सौर ऊर्जा से चलने वाले Solophone ने दिया भारतीय बाजार में दस्तक, बुकिंग सिर्फ 490 रुपए से शुरू

नई दिल्ली, टेक डेस्क। सौर ऊर्जा पर चलने वाला Solophone भारतीय बाजार में आ चुका है। पिछले कुछ सालों से भारत जैसे देश में सोलर एनर्जी पर काफी जोर दिया जा रहा है। सोलर एनर्जी न सिर्फ पर्यावरण के लिए लाभदायक है, बल्कि इसकी वजह से अन्य स्रोत से पैदा किए जाने वाले कई किलो वॉट बिजली की खपत कम की जा सकती है। प्रधानमंत्री जी की प्रकृति प्रेम को देखते हुए Solophone को भारतीय बाजार में उतारा गया है।यह एक क्रांतिकारी खोजहै और इसका वितरण कंपनी द्वारा first come first take के आधार पर किया जाएगा।कंपनी का उद्देश्य सभी वर्गों को लाभ पहुंचाना है। इसलिए इसकी बुकिंग महज Rs490 से शुरू की जाएगी।

कंपनी ने 5 साल की कड़ी मेहनत के बाद Solophone का इजाद किया है।आविष्कार के बाद कंपनी ने इसे 16 महीनों तक जांचा और परखा, इसके बाद इसे यूजर्स के लिए उपलब्ध कराया। जिनलोगों ने Solophone को चलाया, उन्होंने इसे हर मोर्चे पर खरा पाया है।इस आधुनिक खोज की वजह से देश में हजारों वॉट की बिजली बचाई जा सकेगी। Solophone की तकनीक में कई तरह के बदलाव किए गए हैं, जो इससे निकलने वाली हानिकारक तरंगों का सदुपयोग करके इसे हानिरहित बनाती है।

Solophone की बुकिंग के लिए कंपनी ने कुछ नियम तय किए हैं। इस नियम के मुताबिक, निर्धारित संख्या से अधिक बुकिंग होने पर इसकी बुकिंग रोक दी जाएगी। इसकी सूचना आपको SMS और Website के जरिए दी जाएगी। Solophone की डिलीवरी नए साल पर शुरू की जाएगी।फोन में किसी भी तरह की दिक्कत होने पर आप इसकी शिकायत कर सकते हैं।शिकायत के बाद अधिकृत अधिकारी आपके पते पर आकर फोन की समस्याओं को दूर करेंगे।

सोलर प्रोडक्ट होने की वजह से कंपनी इसे NO PROFIT NO LOSS के आधार पर ग्राहकों को कम मूल्य पर उपलब्ध करवा रही है। Solophone को सभी वर्गों को ध्यान में रखकर डिजाइन किया गया है, ताकि किसी को भी आधुनिक फीचर्स की कमी महसूस न हो।

Solophone में इन तकनीकों का हुआ है इस्तेमाल

AFSC – ये तकनीक सोलर चार्जिंग से फोन को गर्म होने से बचाती है, जिससे बैटरी की लाइफ बढ़ती है।यही नहीं इस टेक्नोलॉजी से आपका फोन घंटों तक बिना किसी रूकावट के चलती है।

S.P.I.T- ये तकनीक आपके फोन की सोलर चार्जिंग को प्रदर्शित करती है और बैटरी फुल चार्ज होने पर स्वतः चार्जिंग बन्द हो जाती है।

S.A.M.S- ये एक सेंसर है जो बैटरी के 70% पहुंचने पर स्वतः चालू हो जाता है और बैटरी चार्ज होने लगता है।

L.T.BBST - साधारण बैटरी की तुलना में यह बैटरी 45% अधिक कार्यकुशलता से काम करती है और लम्बे समय तक बैटरी की लाइफ को बरकरार रखती है। इसके द्वारा आपको बार-बार चार्जिंग से भी मुक्ति मिलती है।

S.N.H.P.C.T - इस क्रांतिकारी अविश्वसनीय बदलाव की वजह से सोलर तकनीक दुनिया में मील का पत्थर साबित होगी।इस तकनीक के द्वारा मोबाइल सेल में लगा छोटा सोलर पैनल एनर्जी को एकत्रित करके बैटरी को तेजी से चार्ज करता है।

विश्व का पहला भारत और जापान की कंपनी #kyocera की अत्यंत आधुनिक सौर संचालित तकनीक से प्रेरित स्मार्टफोन। अधिक जानकारी के लिए टाइप करें  https://solophones.in/

भारत का विश्वास और Kyocera की तकनीक का अविष्कार Solophone

भारतीय बाजार और लोगों की आवश्यकता को देखते हुए हमने ये महसूस किया कि आज भी भारत के बहुत से ग्रामीण क्षेत्रों में बिजली की उपलब्धता सही तरीके से नही है, जिससे लोगों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। हमारा मानना है कि जितने संसाधन प्रकृति ने हमें दिए हैं, उन्हें ही सदुपयोग में लाना चाहिए, जिससे ग्लोबल वार्मिंग का ख़तरा न रहे।उन जरूरतमंद लोगों की आवश्यकता को समझते हुए हमने एक सौर तकनीक पर आधरित मोबाइल फोन बनाने की कोशिश की, जिसमें हमें सौर ऊर्जा क्षेत्र में विश्व की अग्रणी कंपनी से हाथ मिलाया और हमें इसमें सफलता मिली है।

इस तकनीक से न केवल लोगों की जरूरत को पूरा किया जा सकेगा, बल्कि देश की हजारों वॉट बिजली भी बचेगी। भारत सौर ऊर्जा क्षेत्र में विश्व में अभी तीसरे स्थान पर है।इस क्रांतिकारी खोज के परिणामस्वरूप हमारा देश इस क्षेत्र में काफी आगे निकल सकता है। इसके इस्तेमाल से सिर्फ बिजली ही नहीं, बल्कि जल का संरक्षण भी होगा और आपका मोबाइल फोन भी हानिरहित रहेगा।कंपनी कमाए गए मुनाफे में से कुछ प्रतिशत उन ग़रीब बच्चों की पढ़ाई पर खर्च करेगी, जिनके गांव में बिजली की सुविधा नहीं है। साथ ही, उनके लिए सौर उपकरण के द्वारा रोशनी की उचित व्यवस्था भी कराई जाएगी। इस फोन को अभी बुक करने के लिए इस लिंक https://solophones.in/ पर क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.
Next Story