Greater Agra: आगरा में नए शहर की इनर रिंग रोड से सीधी होगी कनेक्टिविटी, जानिए क्या होगा फायदा

एसपीए नई दिल्ली के निदेशक ने चार गांवों का पूरा किया सर्वे दो से तीन दिन में फिर से आएगी टीम। एडीए और एसपीए के बीच हुआ अनुबंध 1.70 करोड़ रुपये होंगे खर्च। नेशनल हाईवे और फतेहाबाद रोड की तरफ से लोग नए शहर में आसानी से प्रवेश कर सकेंगे।

Prateek GuptaWed, 15 Sep 2021 02:24 PM (IST)
आगरा में ग्रेटर आगरा के लिए एडीए ने एसपीए ने अनुबंध किया है।

आगरा, जागरण संवाददाता। ग्रेटर आगरा का ले-आउट दो माह में तैयार होगा। इनर रिंग रोड से ग्रेटर आगरा के लिए सीधी कनेक्टिविटी होगी जबकि सर्विस रोड को चौड़ा किया जाएगा। नेशनल हाईवे और फतेहाबाद रोड की तरफ से लोग नए शहर में आसानी से प्रवेश कर सकेंगे। स्कूल्स आफ प्लानिंग एंड आर्किटेक्चर (एसपीए) नई दिल्ली के निदेशक डा. पीएसएन राव के नेतृत्व में टीम ने प्रारंभिक सर्वे कर लिया है। दो से तीन दिनों के भीतर विस्तृत सर्वे के लिए एसपीए की टीम आने जा रही है। यह टीम आठ से दस दिनों तक यहीं पर रहेगी और चार गांवों रहनकलां, रायपुर, एत्मादपुर मदरा, बुढ़ाना का सर्वे करेगी। चार गांवों में 612 हेक्टेअर जमीन है। एडीए और एसपीए के बीच अनुबंध हो चुका है। एडीए उपाध्यक्ष डा. राजेंद्र पैंसिया ने बताया कि निजी बैंक से 300 करोड़ रुपये का कर्ज लेने की बात चल रही है। यह कार्य दो से तीन सप्ताह में पूरा हो जाएगा। ग्रेटर आगरा को विकसित करने में 3200 करोड़ रुपये खर्च होंगे। ले-आउट को तैयार करने में 1.70 करोड़ रुपये खर्च होंगे। एसपीए की टीम में डीन डा. अशोक कुमार, प्रो. आर विश्वास शामिल रहे।

स्कूल से लेकर अस्पताल तक की व्यवस्था: ग्रेटर आगरा में स्कूल से लेकर अस्पताल तक बनेगा। एडीए के नगर नियोजक प्रभात कुमार ने बताया कि ग्रेटर आगरा में भूखंडों की बिक्री होगी।

यह होगा फायदा: इनर रिंग रोड से सीधी कनेक्टिविटी ग्रेटर आगरा तक देने से भवन स्वामियों को दिक्कत नहीं होगी। इससे यह सीधे इनर रिंग पहुंच सकेंगे। इसी तरह से इनर रिंग रोड से लखनऊ एक्सप्रेस वे पर पहुंचा जा सकेगा।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.