Gold robbery: मणप्‍पुरम में सोने की डकैती ने ग्राहकों की उड़ाई नींद, लगा रहे गोल्ड लोन कंपनी के चक्कर

आभूषणों की सुरक्षित वापसी को लेकर परेशान हैं ग्राहक। एक हजार से ज्यादा लोगोंं के गोल्ड लोन लेने का है अनुमान। स्टाफ का कहना है कि लोन लेने वालों का वास्तविक आंकड़ा शाखा खुलने के बाद रिकार्ड चेक करने के बाद ही बताया जा सकेगा।

Prateek GuptaWed, 21 Jul 2021 09:44 AM (IST)
मणप्‍पुरम गोल्‍ड पर अपने जेवरातों की जानकारी लेने पहुंची महिला।

आगरा, जागरण संवाददाता। कमला नगर में मणप्पुरम गोल्ड लोन कंपनी में डकैती की घटना के बाद से सोने की चिंता ग्राहकों की नींद उड़ा दी है।उन्हें अपने आभूषणों की सुरक्षित वापसी की फिक्र सता रही है। अपने आभूषणों के बारे में जानकारी करने के लिए वह कंपनी के चक्कर काट रहे हैं।मंगलवार को भी कई ग्राहक शाखा पर पहुंचे। स्टाफ ने ग्राहकों को आश्वस्त किया कि आभूषण सुरक्षित हैं। मगर, इसे वापस पाने के लिए उन्हें थोड़ा इंतजार करना होगा।

कमला नगर में मणप्पुरम गोल्ड लोन कंपनी की शाखा पर 17 जुलाई को डकैती डालकर बदमाश करोड़ों का सोना लूट ले गए थे। पुलिस ने दो बदमाशों मुठभेड़ में मार गिराया था। शाखा के लाकर में कुल 19 किलोग्राम सोना रखा था। बताया जाता है कि शाखा में एक हजार से ज्यादा लोगों ने अपने आभूषण रखकर लोन लिया था। हालांकि स्टाफ का कहना है कि लोन लेने वालों का वास्तविक आंकड़ा शाखा खुलने के बाद रिकार्ड चेक करने के बाद ही बताया जा सकेगा। मगर, कमला नगर पाश कालोनी होने के चलते यहां लोगों द्वारा अधिक मात्रा में सोने के आभूषण गिरवी रखने का अनुमान है।

शाखा पर हुई घटना के कुछ घंटे बाद ही कई ग्राहक वहां पहुंच थे। आभूषणों के बदले लोन लेने वाले ग्राहकों में महिलाअों की संख्या ज्यादा है। मंगलवार की दोपहर को कमला नगर की रहने वाली ज्योति शर्मा शाखा पर पहुंची। उन्होंने बताया कि कंपनी में अपने जेवरात के बदले में लोन लिया था। वह अपने आभूषणों के सुरक्षित और उनकी वापसी के लिए जानकारी करने आई थीं। कमला नगर डबल स्टाेरी की रहने वाली बबिता ने अपने जेवरात पर लोन लिया था। उन्हें भी चिंता है कि जेवरात कब तक वापस मिलेंगे।

सामाजिक प्रतिष्ठा के चलते भी खुलकर सामने नहीं आ रहे ग्राहक

न्यू आगरा की रहने वाली महिला ने अपने जेवरात के बदले में कंपनी लोन लिया था। वह 17 जुलाई की शाम को ही शाखा पर पहुंच गईं। महिला का कहना था कि जेवरात पर लोन का उनके रिश्तेदाराें और बेटी की ससुराल वालों का पता चलने पर समाज में उनकी प्रतिष्ठा खराब हो जाएगी। इसीलिए कैमरों से बचते हुए वहां से तत्काल लौट गईं। ऐसी दर्जनाें महिलाएं हैं, जिन्होंने सगे संबंधियों की जानकारी के बिना गोल्ड लोन लिया है। वह रिश्तेदारों में अपनी छवि खराब होने के चलते सामने नहीं आ रही हैं।

पुलिस की पूछताछ से बचने के लिए भी नहीं आ रहे लोग

जेवरात पर लोन लेने वाले कई लोग ऐसे भी हैं जो सिर्फ इसलिए नहीं आ रहे हैं कि कहीं पुलिस उनसे भी पूछताछ न करे। क्योंकि पुलिस को डकैती डालने वाले गैंग के कमला नगर से तार जुड़े होने की आशंका है। वह इस मामले में सीसीटीवी फुटेज चेक करने के साथ ही लोगों से पूछताछ भी कर रही है।

बालिग ही ले सकता है गोल्ड लोन

कंपनी से 18 साल से अधिक आयु का व्यक्ति की गोल्ड लोन ले सकता है। जिस जेवरात पर लोन ले रहा है, वह 18 से 24 कैरेट के दायरे में आना चाहिए।

यह है लोन की शर्त और तरीका

-लोन की राशि सोने की गुणवत्ता, शुद्धता और शुद्ध वजन के आधार पर मंजूर की जाती है।

-ग्राहक द्वारा लोन अवधि से पहले लोन भुगतान करने पर जुर्माना नहीं देना पड़ता।

-ट्रांजेक्शन एक लाख रुपये से कम होने पर बैंक खाते की जरूरत नहीं होती।

-गोल्ड लोन पर हर महीने किस्त नहीं देनी होती, लोन की अवधि के अंत में वह लोन चुका सकता है। मगर, ब्याज समय-समय पर चुकाना होता है।

-मणप्पुरम से पांच करोड़ रुपये तक गोल्ड लोन लिया जा सकता है। हालांकि ग्राहक का डेढ़ करोड़ रुपये से ज्यादा है तो इसे मैनेजमेंट से विशेष अनुमोदन के बाद मंजूरी दी जाती है।

आभूषणों की सुरक्षा पर क्या कहते हैं कंपनी के अधिकारी

मणप्पुरम फाइनेंस लिमिटेड कमला नगर शाखा प्रबंधक विजय के अनुसार जिन लोगों के जेवरात कंपनी के पास रखे हैं। उनका बीमा है, इसलिए वह सुरक्षित हैं। यदि उनके जेवरात का पता नहीं लग पाता है या वसूली नहीं हो पाती है तो कंपनी ग्राहकों को उनके द्वारा दिए गए जेवरात की मात्रा के बराबर का सोना देगी। यह कंपनी की नीति है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.