भारत में फिर गरमाया BGMI और Free Fire गेम बैन का मुद्दा, सरकार से चीन जैसे कदम उठाने की रखी मांग

पीएम मोदी को लिखे पत्र में जज ने सुझाव दिया कि सरकार को चीन की तरह एक कड़ा गेमिंग कानून लाना चाहिए। भारतीय जज एडीजे नरेश कुमार लाका ने हाल ही में पीएम मोदी को पत्र लिखकर BGMI और Garena Free Fire को प्रतिबंधित करने की मांग की है।

Saurabh VermaThu, 05 Aug 2021 08:43 PM (IST)
यह BGMI की प्रतीकात्मक फाइल फोटो है।

नई दिल्ली, टेक डेस्क। भारत में हाल ही में PUBG गेम के इंडिया वर्जन बैटल ग्राउंड मोबाइल इंडिया (BGMI) को लॉन्च किया गया है। हालांकि लॉन्चिंग के बाद से BGMI और Free Fire गेम के बैन की मांग की जा रही है। हालांकि हाल ही में भारतीय न्यायालय के एक जज ने BGMI और Free Fire गेम के संबंध में पीएम मोदी को एक पत्र लिखा है, जिसके बाद से ही BGMI और Free Fire जैसे गेम को बैन की मांग तेज हो गई है। साथ ही देश में इस तरह के गेम को प्रतिबंधित करने की बहस चल पड़ी है।

BGMI और Free Fire बैन की मांग 

पीएम मोदी को लिखे पत्र में जज ने सुझाव दिया कि सरकार को चीन की तरह एक कड़ा गेमिंग कानून लाना चाहिए। भारतीय जज एडीजे नरेश कुमार लाका ने हाल ही में पीएम मोदी को पत्र लिखकर PUBG India गेम (BGMI) और Garena Free Fire को प्रतिबंधित करने की मांग की है। उन्होंने कहा कि देश की ज्यादातर आबादी ने पीएम मोदी के PUBG गेम को बैन के फैसले की सराहना की थी, जो बच्चों पर नकारात्मक असर डाल रहे थे। हालांकि अब PUBG के इंडिया वर्जन को फिर से प्रतिबंधित करने की मांग की जा रही है। 

गेम Google Play Store पर डाउनलोडिंग के लिए मौजूद 

जज ने पत्र में ऑनलाइन गेमिंग के बच्चों पर पड़ने वाले असर का विस्तार से जिक्र किया है। साथ ही बताया कि दोनों गेम्स भारत में Google Play Storye पर डाउनलोडिंग के लिए मौजूद हैं। इन दोनों गेम्स को जल्द से जल्द बैन करने की मांग की गई है। जज ने सरकार से कहा कि उसे चीन की तरह बच्चों के ऑनलाइन गेम खेलने पर प्रतिबंध लगाना है। Laka ने बताया कि चीन में 18 साल से कम उम्र के बच्चों को 90 मिनट से ज्यादा गेम खेलने पर प्रतिबंध है।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.