परीक्षा फार्म भरने से वंचित छात्रों के लिए आज से खुलेगा लिक

डा. भीमराव आंबेडकर विश्वविद्यालय की मुख्य परीक्षा के लिए 31 अगस्त तक भर सकेंगे फार्म स्नातक और परास्नातक प्रथम वर्ष के छात्रों को भी मिलेगा मौका

JagranTue, 17 Aug 2021 09:28 PM (IST)
परीक्षा फार्म भरने से वंचित छात्रों के लिए आज से खुलेगा लिक

आगरा, जागरण संवाददाता। डा. भीमराव आंबेडकर विश्वविद्यालय की मुख्य परीक्षा के परीक्षा फार्म भरने से वंचित हजारों छात्रों के लिए बुधवार से लिक खोला जा रहा है। छात्र 31 अगस्त तक फार्म भर सकेंगे। इस सुविधा का लाभ स्नातक और परास्नातक प्रथम वर्ष के छात्रों को भी मिलेगा।

मुख्य परीक्षा के परीक्षा फार्म भरने से वंचित हजारों छात्रों के लिए परीक्षा समिति की बैठक में फैसला लिया गया था कि उन्हें फार्म भरने का मौका दिया जाए। इस फैसले के अनुपालन में बुधवार से लिक खोला जाएगा। बता दें कि बीए, बीएससी, बीकाम, बीकाम(वोकेशनल) के प्रथम, द्वितीय व तृतीय वर्ष तथा एमए, एमएससी व एमकाम के प्रथम व द्वितीय वर्ष के हजारों छात्र परीक्षा फार्म भरने से वंचित रह गए थे। इसे लेकर छात्र संगठनों ने काफी हंगामा भी किया था। प्रथम वर्ष के छात्रों को भी मिलेगा मौका

स्नातक और परास्नातक के प्रथम वर्ष के भी हजारों छात्र ऐसे हैं, जो किन्हीं कारणों से परीक्षा फार्म नहीं भर पाए थे। जबकि, उन्होंने वेब पंजीकरण के बाद प्रवेश भी लिया था और फीस भी जमा कराई थी। परीक्षा समिति की बैठक में भी इन छात्रों के संबंध में फैसला नहीं लिया गया था। अब उन छात्रों को भी परीक्षा फार्म भरने का मौका दिया जाएगा, जिससे उन्हें प्रोन्नत करने की प्रक्रिया पूरी हो सके। लीला देवी महाविद्यालय का कार्यकारी कुलपति ने किया निरीक्षण

आगरा, जागरण संवाददाता।

मथुरा के बल्देव स्थित लीला देवी महाविद्यालय में बोल कर कराई जा रही नकल का वीडियो वायरल होने पर कार्यकारी कुलपति ने खुद केंद्र का निरीक्षण किया। परीक्षा संबंधी रिकार्ड जब्त कर लिए गए हैं। मामले की जांच के लिए जांच समिति बनाई जाएगी, जिसमें एक आइटी एक्सपर्ट भी होगा। कालेज की संबद्धता पर भी संकट खड़ा हो सकता है।

विगत 14 अगस्त की जूलाजी की परीक्षा का एक वीडियो वायरल हुआ था, जिसमें एक कालेज में बोल कर नकल कराई जा रही थी। यह वीडियो मथुरा के बल्देव स्थित श्रीमती लीला देवी महाविद्यालय का बताया गया। इस केंद्र का निरीक्षण करने के लिए कार्यकारी कुलपति प्रो. आलोक राय बुधवार को पहुंचे, वहां उन्होंने हर कमरे की जांच की। सीसीटीवी की स्थिति देखी। पुराने रिकार्ड भी निकलवाए। परीक्षा संबंधी सभी रिकार्ड जब्त कर लिए। प्रो. राय ने बताया कि केंद्र कई मानकों पर खरा नहीं उतर रहा था। केंद्र तक पहुंचने का रास्ता ही बहुत खराब था। वीडियो की जांच के लिए एक समिति बनाई जाएगी, जिसमें एक आइटी एक्सपर्ट भी होगा। समिति की रिपोर्ट यूएफएम कमेटी के सामने रखी जाएगी। रिपोर्ट के आधार पर कमेटी कालेज को डिबार करेगा या परीक्षा निरस्त करेगी ये तय होगा।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.