Crisis of Oxygen: ऑक्‍सीजन की किल्‍लत बरकरार, कोरोना वायरस के मरीज परेशान

आगरा के एक प्‍लांट में रीफिल होने के लिए पहुंचे ऑक्‍सीजन सिलिंडर। फोटो- जागरण
Publish Date:Tue, 22 Sep 2020 11:43 AM (IST) Author: Prateek Gupta

आगरा, जागरण संवाददाता। एक तो कोरोना वायरस का संक्रमण और उसमें ऑक्‍सीजन का संकट। मरीजों और तीमारदारों को परेशानी से जूझना पड़ रहा है। आॅॅक्सीजन का संकट नौ दिन और रहेगा। कोरोन संक्रमित मरीज बढने से आॅॅक्सीजन की मांग बढ रही है। वहीं, आॅॅक्सीजन की आपूर्ति कम हो रही है। कोरोना संक्रमित मरीजों को आॅॅक्सीजन सपोर्ट पर रखना पड रहा है। इससे कोविड अस्पतालों में आॅॅक्सीजन सिलिंडर की मांग लगातार बढ रही है। वहीं, अलीगढ और नोएडा से आॅॅक्सीजन सिलिंडर की आपूर्ति 50 फीसद तक कम हो गई है। ऐसे मे निजी अस्पतालों द्वारा 50 सिलिंडर मांगे जा रहे हैं, उन्हें 30 सिलिंडर की सप्लाई दी जा रही है।

सहायक औषधि आयुक्त एके जैन ने बताया कि एडवांस गैसेज, सिकंदरा को लिक्विड आॅॅक्सीजन के लिए प्रोविजनल लाइसेंस दे दिया गया है। यहां 140 सिलिंडर रीफिल किए जा रहे हैं। शंभवी गैसेज आंवलखेडा को दो दिन से लिक्विड आॅॅक्सीजन नहीं मिली थी। मगर, अब लिक्विड आॅॅक्सीजन मिलने लगी है, यहां हर घंटे 50 आॅॅक्सीजन सिलिंडर रीफिल करने की क्षमता है। जितनी मांग है उससे कम आॅॅक्सीजन सिलिंडर की आपूर्ति हो रही है। मगर, इलाज प्रभावित नहीं हो रहा है। एक अक्टूबर से गाजियाबाद में एक लिक्विड आॅॅक्सीजन प्लांट खुल रहा है, वहां से लिक्विड आॅॅक्सीजन और आॅॅक्सीजन सिलिंडर की आपूर्ति होगी। उम्‍मीद है कि नौ दिन बाद आॅॅक्सीजन का संकट दूर हो जाएगा।

 

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.