Indian Railway: कोहरे ने रोकी ट्रेनों की रफ्तार, शताब्दी एक घंटा व पंजाब मेल ढाई घंटे देरी से आई

कोहरे का असर रेल यातायात पर पड़ा है।

Indian Railway रविवार को सुबह से घना कोहरा है। कोहरे का असर रेल यातायात पर पड़ा है। इसके चलते नई दिल्ली से भोपाल जाने वाली शताब्दी एक्सप्रेस अपने निर्धारित समय से 56 मिनट की देरी से सुबह 8.46 बजे कैंट स्टेशन पहुंची।

Publish Date:Sun, 17 Jan 2021 03:28 PM (IST) Author: Tanu Gupta

आगरा, जागरण संवाददाता। कोहरे से ट्रेनों की रफ्तार प्रभावित हो गई है। रविवार को घने कोहरे में दृश्यता शून्य होने के कारण ट्रेनें रेंग-रेंग कर चलीं। इससे स्टेशन पर यात्रियों को ठंड में इंतजार करना पड़ा। शताब्दी, पंजाब मेल सहित कई ट्रेनेंं ढाई घंटे तक की देरी से स्टेशन पहुंची।

रविवार को सुबह से घना कोहरा है। कोहरे का असर रेल यातायात पर पड़ा है। इसके चलते नई दिल्ली से भोपाल जाने वाली शताब्दी एक्सप्रेस अपने निर्धारित समय से 56 मिनट की देरी से सुबह 8.46 बजे कैंट स्टेशन पहुंची, जबकि ट्रेन के आने का समय सुबह 07.45 बजे का है। इसी तरह पंजाब मेल अपने निर्धारित समय सुबह 7.58 बजे के बजाए दो घंटे 27 मिनट की देरी से सुबह 10.32 बजे कैंट रेलवे स्टेशन पहुंची। इसी तरह प्रयागराज-जयपुर कोविड स्पेशल ट्रेन भी दो घंटा 37 मिनट की देरी से सुबह 08.52 बजे कैंट स्टेशन पहुंची। इसके अलावा छत्तीसगढ़ और विशाखापट्टनम एक्सप्रेस भी निर्धारित समय से देरी से चल रही हैं। ठंड में ट्रेनों के लेट होने से यात्रियों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। स्टेशन पर ठंड बच्चों को और बुजुर्गों को परेशानी हो रही है।

रेलवे ने ठंड से बचाने को असहाय लोगों को कंबल किए वितरित

सर्द रात में सड़क पर सोने वाले असहाय लाेगों की मदद को आगरा रेल मंडल के वाणिज्य विभाग द्वारा कंबल वितरण किए गए। सीनियर डीसीएम आशुतोष सिंह व डीसीएम एसके श्रीवास्तव के साथ रेलवे कर्मचारियों ने 13 व 14 जनवरी को शहर के विभिन्न क्षेत्रों में सड़क पर सोने वाले लोगों को कंबल प्रदान किए। डीसीएम का कहना है कि रेलवे के वाणिज्य विभाग द्वारा कोरोना संक्रमण काल में भी श्रमिकों और कुलियों की भोजन, वस्त्र आदि सामान देकर सहायता की गई थी। रेलवे हमेशा असहाय लोगों की मदद के लिए इस तरक के काम करता रहेगा। 

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.