स्मार्ट सिटी के कार्यों के बंटाधार पर मुख्‍यमंत्री योगी को आया गुस्‍सा

 आगरा, जागरण संवाददाता। फतेहाबाद रोड के सुंदरीकरण का कार्य हो या फिर स्ट्रीट वेंडिंग जोन का। डक्ट निर्माण हो अथवा स्मार्ट सिटी का अन्य कोई कार्य। इन सभी कार्यों से प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ नाखुश हैं। प्रोजेक्ट की धीमी प्रगति पर नाराजगी जताई है।

आगरा को एक हजार करोड़ रुपये स्मार्ट तरीके से विकसित किया जा रहा है। यह कार्य पांच साल में पूरा होगा। शुरुआत से ही डीपीआर बनाने में लापरवाही बरती गई। निर्धारित अवधि के भीतर 60 फीसद कार्य नहीं हुए। निर्माण से संबंधित कई कार्य बिना एनओसी के चालू हो गए। इसके चलते एएसआइ, वन विभाग, छावनी परिषद ने कार्यों को रुकवा दिया। एनओसी मिलने में दो से चार माह का समय लगा। तब जाकर दोबारा कार्य शुरू हुए। यहां तक फतेहाबाद रोड पर बिना चैंबर की डिजाइन के डक्ट का निर्माण शुरू हो गया।

बंद चल रहे हैं कार्य

आदर्श आचार संहिता के चलते स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट से संबंधित कार्य बंद चल रहे हैं। 23 मई के बाद काम चालू होंगे।

15वीं है रैंकिंग

स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट में आगरा की 15वीं रैंकिंग है। यह रैंकिंग एक माह पूर्व घोषित हुई थी। इसके बाद कोई रैंकिंग जारी नहीं हुई है।

लापरवाह अफसरों व कर्मचारियों के मांगे नाम

नगर विकास विभाग के सचिव संजय कुमार ने तीन दिनों के भीतर लापरवाह अफसरों और कर्मचारियों के नाम मांगे हैं। जिससे इन पर कार्रवाई हो सके।

स्मार्ट सिटी एक नजर में

- केंद्र सरकार ने दूसरे चरण में आगरा का चयन स्मार्ट सिटी के लिए किया था।

- नौ जनवरी 2017 को आगरा स्मार्ट सिटी प्रा. लि. का गठन किया गया

- दाराशॉ कंपनी का प्रोजेक्ट मैनेजमेंट कंसलटेंट में चयन हुआ

- 14 सितंबर, 2017 से कंपनी ने कार्य शुरू किया

- 13 प्रोजेक्ट्स की 393 करोड़ रुपये की डीपीआर बनी हैं

- लापरवाही पर अगस्त 2018 में स्मार्ट सिटी के पहले महाप्रबंधक अनुराग को बर्खास्त कर दिया गया था।

ये हैं प्रमुख कार्य

- 52.30 करोड़ रुपये से होना है फतेहाबाद रोड का सुंदरीकरण व स्कैपिंग का काम

- 3.81 करोड़ रुपये से बनेगा स्ट्रीट वेंडिंग जोन

- 3.17 करोड़ रुपये से होना है हेरिटेज वाक का विकास

- 2.85 करोड़ से ताजमहल के दो किमी के क्षेत्र में होंगे विकास कार्य

-5.52 करोड़ से होना है ताजमहल के दो किमी के दायरे में पौधरोपण के काम

पेड़ों पर रंग-बिरंगी रोशनी

ताज व फतेहाबाद रोड पर 500 पेड़ चिन्हित किए गए। पेड़ों की छंटाई होगी। इन पर रंग-बिरंगी रोशनी डाली जाएगी। इससे पेड़ों की सुंदरता देखते ही बनेगी। एएसआइ और वन विभाग ने आपत्ति लगा दी है।

डक्ट और नाला निर्माण

कमिश्नरी चौराहा से इनर रिंग रोड तक फतेहाबाद रोड पर साढ़े सात किमी लंबी डक्ट का निर्माण होगा। तीन किमी का काम पूरा हो चुका है।  

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.