Water Crisis in Agra: आगरा में आधे यमुनापार और पुराने शहर में सुबह नहीं हुई जलापूर्ति

Water Crisis in Agra आगरा के जीवनी मंडी वाटरवर्क्स परिसर में शुक्रवार सुबह 28 इंच की पानी की लाइन में हुआ लीकेज। आज शाम को हो सकती है जलापूर्ति जल संस्थान की टीम कर रही लाइन की मरम्मत।

Tanu GuptaSat, 24 Jul 2021 01:57 PM (IST)
शुक्रवार सुबह 28 इंच की पानी की लाइन में हुआ लीकेज।

आगरा, जागरण संवाददाता। शनिवार सुबह आधे यमुनापार और पुराने शहर में जलापूर्ति नहीं हुई। इससे लोगों को दिक्कतों का सामना करना पड़ा। शिकायतों के बाद जल संस्थान की टीम ने टैंकरों से पानी की आपूर्ति की।

जीवनी मंडी वाटरवर्क्स से आधे शहर को जलापूर्ति होती है। इसकी क्षमता 225 एमएलडी की है। वर्तमान में वाटरवर्क्स को 135 एमएलडी पर चलाया जा रहा है। गंगाजल की आपूर्ति की जाती है। गंगाजल की कमी होने पर यमुनाजल की आपूर्ति होती है। वाटरवर्क्स से 28 इंच की चार लाइनें गुजरी हैं। इसमें से एक लाइन पुराने शहर और आधे यमुनापार को पानी की आपूर्ति करती है। शुक्रवार सुबह सात बजे लाइन में लीकेज हो गया। इससे लाखों लीटर पानी बहने लगा। यह देखकर जल संस्थान की टीम ने एक पंप को बंद कर दिया। इससे आधे यमुनापार और पुराने शहर में जलापूर्ति ठप हो गई। इसमें प्रमुख रूप से गधापाड़ा, काला महल, पीपलमंडी, बेलनगंज, छीपीटोला, नौलक्खा, ताजगंज शामिल हैं। जल संस्थान के महाप्रबंधक आरएस यादव ने बताया कि लाइन के ठीक ऊपर से स्मार्ट सिटी की 1200 एमएम की लाइन गुजरी है। इससे मरम्मत में दिक्कत आ रही है। छह माह के बाद दूसरी बार लाइन में लीकेज हुआ है।

हैंडपंप पड़े हैं खराब

पीपलमंडी, कालामहल, बेलनगंज, सुभाष बाजार सहित अन्य क्षेत्रों में हैंडपंप खराब पड़े हुए हैं। शिकायतों के बाद भी हैंडपंपों की मरम्मत नहीं कराई जा रही है।

स्मार्ट सिटी प्रशासन की लापरवाही

पार्षद रवि माथुर का कहना है कि स्मार्ट सिटी प्रशासन की लापरवाही के चलते 28 इंच की लाइन की मरम्मत समय पर शुरू नहीं हो सकी है। डक्ट तोड़ने में चार घंटे का समय लगा है।

1200 एमएम की लाइन बिछाने का कार्य बंद 

आगरा स्मार्ट सिटी प्रा. लि. द्वारा 143 करोड़ रुपये से जीवनी मंडी वाटरवर्क्स से ताजगंज तक 1200 एमएम की लाइन बिछाई जा रही है। पहले चरण में वाटरवर्क्स से जीवनी मंडी पुलिस चौकी तक, दूसरे चरण में पुरानी मंडी तिराहा से शाहजहां पार्क तक, तीसरे चरण में जीवनी मंडी पुलिस चौकी से आंबेडकर पुल तक लाइन बिछ चुकी है। चौथे चरण में शाहजहां पार्क से झलकारी बाई चौराहा और पांचवें चरण में आंबेडकर पुल से झलकारी बाई चौराहा तक लाइन बिछाने का कार्य चल रहा है। आंबेडकर पुल से झलकारी बाई चौराहा तक लाइन बिछाने के दौरान कई पेड़ों को नुकसान पहुंचाया गया। इसके चलते वन विभाग की टीम ने स्मार्ट सिटी के एक अफसर सहित पांच के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया गया जा चुका है। वन विभाग की आपत्ति के बाद काम रोक दिया गया है। स्मार्ट सिटी प्रा. लि. के सीईओ निखिल टीकाराम ने बताया कि वन विभाग से अनापत्ति प्रमाण पत्र लेने के बाद काम शुरू हुआ था। पेड़ों को जो नुकसान पहुंचाया गया है, उसके लिए ठेकेदार पर जुर्माना लगाने के लिए कहा गया है। काम फिर से चालू हो, इसकी मांग की गई है।

 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.