होने का आरोप लगाते हुए थाना पुलिस को तहरीर दी है। प्रभारी निरीक्षक जय श्याम शुक्ल ने बताया दोनों नामित अधिकारी सरकारी कर्मचारी हैं। अग्रिम कार्रवाई के लिए एसडीएम से बात की जाएगी।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.