कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा पहुंचा 9165, 165 की हो चुकी है मौत

कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा पहुंचा 9165, 165 की हो चुकी है मौत

कोरोना संक्रमित एक और मरीज की मौत इस महीने 20 वीं मौत

Publish Date:Mon, 30 Nov 2020 05:20 AM (IST) Author: Jagran

आगरा, जागरण संवाददाता। कोरोना से एक और मरीज की मौत हो गई। अभी तक कोरोना संक्रमित 165 मरीजों की मौत हो चुकी है। रविवार को बाह और वेस्ट शिवाजी नगर के एक ही परिवार के तीन तीन सदस्य सहित 67 नए केस आए हैं। कोरोना संक्रमित मरीजों का आंकड़ा 9165 पहुंच गया है।

55 साल राजपुर चुंगी निवासी सांस संबंधी समस्या से पीड़ित मरीज को कोरोना संक्रमित होने पर एसएन मेडिकल कालेज में भर्ती किया गया। इलाज के दौरान मौत हो गई। कोरोना संक्रमित 165 मरीजों की मौत हो चुकी है। वेस्ट शिवाजी नगर के एक ही परिवार के तीन सदस्य, पुरा भजन लाल बाह के एक ही परिवार के तीन सदस्य, एसएन मेडिकल कालेज की जूनियर डाक्टर, सांस लेने में परेशानी होने पर भर्ती शालीमार एन्क्लेव, कमला नगर, निर्भय नगर, बुंदूकटरा, ईदगाह कालोनी, गैलाना रोड, बल्केश्वर निवासी मरीज में कोरोना की पुष्टि हुई है। कोरोना संक्रमित 8296 मरीज ठीक हो गए हैं। अब 704 सक्रिय केस हैं। एसएन में रूस की वैक्सीन स्पुतनिक 5 का नहीं होगा ट्रायल

आगरा, जागरण संवाददाता। एसएन (सरोजनी नायडू) मेडिकल कालेज को रूस की कोरोना वैक्सीन स्पुतनिक 5 के ट्रायल की अनुमति नहीं मिली है। इससे पहले देसी कोरोना वैक्सीन (कोवैक्सीन) के ट्रायल की भी इंडियन काउंसिल आफ मेडिकल रिसर्च (आइसीएमआर) ने अनुमति नहीं दी थी।

एसएन मेडिकल कालेज को देसी कोरोना वैक्सीन कोवैक्सीन के ट्रायल की अनुमित न मिलने पर रूस की वैक्सीन स्पुतनिक 5 के ट्रायल के लिए प्रयास किए गए। एथीकल कमेटी ने भारत में रूस की वैक्सीन का ट्रायल करा रही डा. रेडीज लैब से वार्ता की। मगर, ट्रायल की अनुमति नहीं मिली है। प्राचार्य डा. संजय काला ने बताया कि रूस की वैक्सीन स्पुतनिक 5 के ट्रायल की अनुमति नहीं मिली है। ट्रायल होने पर प्रदेश का पहला राजकीय मेडिकल कालेज बन जाता एसएन एसएन मेडिकल कालेज उत्तर प्रदेश का पहला राजकीय मेडिकल कालेज था, जिसे देसी कोरोना वैक्सीन कोवैक्सीन के ट्रायल के लिए चुना गया। यहां 400 स्वस्थ्य लोगों पर वैक्सीन का ट्रायल होना था। इसके लिए 35 वालेंटियर भी तैयार हो गए थे मगर, इंडियन काउंसिल आफ मेडिकल रिसर्च (आइसीएमआर) ने अनुमति नहीं दी। आइसीएमआर ने कोरोना वैक्सीन के ट्रायल के लिए देश के अच्छे संस्थानों को चुना है। इसमें एसएन मेडिकल कालेज का नाम नहीं है। ट्रेन से महाराष्ट्र जाने वाले यात्रियों के लिए कोरोना निगेटिव रिपोर्ट जरूरी

आगरा, जागरण संवाददाता। ट्रेन से महाराष्ट्र के किसी शहर में जाने वाले यात्रियों को कोरोना की निगेटिव रिपोर्ट लेकर यात्रा करनी होगी। निगेटिव रिपोर्ट न होने पर यात्रियों को स्टेशन से लौटना पडे़गा या फिर उन्हें अपने खर्च पर कोविड केयर सेंटर में नियमानुसार इलाज कराना होगा।

महाराष्ट्र सरकार ने कोविड संक्रमण को रोकने के लिए बाहर से आने वाले यात्रियों के लिए गाइडलाइन जारी की है। इसमें कोरोना संक्रमित यात्रियों को महाराष्ट्र आने की अनुमति नहीं होगी। महाराष्ट्र जाने वाले यात्रियों को 96 घंटे पहले की सरकार द्वारा नामित लैब से कोरोना जांच करानी होगी। निगेटिव रिपोर्ट आने के बाद ही सफर करें, जिसके पास कोरोना निगेटिव रिपोर्ट नहीं होगी, उन यात्रियों को स्टेशन पर रोक लिया जाएगा। इसके बाद उन्हें राज्य सरकार के कोविड केयर सेंटर भेज दिया जाएगा। यहां पर यात्रियों को जांच और इलाज के खर्च का खुद भुगतान करना होगा।

आगरा रेल मंडल के पीआरओ एसके श्रीवास्तव ने बताया कि महाराष्ट्र सरकार के निर्देश के बाद रिजर्वेशन सेंटरों पर यात्रियों की सूचना के लिए नोटिस चस्पा कर दिए गए हैं। यात्री कोरोना जांच रिपोर्ट लेकर ही यात्रा करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.