Wimbledon 2021: भारतीय मूल के समीर बनर्जी ने जीता जूनियर एकल खिताब

समीर बनर्जी ने रविवार को हमवतन विक्टर लिलोव को सीधे सेटों में हराकर विंबलडन में लड़कों का एकल खिताब अपने नाम किया। अपना दूसरा जूनियर ग्रैंड स्लैम खेल रहे 17 साल के इस खिलाड़ी ने एक घंटे 22 मिनट तक चले फाइनल में 7-5 6-3 से जीत हासिल की।

Sanjay SavernSun, 11 Jul 2021 09:51 PM (IST)
समीर बनर्जी ने जीता जूनियर का एकल खिताब (एपी फोटो)

लंदन, प्रेट्र। भारतीय मूल के अमेरिकी टेनिस खिलाड़ी समीर बनर्जी ने रविवार को अपने हमवतन विक्टर लिलोव को सीधे सेटों में हराकर विंबलडन में लड़कों का एकल खिताब अपने नाम किया। समीर ने लगातार दो सेटों में जीत हासिल करते हुए ये खिताब अपने नाम किया। समीर के सामने लिलोव एक बार भी खेल में हावी नहीं हो पाए और आसानी से दोनों सेट गंवा दिए। हालांकि पहले सेट में लिलोव ने थोड़ा सा दम जरूर दिखाया, लेकिन दूसरे सेट में वो पूरी तरह से बेबस नजर आए और उन्हें हार का सामना करना पड़ा। 

अपना दूसरा जूनियर ग्रैंड स्लैम खेल रहे 17 साल के इस खिलाड़ी ने एक घंटे 22 मिनट तक चले फाइनल में 7-5, 6-3 से जीत हासिल की। बनर्जी के माता-पिता 1980 के दशक में अमेरिका में बस गए थे। जूनियर फ्रेंच ओपन में बनर्जी पहले दौर में ही बाहर हो गए थे। युकी भांबरी जूनियर एकल खिताब जीतने वाले आखिरी भारतीय थे, उन्होंने 2009 में ऑस्ट्रेलियन ओपन में जीत हासिल की थी। समीर बनर्जी ने 11 साल के बाद ये कमाल किया। 

आपको बता दें कि, सुमित नागल ने 2015 में वियतनाम के ली होआंग के साथ विम्बलडन लड़कों का युगल खिताब जीता था। रामनाथन कृष्णन 1954 जूनियर विंबलडन चैंपियनशिप जीत का जूनियर ग्रैंड स्लैम जीतने वाले पहले भारतीय थे।

उनके बेटे रमेश कृष्णन ने 1970 जूनियर विंबलडन और जूनियर फ्रेंच ओपन खिताब जीता था। लिएंडर पेस ने 1990 जूनियर विंबलडन और जूनियर यूएस ओपन जीता था। पेस जूनियर ऑस्ट्रेलियाई ओपन में भी उपविजेता रहे थे।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.