शुक्रवार रात दस बजे : कोविड अस्पतालों में वेंटीलेटर और बीपेप के बेड फुल

शुक्रवार रात दस बजे : कोविड अस्पतालों में वेंटीलेटर और बीपेप के बेड फुल

शहर में 31 हैं अस्पताल पोर्टल में रिक्त दर्शाए जा रहे थे बेड कोविड कंट्रोल सेंटर में सबसे अधिक बेड को लेकर आईं शिकायतें

JagranSat, 15 May 2021 05:05 AM (IST)

आगरा, जागरण संवाददाता। ब्लासम अस्पताल। पोर्टल के हिसाब से इस अस्पताल में सात वेंटीलेटर बेड हैं। रात दस बजे दो वेंटीलेटर खाली दर्शाए जा रहे थे। जागरण टीम ने अस्पताल के नंबर पर फोर किया तो कर्मचारी ने एक भी बेड खाली न होने की बात कहकर फोन रख दिया। - पारस अस्पताल। पोर्टल की मानें तो इस अस्पताल में चार वेंटीलेटर बेड हैं। चार बेड रिक्त दर्शाए जा रहे थे।

रात 10.15 बजे जागरण टीम ने फोन किया तो कर्मचारी ने एक भी बेड खाली न होने की बात कही। कर्मचारी का कहना था कि तकनीकी कमी के चलते पोर्टल को अपडेट नहीं किया जा सका है। - गोयल अस्पताल। इस अस्पताल में वेंटीलेटर बेड छह हैं जिसमें रात दस बजे दो बेड रिक्त दर्शाए जा रहे थे। जागरण टीम ने फोन किया तो पता चला कि एक भी बेड खाली नहीं है।

यह तो तीन ही उदाहरण हैं। शुक्रवार रात दस बजे अस्पतालों में वेंटीलेटर और बीपेप बेड फुल हो चुके थे। वहीं इसके विपरीत पोर्टल में रिक्त बेड दर्शाए जा रहे थे। शहर में 31 कोविड अस्पताल हैं। नगर निगम स्थित कोविड कंट्रोल सेंटर में 22 शिकायतें पहुंचीं। इसमें सबसे अधिक आठ शिकायतें आक्सीजन वाले बेड को लेकर थी। हाल यह है कि एसएन अस्पताल का फोन नहीं उठता है। बेड और रेट लिस्ट की जांच : डीएम के आदेश पर विशेष टीम ने शुक्रवार को 12 से अधिक अस्पतालों की जांच की। अस्पताल संचालकों ने मुख्य गेट पर बेड की उपलब्धता और रेट लिस्ट चस्पा कर रखी थी। प्रमुख रूप से रामतेज अस्पताल, रेनबो अस्पताल, पाठक अस्पताल, पल्स अस्पताल, जय अस्पताल, रश्मि मेडिकल केयर अस्पताल, अपेक्स, रवि अस्पताल शामिल हैं। भरपूर है आक्सीजन फिर भी तीन से पांच घंटे रहे हैं लग

- डीएम ने दोनों आक्सीजन प्लांट का किया निरीक्षण, सेना के इंजीनियर कर रहे हैं मदद

जासं, आगरा : शहर में भले ही आक्सीजन की कमी न हो लेकिन प्लांटों से आक्सीजन मिलने में तीन से पांच घंटे लग रहे हैं। प्लांटों के बाहर लोगों की लाइन लगी रहती है। शुक्रवार सुबह डीएम प्रभु एन सिंह ने एडवांस गैस प्लांट, शास्त्रीपुरम औद्योगिक रोड और अग्रवाल आक्सीजन प्लांट, टेढ़ी बगिया का निरीक्षण किया। प्लांट में किसी भी तरीके की तकनीकी कमी को दूर करने के लिए सेना के इंजीनियर मदद कर रहे हैं। दोनों प्लांट की क्षमता 2300 सिलेंडर प्रतिदिन की है। डीएम ने बताया कि आक्सीजन की कोई कमी नहीं है। पोर्टल के अनुसार यह है कोविड अस्पतालों की स्थिति

कोविड बेड

कुल बेड : 2297

भरे बेड : 1151

रिक्त बेड : 1146 आइसीयू बेड

कुल बेड : 539

भरे बेड : 453

रिक्त बेड : 86 वेंटीलेटर बेड

कुल बेड : 253

भरे बेड : 212

रिक्त बेड : 41 बीपेप बेड

कुल बेड : 140

भरे बेड : 111

रिक्त बेड : 29 एचएफएनसी बेड

कुल बेड : 60

भरे बेड :26

रिक्त बेड : 34 आक्सीजन सपोर्ट

कुल बेड : 2172

भरे बेड : 1150

रिक्त बेड : 1022

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.