DVVNL Bill: बिजली विभाग के शिविरों में ठंड ने धीमी की उपभोक्ताओं की चाल

दोपहर तक शनिवार से भी कम पहुंचे समस्या लेकर उपभोक्ता।

DVVNL Bill दोपहर तक शनिवार से भी कम पहुंचे समस्या लेकर उपभोक्ता। डीवीवीएनएल के बिजली कर्मियों ने रविवार को देहात में विद्युत समाधान शिविर लगाए। बिल संशोधित करने नया कनेक्शन नर्गत करने चोरी का प्रकरण निपटाने जर्जर तार और ट्रांसफारमरों की समस्या सुनने के लिए शिविर लगाए थे।

Publish Date:Sun, 17 Jan 2021 04:29 PM (IST) Author: Tanu Gupta

आगरा, जागरण संवाददाता। रविवार का दिन बिजली विभाग के लिए अशुभ रहा है। ठंड और कोहरे ने बिजली उपभोक्ताओं की रफ्तार पर ऐसा ब्रेक लगाया कि शिविरों में बिजलीकर्मी तरसते रहे। इक्का-दुक्का उपभोक्ता ही अपनी समस्या लेकर बिजलीकर्मियों के सामने पहुंचे।

दक्षिणांचल विद्युत वितरण निगम लिमिटेड (डीवीवीएनएल) के बिजली कर्मियों ने रविवार को देहात में विद्युत समाधान शिविर लगाए। गढ़ी बाईपुर, मुरकिया, बरौली अहीर, बिचपुरी, सगुनापुर, जैंगारा, फतेहपुर सीकरी, दूरा, मदनपुरा, आइपीडीएस सीकरी चार हिस्सा, सैंया, सालेहनगर और जगनेर टाउन में लगे शिविरों की स्थिति यह रही है कि ग्रामीणों ने दोपहर तक शिवरों का रुख नहीं किया। जबकि इन्हीं गांवों में बिजली विभाग टीम बकाएदारों के कनेक्शन काटती रही। इसके बाद उपभोक्ता नहीं चेते। बिजली कर्मियों ने बिल संशोधित करने, नया कनेक्शन नर्गत करने, चोरी का प्रकरण निपटाने, जर्जर तार और ट्रांसफारमरों की समस्या सुनने के लिए शिविर लगाए थे। बिजली अधिकारियों के अनुसार गढ़ी बाईपुर में 87 उपभोक्ताओं पर बकाया है। इनमें से कई उपभोक्ताओं के कनेक्शन कटे हुए हैं। उसके बाद भी बिल जमा करने के लिए तैयार नहीं हैं।

बकाया है पर पूरा जमा नहीं कर सकता

गढ़ी बाईपुर निवासी सुशील कुमार ने बताया कि सात वर्ष से घरेलू कनेक्शन का बिल जमा नहीं पाया। कनेक्शन भी कटा हुआ है, लेकिन 84 हजार रुपये एक साथ जमा करने की क्षमता नहीं है। इसलिए चार बार में जमा करने के लिए बिजली कर्मियों से गुहार लगाई है। यही हाल उसके भाई सुरेंद्र कुमार का है। सुरेंद्र पर भी 43 हजार रुपये बकाया है। वह भी एक साथ जमा करने में सक्षम नहीं है। सुरेंद्र ने बताया कि मजदूरी से ज्यादा कमाई नहीं होती है। इसलिए बकाया हो गया। 

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.