दिल्ली

उत्तर प्रदेश

पंजाब

बिहार

उत्तराखंड

हरियाणा

झारखण्ड

राजस्थान

जम्मू-कश्मीर

हिमाचल प्रदेश

पश्चिम बंगाल

ओडिशा

महाराष्ट्र

गुजरात

बाजारों में दिखी नवरात्र की रौनक, लोगों ने की खरीदारी

बाजारों में दिखी नवरात्र की रौनक, लोगों ने की खरीदारी

पूजन और व्रत सामग्री खरीदने को लगी रही भीड़ गुलाब मोगरा और चंदन के इत्र की भी मांग रही

JagranTue, 13 Apr 2021 05:40 AM (IST)

आगरा, जागरण संवाददाता। नवरात्र पर घर-घर मां दुर्गा की आराधना होगी। व्रत करने वाले माता के भक्त सोमवार को उनके स्वागत के लिए तैयारियों में जुटे रहे। बाजारों में नवरात्र की रौनक छाई रही। भक्तों ने मां भगवती की मूर्ति, पूजन सामग्री और व्रत सामग्री की खरीदारी की। नवरात्र से पहले बाजारों में शाम तक लोगों की भीड़ रही।

नवरात्र में मां दुर्गा को लाल चोला चढ़ाने का विशेष महत्व है। ऐसे में बाजार में माता रानी के लिए एक से बढ़कर एक पोशाक, चुनरी, मुकुट, हार टीका कंगन व अन्य श्रृंगार सामग्री उपलब्ध हैं। सुबह से शाम तक न्यू आगरा, मनकामेश्वर, शाहगंज, बेलनगंज, काली बाड़ी मंदिर स्थित दुकानों पर भक्त पूजन साम्रगी लेने आते रहे। नवरात्र पर माता रानी के लिए गुलाब, मोगरा और चंदन का इत्र की भी मांग रही। व्रत के लिए फलहारी भी खरीदी गई। पूजन के लिए नारियल, फल, बताशा, अगरबत्ती, धूपबत्ती, रुई कुमकुम, हवन के लिए आम की लकड़ी, मेवा व हवन सामग्री खरीदी गई। व्रत के लिए बाजार में स्पेशल आइटम

नवरात्र में व्रत रखने वालों के लिए बाजार में स्पेशल आइटम आए हैं। रावत पाड़ा तिवारी गली स्थित कविता ड्राईफ्रूट के अशोक लालवानी ने बताया कि व्रत रखने वालों के लिए विशेष आटा बनाया गया है। ये आटा सिघाड़ा, मोरधन और राजगिरी का मिश्रण है। जिन लोगों को कूटू का आटा खाने से गर्मी होती है उनके लिए राजगिरी आटा है। इसके अलावा रेडीमेड शाही मखाना खीर भी उपलब्ध है। इसे बस दूध में डालना होगा। इसके साथ इमली की चटनी, रामदाना लड्डू व व्रत का चाट मसाला भी उपलब्ध है। इसके अलावा कई मिष्ठान विक्रेताओं ने व्रत के लिए स्पेशल थाली लांच की है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.