आगरा में युवती की गर्दन काटना चाहता था सिरफिरा, आरोपित को हमेशा के लिए सलाखों के पीछे देखना चाहती है पीड़िता

घर में घुसकर युवती पर किया था छुरे से हमला।

Deadly Attack ताजगंज के नगला मेवाती में घर में घुसकर युवती पर किया था छुरे से हमला। बस्ती से निकाले जाने पर बुर्का पहनकर आया था आरोपित। युवती की हालत अब खतरे से बाहर आरोपित को भेजा जेल।

Publish Date:Sun, 17 Jan 2021 08:34 AM (IST) Author: Tanu Gupta

आगरा, जागरण संवाददाता। कहा जाता है कि प्यार में लोग अपनी गर्दन तक कटा देते हैं। अपनी जान कुर्बान कर देते हैं। मगर, आगरा में एक सिरफिरे ने इकतरफा प्यार में युवती की गर्दन काटने की कोशिश की। बस्ती से निकाले जाने के चलते आरोपित बुर्का पहनकर युवती के घर गया। उसमें छिपाकर ले गए छुरे से उसकी गर्दन काटने का प्रयास किया। सिर पर प्रहार किया। युवती ने साहस दिखाते हुए सिरफिरे का सामना किया। उससे भिड़ गई, हालांकि इस दौरान उसके हाथ का पंजा छुरे से बुरी तरह से कट गया। एसएन में भर्ती युवती की हालत अब पूरी तरह खतरे से बाहर है। होश में आने के बाद युवती का कहना था कि वह सिरफिरे को हमेशा के लिए जेल की सलाखों के पीछे देखना चाहती है। इससे कि कोई और युवती उसकी हैवानियत का शिकार न बने। पुलिस ने आरोपित को जेल भेज दिया है।

ये है मामला

घटना नौ जनवरी की शाम की है। नगला मेवाती में डूडा के आवास बने हुए हैं। इनमें एक रिक्शा चालक अपनी पत्नी और बेटे-बेटियों के साथ रहता है। नौ जनवरी की शाम को युवती अपनी मां के साथ घर पर अकेली थी। इसी दौरान आरोपित आसिफ बुर्का पहनकर उसके घर पर आया। युवती उसे पहचान नहीं सकी।उसे लगा कि कोई महिला आई है। इस बीच आसिफ ने बुर्के से गड़ासा निकालकर युवती की गर्दन पर हमला बोल दिया। छुरे से उसकी गर्दन काटने की कोशिश करने लगा। इस दौरान युवती के सिर पर भी प्रहार किया। मगर, युवती ने साहस दिखाया, हमलावर का छुरा अपने हाथ से पकड़ लिया। इससे उसके हाथ का पंजा कट गया। इससे वह बुरी तरह से जख्मी हो गई थी। मां के शोर मचाने आसपास के लोग वहां जुट गए। उन्होंने पुलिस को सूचना दी। पुलिस ने स्वजन की मदद से युवती को एसएन इमरजेंसी में भर्ती कराया। सिर में छुरा लगा होने के चलते डाक्टर उसकी हालत गंभीर मान रहे थे। मगर, डाक्टरो की टीम के प्रयास के चलते युवती की जान बच गई। उसकी हालत अब खतरे से बाहर है। कुछ दिन बाद ही उसे अस्पताल से छुट्टी मिल जाएगी।

छत से कूद गया था सिरफिरा

हमले के बाद युवती और उसकी मां के शोर मचाने पर बस्ती के लोगों ने आरोपित आसिफ को घेर लिया था। भागने में नाकाम होने पर आरोपित मकान की दूसरी मंजिल की छत पर भाग गया। लोगों को आता देख उसने छत से छलांग लगा दी।इससे उसके पैर की हड्डी टूट गई थी। पुलिस ने उसे भी एसएन इमरजेंसी में भर्ती कराया था। वहां से उसे जेल भेज दिया गया।

चार महीने पहले हमले के बाद से सतर्क थी युवती

युवती पर आरोपित आसिफ ने चार महीने पहले चाकू से हमला बोल दिया था। इसमें वह घायल हो गई थी।पुलिस में रिपोर्ट भी दर्ज कराई थी। पुलिस ने उसके खिलाफ कार्रवाई भी की थी। इसके बाद बस्ती के लोगों ने आरोपित और उसके परिवार का विरोध शुरू कर दिया। इसके चलते वह परिवार समेत घर छोड़कर दूसरी जगह चले गए थे।

आरोपित के बस्ती में घुसने पर लगा दी थी रोक

लोगों ने आरोपित आसिफ के बस्ती में घुसने पर रोक लगा दी थी। लोगों काे डर था कि वह अन्य युवतियों पर हमला बोल सकता है। इकतरफा प्यार में युवती को वह काफी परेशान कर रहा था। उसकी इस हरकत से बस्ती वाले नाराज थे। आरोपित और उसके रिश्तेदारों को बस्ती खाली करके जाना पड़ा था। 

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.