Dominos से ऑनलाइन Pizza ऑर्डर करन वाले ग्राहकों के लिए बुरी खबर! लोगों के क्रेडिट कार्ड समेत ये अहम डेटा हुआ चोरी

यह Dominos की प्रतीकात्मक फाइल फोटो है।

साइबर सिक्योरिटी फर्म Hudson Rock के सिक्योरिटी रिसर्चर और चीफ टेक्नोलॉजी ऑफिसर Alon Gal के मुताबिक हैकर्स का दावा है कि हैकर्स की तरफ से Dominos India का 13TB डेटा चोरी किया है। इस जानकारी को हैकर्स डार्क वेब पर 4 करोड़ रुपये में बेच रहे हैं।

Saurabh VermaMon, 19 Apr 2021 05:33 PM (IST)

नई दिल्ली, टेक डेस्क। Domino's Pizza India से ऑनलाइन Pizza ऑर्डर करने वालों के लिए बुरी खबर है। दरअसल अमेरिकन मल्टीनेशनल पिज्जा रेस्टोरेंट चेन को हाल ही में हैकर्स ने निशाना बनाया है, जहां से भारतीय ग्राहकों का बड़े पैमाने पर डेटा चोरी किया गया है, जो ऑनलाइन पिज्जा आर्डर करते थे। इसमें करीब 10 लाख लोगों की क्रेडिट कार्ड डिटेल शामिल है। साथ ही 18 लोगों की अन्य पर्सनल जानकारी जैसे नाम, मोबाइल नंबर, घर का एड्रेस, पेमेंट मोड और मेल आईडी शामिल है। 

4 करोड़ रुपये में बेचा जा रहा है डेटा 

साइबर सिक्योरिटी फर्म Hudson Rock के सिक्योरिटी रिसर्चर और चीफ टेक्नोलॉजी ऑफिसर Alon Gal के मुताबिक हैकर्स का दावा है कि हैकर्स की तरफ से Domino's India का 13TB डेटा चोरी किया है। इस जानकारी को हैकर्स डार्क वेब पर 4 करोड़ रुपये में बेच रहे हैं। इंडिपेंडेंट साइबर सिक्योरिटी रिसर्चर Rajshekhar Rajaharia ने IANS को दिये इंटरव्यू में बताया कि उन्होंने इस हैक की संभावना को लेकर पहले ही आगाह किया था। उन्होंने इसको लेकर 5 मार्च को ही आगाह किया था। 

अन्य कंपनियों को भी पहुंचाया गया नुकसान 

Domino's India के यूजर्स और ऑर्डर से अलग हैकर्स ने कंपनी के 250 कर्मचारियों का डेटा चोरी किया है, जिसमें आईटी, लीगल, फाइनेंस डिपार्टमेंट के कर्मचारी शामिल हैं। RajaShekhar Rajaharia के मुताबिक इसी तरह से हैकर्स ने पिछले दिनों Mobikwik का डेटा चोरी किया था। पिछले माह ही Mobikwik के 35 लाख यूजर्स का डेटा चोरी हुआ था। हालांकि कंपनी ने इससे इनकार किया था। Domino ही नहीं, इससे पहले Juspay, BigBasket, Unacademy और अन्य कंपनियों की हैकर्स ने नुकसान पहुंचाया है। साथ ही भारत के पावर सेक्टर और अन्य जैसे Jio जैसी दिग्गज कंपनियों को चीनी हैकर्स ने निशाना पहुंचाया था।

पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों से जुड़ी प्रमुख जानकारियों और आंकड़ों के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.