Crorepati Mechanic: आगरा में रातों-रात करोड़पति बन गया बाइक मैकेनिक, खाते में निकले 1.20 करोड़

Crorepati Mechanic बरहन के खांडा क्षेत्र में भारतीय स्‍टेट बैंक की शाखा का मामला। करीब 1.20 करोड़ रुपये का ट्रांजेक्‍शन बाइक मैकेनिक के खाते में हुआ है। इसमें से 60 लाख रुपये की निकासी भी हो चुकी है। बैंक स्‍टाफ ने मैकेनिक की पासबुक और अन्‍य दस्‍तावेज रखे अपने पास।

Prateek GuptaThu, 23 Sep 2021 10:00 AM (IST)
बाइक मैकेनिक कपिल, इसी के खाते में 1.20 करोड़ रुपये आए हैं।

आगरा, मुकेश कुशवाहा। रातों-रात मोटरसाइकिल की रिपेयरिंग करने वाला मिस्त्री करोड़पति बन गया है। जब उसको जानकारी हुई तो उसके पैरों तले जमीन खिसक गई कि उसके खाते से लाखों रुपए का लेन-देन भी हो चुका है। बुधवार को मामला खुला तो बाइक मैकेनिक को रातभर नींद नहीं आई। बैंक स्‍टाफ पूरे मामले की पड़ताल में लगा है। प्रारंभिक जांच में सामने आया है कि यूपीआइ के जरिए इस खाते में धनराशि आती थी। खाते को ब्‍लॉक जब किया, उससे पहले ही रकम ही निकासी हो गई।

मामला थाना बरहन क्षेत्र के गांव गढ़ी राम बक्श का है। गढ़ी राम बक्श निवासी कपिल उम्र 20 वर्ष का भारतीय स्टेट बैंक खांडा शाखा में बचत खाता है। कपिल बुधवार को अपने खाते से 5000 पांच हजार रुपये निकालने के लिए गया था। तभी बैंक में पैसे निकालते वक्त बैंककर्मियों ने देखा कि कपिल के खाते में पिछले 20 दिनों में एक करोड़ बीस लाख रुपए का लेनदेन हुआ है। यह जानकारी जब मैनेजर द्वारा कपिल से की गई तो उसने अनभिज्ञता जताई। शाखा प्रबंधक ने कपिल की पासबुक, आधार कार्ड और पैन कार्ड लेकर खाते को ब्लॉक कर दिया है।

वहीं कपिल ने बताया कि बैंककर्मियों ने उसको बताया था कि 16 सितंबर को उसके खाते से 60 लाख रुपए निकाले गए हैं। अभी खाते में से 60 लाख रुपए और जमा हैं। इतनी बड़ी धनराशि खाते में आना कपिल की समझ से परे है। उधर चूंकि ग्रामीण क्षेत्र की बैंक शाखा है, इसलिए उसमें भी करोड़ों का लेनदेन नहीं होता। बैंक स्‍टाफ पूरे मामले की पड़ताल करने में जुटा है।

कपिल को बैंक खाते की जानकारी देते प्रबंधक राजीव कुमार वर्मा। 

UPI के जरिए आती थी धनराशि

शाखा प्रबंधक राजीव कुमार वर्मा का कहना है कि ऑफलाइन ट्रांजेक्‍शन मैनेजमेंट सिस्‍टम (ओटीएमएस) में कपिल का नाम आया। एसबीआइ के इस सिस्‍टम में रिपोर्ट हुआ कि ये खाता नया खुला है और इसमें लगातार कई ट्रांजेक्‍शन हो रहे हैं। यूनो एकाउंट है। यूपीआइ के जरिए इस खाते में रकम आ रही थी। कपिल के खाते में यूपीआइ के जरिए एक साथ बड़ी रकम आती थी लेकिन निकासी कम की होती थी। जैसे ही उन्‍होंने खाते को ब्‍लॉक करना चाहा, उससे पहले ही रुपये भी निकाले जा चुके थे। अब खाते में मात्र 500 रुपये शेष रह गए हैं। इसके पीछे साइबर शातिरों का हाथ होने की आशंका जताई जा रही है। आगरा साइबर सेल भी मामले की जांच में जुट गई है। 

अब आ गया नया मोड़

गुरुवार दोपहर में कपिल के खाते की पूरी पड़ताल की गई। बैंक मैनेजर राजीव कुमार वर्मा का कहना है कि कपिल के खाते से बैंक की 8.34 लाख रुपए का लेनदेन हुआ है। इसमें से लगभग 4.17 लाख लाख रुपये ही उसके खाते में जमा कराए गए थे। वहीं कपिल, इसी बात पर अड़ा है कि खुद बैंक कर्मचारियों ने ही उसे 1.20 करोड़ रुपये खाते में होने की बात बताई थी। उसका कहना है कि उसने एटीएम से रुपए नहीं निकाले, जबकि खाते में एटीएम से विड्राल दिखा रहा है। बैंक ने संदिग्ध लेनदेन को देखते हुए युवक का खाता अभी पार्सली फ्रिज कर दिया है। यानी कि खाते में रुपए तो जमा हो सकते हैं लेकिन इसे कोई निकाल नहीं सकता है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.