UP Budget 2021: बजट से आगरा को उम्मीद, Night Tourism को कुछ करो सरकार

सदर बाजार में नाइट बाजार कागजों में ही रह गया।

UP Budget 2021 रात्रि पर्यटन आकर्षणों के अभाव में रात में नहीं रुकते हैं पर्यटक। रात्रि पर्यटन आकर्षण विकसित करने की मांग कर रहे हैं उद्यमी। स्टोन हैंडीक्राफ्ट जरदोजी और कारपेट की खरीदारी पर्यटकों के द्वारा अधिक की जाती है।

Tanu GuptaSun, 21 Feb 2021 12:23 PM (IST)

आगरा, जागरण संवाददाता। ताजमहल में नाइट टूरिज्म दशकों से ख्वाब बना हुआ है। नाइट टूरिज्म के अभाव में यहां पर्यटकों का रात्रि प्रवास बहुत कम है। रात्रि प्रवास को बढ़ावा देने को योजनाएं तो समय- समय पर बनीं, लेकिन परवान नहीं चढ़ पाईं। सोमवार को उप्र सरकार वित्तीय वर्ष 2020-21 के लिए अपना बजट पेश करेगी। कोरोना काल में सबसे अधिक प्रभावित पर्यटन कारोबारियों ने केंद्र सरकार के बजट में खाली हाथ रहने के बाद उप्र सरकार के बजट से बड़ी उम्मीदें लगा रखी हैं।

आगरा के पर्यटन कारोबार पर हैंडीक्राफ्ट कारोबार पर भी निर्भर है। स्टोन हैंडीक्राफ्ट, जरदोजी और कारपेट की खरीदारी पर्यटकों के द्वारा अधिक की जाती है। कोरोना काल में हैंडीक्राफ्ट कारोबार भी प्रभावित हुआ है। एक जिला एक उत्पाद योजना में पच्चीकारी वर्क तो शामिल है, लेकिन अन्य हैंडीक्राफ्ट शामिल नहीं हैं। कारोबारी उन्हें एक जिला एक उत्पाद योजना में शामिल करने की मांग कर रहे हैं।

योजनाएं जो आगे नहीं बढ़ पाईं

-सदर बाजार में नाइट बाजार कागजों में ही रह गया।

-थीम पार्क परियोजना जमीन अधिग्रहण के बाद ड्राप हो गई।

-पर्यटकों के रात्रि प्रवास को बढ़ावा देने को सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन नहीं हो सका।

इन योजनाओं को पूरा करो सरकार

-आगरा किला का साउंड एंड लाइट शो करीब दो वर्षों से बंद है। इसे अपग्रेड नहीं किया जा सका है।

-छत्रपति शिवाजी महाराज म्यूजियम और हेलीपोर्ट के लिए धनराशि जारी की जाए, जिससे काम पूरा हो सके।

-रिवरफ्रंट डवलपमेंट का काम कागजों तक सिमटा हुआ है। आज तक यमुना में डिसिल्टिंग को अध्ययन नहीं कराया जा सका है।

पर्यटन कारोबार: एक नजर

-करीब पांच हजार करोड़ रुपये का वार्षिक टर्नओवर।

-छोटे-बड़े करीब 500 होटल, 500 रेस्टोरेंट और 100 से अधिक पेइंग गेस्ट हाउस।

-करीब पांच लाख लोग प्रत्यक्ष-अप्रत्यक्ष रूप से अाश्रित हैं।

हैंडीक्राफ्ट कारोबार: एक नजर

-करीब ढाई हजार करोड़ रुपये का वार्षिक टर्नओवर।

-हैंडीक्राफ्ट के छोटे-बड़े मिलाकर 100 से अधिक एंपोरियम्स व दुकानें।

-करीब 70 हजार लोग प्रत्यक्ष-अप्रत्यक्ष रूप से आश्रित हैं।

कोरोना काल में होटल बंद रहे हैं। नगर निगम के अधिनियम में प्रावधान के अनुसार गृह कर व जल कर में छूट मिले। यूनिट खपत के आधार पर बिजली बिल लिया जाए। सरकारी कर्मचारियों को सरकार पैकेज दे, जिससे वो घूमने निकलें। इससे पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा।

-राकेश चौहान, अध्यक्ष होटल एंड रेस्टोरेंट एसोसिएशन

जिला योजना के प्रस्तावों में पर्यटन का जिक्र नहीं है, इससे प्राथमिकता के विषय में जानकारी मिलती है। सिविल एयरपोर्ट और म्यूजियम के लिए फंड जारी किया जाए। हेलीपोर्ट के लिए बजट जारी किया जाए। रुकी हुई परियोजनाएं पूरा होने से शहर के पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा।

-राजीव सक्सेना, उपाध्यक्ष टूरिज्म गिल्ड आफ आगरा

कोरोना काल में हैंडीक्राफ्ट सबसे अधिक प्रभावित है। जीएसटी में इसे कर मुक्त किया जाए। हस्तशिल्पियों को आर्थिक सहायता दी जाए, जिससे कारीगरों के अन्य काम-धंधे करने से कला लुप्त नहीं हो। कारीडोर को नाइट टूरिज्म डेस्टिनेशन के रूप में विकसित किया जाए।

-प्रहलाद अग्रवाल, अध्यक्ष आगरा टूरिस्ट वेलफेयर चैंबर 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.