Breaking: ताजमहल पर फिर उड़ा ड्रोन, उड़ाने वाले को तलाश रही पुलिस

आगरा, जागरण संवाददाता। ताजमहल की सुरक्षा में बुधवार शाम बड़ी चूक हुई। एक बार फिर यहां ड्रोन उड़ाने की घटना हो गई। हैरत की बात यह रही कि पुलिस के सामने ही ड्रोन उड़ता रहा और पुलिसकर्मी कुछ न कर सके। आसमान में उड़ते ड्रोन का पुलिस नीचे उतरने का इंतजार कर रही है। वहीं ड्रोन उड़ाने वाले का अब तक कुछ पता नहीं चल सका है।

बुधवार को शाम करीब सवा पांच बजे ताजमहल पर ड्रोन उड़ाने का सनसनीखेज मामला सामने आया है। सूचना पर पुलिस पहुंच चुकी है। फिलहाल ड्रोन उड़ाने वाले की तलाश की जा रही है।

पहले भी कई बार हो हो चुकी है ताज की सुरक्षा में चूक

इससे पहले भी कई बार ताज पर ड्रोन उड़ाने के मामले सामने आ चुके हैं। अधिकांशत: हर बार ड्रोन विदेशी पर्यटकों द्वारा ही उड़ाए गए हैं। करीब तीन माह पूर्व चीन के बीजिंग निवासी गुआन जियोंग (27) अपने दोस्त के साथ ताजमहल घूमने आया था। गुआन ने पश्चिमी गेट पर सुबह साढ़े छह बजे टिकट खरीदा। बैग में पानी की बोतल के साथ ड्रोन रखा हुआ था। डोर फ्रेम मेटल डिटेक्टर में भी इसे नहीं पकड़ा जा सका। सुबह आठ बजे रॉयल गेट के सामने गुआन ने ड्रोन निकाल उसे उड़ाने का प्रयास किया। इस पर सीआइएसएफ के जवानों ने उसे पकड़ लिया और कार्यालय में ले आए। पर्यटक ने ड्रोन उड़ाने पर प्रतिबंध की जानकारी होने से इन्कार किया। इससे कुछ माह पहले ताजमहल के अति संवेदनशील यलो जोन (500 मीटर की परिधि) में विदेशी पर्यटकों ने प्रतिबंधित ड्रोन उड़ाया था। मामले के अनुसार कुछ विदेशी पर्यटक ताजगंज की मलको गली स्थित मियां नजीर की मजार पर पहुंचे थे। प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार उन्होंने यहां ड्रोन उड़ाया। इसके बाद क्षेत्रीय निवासियों ने इसकी सूचना पुलिस को दी। मौके पर पहुंचे पुलिसकर्मी पर्यटकों को पकड़कर आरके फोटो स्टूडियो चौराहा ले आए। इसके बाद उन्हें पर्यटन थाना लाया गया। ड्रोन उड़ाने वाला फ्रांसीसी पर्यटक थॉमस डांगरल था। उसके साथ बेल्जियम निवासी निकोलस, महिला मित्र स्पेन निवासी फिगरस एस. मार्टा और दिल्ली निवासी राममोहन था। राममोहन के दिल्ली के आवास में तीनों विदेशी पर्यटक रुके थे।

ताज देखने के बाद लौटते वक्त उन्होंने ड्रोन उड़ाया था। पर्यटन थाने में ड्रोन में लगे मेमोरी कार्ड को चेक करने के साथ पर्यटकों से एलआइयू ने भी पूछताछ की थी।

सैलानी को नहीं पता होते नियम

 ताजमहल परिसर एवं उसके आस पास सुरक्षा नियम लिखे होने चाहिए। होटलों में भी ये नियम लिखे होने चाहिए। बावजूद इसके किसी भी होटल या ताज के आस पास किसी तरह की नियमावली नहीं लिखी जाती। ताज की सुरक्षा के नियमों से अंजान सैलानी ऐसी चूक कर जाते हैं।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.