Vastu Tips For Plants: घर में इस जगह पर कभी न लगाएं पौधे, जानें उन्नति और सुख-समृद्धि से इनका संबंध

File Photo: वास्तु अनुसार पेड़-पौधे लगाना चाहिए।
Publish Date:Tue, 29 Sep 2020 10:01 AM (IST) Author: Kartikey Tiwari

Vastu Tips For Plants: घर में लगे पेड़-पौधे या बगीचा, घर के सौन्दर्य में वृद्धि करते हैं और स्वास्थ्य के लिए भी लाभकारी होते हैं। पेड़-पौधों के महत्व और मानव पर पड़ने वाले इनके प्रभाव को देखते हुए वास्तु शास्त्र में इनके उपयोग के सम्बन्ध में कुछ विशेष नियम बनाए गए हैं। इन नियमों का पालन करके आप अपने घर में सकारात्मक ऊर्जा का प्रवाह सुनिश्चित कर सकते हैं। ऐसा करने पर आप अपने निवास स्थान को सुन्दर बनाने के साथ ही अपनी उन्नति और सुख-समृद्धि के मार्ग भी खोल सकते हैं। वास्तुकार संजय कुड़ी से जानते है पेड़-पौधों के सम्बन्ध में वास्तु शास्त्र के कुछ महत्वपूर्ण सिद्धांत।

पेड़-पौधे और उनके लिए उचित दिशाएं

वास्तु शास्त्र के अनुसार, पेड़-पौधों को सही दिशा में लगाया जाए, तो ये आश्चर्यजनक रूप से लाभकारी हो सकते हैं। सूर्य की किरणों और अन्य प्राकृतिक ऊर्जा के प्रभाव के चलते वास्तु शास्त्र में कुछ दिशाएं भारी निर्माण और भारी वस्तुओं को रखने के लिए उपयुक्त होती हैं, तो वही कुछ दिशाएं तुलनात्मक रूप से अधिक हल्की और खाली रखी जाती हैं। दिशाओं के इन्ही गुणों के आधार पर ही हमें घर में पेड़-पौधे लगाने चाहिए।

उदाहरण के लिए सुबह के वक्त पड़ने वाली फायदेमंद पराबैंगनी किरणों का पूरा लाभ मिल सके, इसीलिए उत्तर और पूर्व दिशा में पीपल, बरगद नारियल जैसे भारी, लम्बे व अधिक फैलाव वाले पेड़ लगाने से बचना चाहिए। यहां पर छोटे पौधे लगाए जा सकते हैं। तुलसी का पौधा उत्तर या उत्तर-पूर्व दिशा में लगाया जा सकता है। उत्तर दिशा में लाल रंग के पौधे नहीं लगाएं। वहीं, दूसरी ओर दक्षिण और पश्चिम दिशाओं में पड़ने वाली हानिकारक अवरक्त किरणों से बचाव के लिए इन दिशाओं में भारी पेड़ लगाए जा सकते हैं। दक्षिण दिशा में नीले रंग के पौधे लगाना शुभ परिणाम प्रदान नहीं करेगा।

ध्यान में रखने योग्य कुछ बातें

1. मुख्य द्वार के ठीक सामने कोई भी पेड़ या पौधा नहीं लगाएं। यह द्वार वेध का कारण बनेगा।

2. घर में बोनसाई वाले पेड़ या कांटेदार पेड़-पौधे नहीं लगाएं। ये आपकी प्रगति में बाधक बनते हैं। कैक्टस, नागफनी, इमली, खजूर इत्यादि पेड़-पौधे भी घर में नहीं लगाएं।

3. घर के ब्रह्मस्थान पर कोई पेड़-पौधा लगाने से बचें। यह स्थान बिलकुल समतल और स्वच्छ होना चाहिए क्योंकि वास्तु शास्त्र में इसे बेहद संवेदनशील जगह माना गया है।

4. इस बात का ध्यान रखें कि पेड़ घर की दीवारों के बिलकुल समीप नहीं हो। यह नींव कमजोर करते हैं।

5. पेड़ लगाते वक्त इस बात का ध्यान रखें कि यह पूर्व से आने वाली लाभकारी सूर्य के प्रकाश में बाधा न बनें।

डिसक्लेमर

'इस लेख में निहित किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना की सटीकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संग्रहित कर ये जानकारियां आप तक पहुंचाई गई हैं। हमारा उद्देश्य महज सूचना पहुंचाना है, इसके उपयोगकर्ता इसे महज सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त, इसके किसी भी उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता की ही रहेगी। '

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.