UP Assembly Election 2022: अलीगढ़ में नींव से पूरे ब्रज और पश्चिम उत्‍तर प्रदेश काे साधने की तैयारी कर गए पीएम मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को अलीगढ़ में राजा महेंद्र प्रताप के नाम से विश्वविद्यालय का किया शिलान्यास। ब्रज के डेढ़ दर्जन विधानसभा क्षेत्र में निर्णायक हैं जाट पश्चिम में है गढ़। इस विवि की स्‍थापना के राजनीतिक मायने भी निकाले जा रहे हैं।

Prateek GuptaWed, 15 Sep 2021 08:59 AM (IST)
पीएम मोदी मंगलवार को अलीगढ़ में जाट मतदाताओं को रिझाने का प्रयास कर गए।

आगरा, अम्बुज उपाध्याय। पीएम नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को अलीगढ़ में राजा महेंद्र प्रताप के नाम से राज्य विश्वविद्यालय का शिलान्यास किया। नींव तो अलीगढ़ में डाली गई, लेकिन इसके ब्रज और पश्चिम दोनों क्षेत्रों को साधने का प्रयास किया गया है। पीएम नरेंद्र मोदी ने सीधे जाट शब्द प्रयोग तो नहीं किया, लेकिन जाट शिरोमणियों के नाम और उनके गुणों का बखान किया। इसमें चौधरी चरण सिंह, सर छोटू राम और स्वयं राजा महेंद्र प्रताप थे। वहीं दूसरी सरकारों और दिग्गज जाट नेताओं के समय में भी उपेक्षित रहे राजा महेंद्र प्रताप के नाम से पहले काम की शुरुआत की छाप दूर तक जाने की उम्मीद जताई जा रही है। विधानसभा चुनाव से ठीक पहले इस निर्णय का असर आगरा, अलीगढ़, मथुरा जिले की कई विधानसभा क्षेत्र में पड़ेगा तो ब्रजक्षेत्र की 66 विधानसभा क्षेत्र में से डेढ़ दर्जन के सीधे प्रभावित होने के कयास लगाए जा रहे हैं। इन सभी में जाट निर्णायक भूमिका में है। वहीं जाटों के गढ़ पश्चिम क्षेत्र को लुभाने का प्रयास भी किया जा रहा है।

किसान आंदोलन की शुरुआत से जाटों के भाजपा के साथ कुछ तनाव पूर्ण रिश्ते माने जा रहे हैं, तो पार्टी मनाने, लुभाने में लगी है। विधानसभा चुनाव को ध्यान में रखते हुए विपक्ष इसे राजनीतिक रंग दे रहा है, तो पश्चिम क्षेत्र में रोज आंदोलन को धार मिल रही है। इसलिए पीएम ने किसानों में मजबूत पकड़ बनाने को न्यूनतम समर्थन मूल्य को बढ़ाकर घोषित किया है, जिससे विपक्ष द्वारा फैलाए जा रहे एमएसपी बंद करने की तैयारी के भ्रम की रोकथाम की जा सके। वहीं जाट समाज में मजबूत स्थान बनाने को ब्रजक्षेत्र से प्रयास शुरू हुए हैं। जाट समाज में विशेष स्थान रखने वाले राजा महेंद्र प्रताप के नाम से अलीगढ़ में राज्य विश्वविद्यालय का शिलान्यास जाट बाहुल्य क्षेत्रों में पार्टी को मजबूती देना है। आगरा की सभी नौ विधानसभा क्षेत्र में जाट मतदाता हैं, लेकिन फतेहपुर सीकरी, आगरा ग्रामीण में जाट निर्णायक भूमिका में हैं। वहीं खेरागढ़, एत्मादपुर विधानसभा क्षेत्र में भी जाटों की अधिकता है, जो समीकरण बनाने, बिगाड़ने का काम करते हैं। मथुरा, बल्देव, छाता, गाेवर्धन, मांट, सादाबाद, हाथरस जाट बाहुल्य हैं, तो टूंडला, इग्लास, अलीगढ़ में भी निर्णाय भूमिका में हैं। सहित ब्रज की कई दूसरी विधानसभा क्षेत्र भी जाट निर्णाय भूमिका में हैं। पश्चिम क्षेत्र को जाटों का गढ़ माना जाता है, जिसमें सीधे पहुंचने की जगह भाजपा ब्रज से मजबूत पकड़ का रास्ता बना रही है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.