top menutop menutop menu

Attack on Police: कानपुर के बाद अब कान्‍हा की नगरी में खाकी पर हमला, भागकर बचानी पड़ी जान

आगरा, जेएनएन। प्रदेश में खाकी पर हमले रुकने का नाम नहीं ले रहे। शुक्रवार सुबह कानपुर में माफिया के मुठभेड़ में आठ पुलिसकर्मी शहीद हो गए तो देर रात मथुरा में भी खाकी पर हमला बोला गया। इसमेंं एक पुलिसकर्मी और होमगार्ड घायल हो गए। यहां पुलिस दो पक्षों में हुए झगड़े को सुलझाने के लिए पहुंची थी।

मामले के अनुसार मथुरा के कोसीकलां में गांव फूलगढ़ी में शुक्रवार रात रिंकू एवं ओमी पक्ष के बीच विवाद हो गया था। पुलिस के अनुसार रिंकू जाटव बाल काटने का सैलून चलाता है। आरोप है कि रिंकू ने ओमी पक्ष के बच्चों के बाल सही तरीके से नहीं काटे। इसको लेकर रिंकू और ओमी पक्ष में विवाद हो गया। मामला बढ़ा तो रिंकू ने 112 पर कॉल कर पुलिस बुला ली। वहां पर 1892 गाड़ी पहुंची। उस पर तैनात पुलिसकर्मी जबर सिंह एवं होमगार्ड चंद्रशेखर ने दोनों पक्षों को सुना और मामले को निपटाने के लिए थाने आने की बात कही और वहां से चल दिए। बताते हैं कि जैसे ही पुलिस वहां से चलने लगी, तभी आरोपित पक्ष के ओमी एवं भंवरी ने पीड़ित रिंकू पर दोबारा हमला बोल दिया और मारपीट करने लगे। मौके पर मौजूद होमगार्ड चंद्रशेखर और जबर सिंह ने उसे बचाने का प्रयास किया तो आरोपितों ने पुलिस पर भी हमला बोल दिया। लाठी- डंडे से पुलिस कर्मियों से मारपीट करने लगे। इसमें होमगार्ड चंद्रशेखर घायल हो गया उसके हाथ एवं सिर में चोट आई हैं। हालात देख दोनों ने भागकर जान बचाई और मामले की सूचना थाना पुलिस को दी। सीओ जगदीश कालीरमन, इंस्पेक्टर प्रमोद पंवार फोर्स लेकर वहां पहुंचे और हमलावरों की तलाश की। घंटों तक गांव में तलाशी लेने के बावजूद ओमी एवं भंवरी का कहीं पता नहीं चल सका। घायल चंद्रशेखर को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया। घायल होमगार्ड चंद्रशेखर ने आरोपित ओमी एवं भंवरी और पुत्र शिब्‍बू के खिलाफ थाना कोसीकला में रिपोर्ट कराई है। पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर लिया है। 

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.