top menutop menutop menu

Ten Avatars of Lord Vishnu: भगवान विष्णु ने लिए हैं ये अवतार, कलियुग के अंत में कल्कि रूप में होंगे अवतरित

Ten Avatars of Lord Vishnu: भगवान विष्णु ने लिए हैं ये अवतार, कलियुग के अंत में कल्कि रूप में होंगे अवतरित
Publish Date:Thu, 13 Aug 2020 09:00 AM (IST) Author: Shilpa Srivastava

Ten Avatars of Lord Vishnu: श्रीमद् भागवत में श्रीकृष्ण ने कहा है, जब-जब धर्म की हानि होती है और अधर्म बढ़ता है, तब-तब भगवान विष्णु अवतार लेते हैं और धर्म की स्थापना करते हैं... उज्जैन के ज्योतिषाचार्य पं. मनीष शर्मा के अनुसार, विष्णु पुराण में भगवान के 10 मुख्य अवतारों के बारे में बताया गया है। यहां हम आपको इन्हीं अवतारों के बारे में बताने जा रहे हैं।

मत्स्य अवतार: प्राचीन समय में असुर हयग्रीव का आतंक इतना ज्यादा बढ़ गया था जिससे पूरी धरती जल मग्न हो गई थी। उस समय विष्णु भगवान ने मछली के रूप में पहला अवतार लिया था। इस अवतार का नाम मत्स्य था। इस दौरान मछली के रूप में विष्णुजी ने हयग्रीव का वध किया था। वहीं, धरती को जल से निकाला थ।

कूर्म अवतार: समुद्र मंथन देवता और दानवों ने मिलकर किया था। इस समय कछुए के रूप में विष्णुजी ने कूर्म अवतार लिया था। श्री हरी के इस अवतार ने मंदार पर्वत अपने कवच पर धारण किया था। इसके बाद ही देवता और असुरों ने समुद्र को मथा था।

वराह अवतार: हिरण्याक्ष नाम का एक दैत्य था। इस दैत्य ने पृथ्वी को समुद्र में छिपा दिया था। उस समय श्रीहरि ने वराह का रूप लिया था। वराह अवतार ने हिरण्याक्ष का वध किया था और धरती को समुद्र से बाहर निकाला था।

नृसिंह अवतार: हिरण्यकश्यप नाम का एक असुर था। इसके पुत्र का नाम प्रहलाद था। विष्णुजी ने प्रहलाद की रक्षा के लिए नृसिंह का अवतार लिया था। इस अवतार में श्रीहरि ने हिरण्यकश्यप का वध किया था।

वामन अवतार: असुरों का राजा था राजा बलि। इस बहुत घमंड था। इसके घमंड को तोड़ने के लिए ही विष्णुजी ने वामन अवतार लिया था। वामनदेव को राजा बलि ने तीन पग जमीन देने का वादा किया था। वामनदेव ने पहले पग में धरती तो दूसरे में स्वर्ग नाप लिया। वहीं, तीसरा पग बलि ने अपने सिर पर रख लिया था। इससे वह पाताल पहुंच गया था।

परशुराम अवतार: परशुराम के रूप में विष्णुजी ने अवतार लिया था। इस अवतार में श्रीहरि ने राजा सहस्त्रार्जुन का वध किया था।

श्रीराम अवतार: श्रीहरि ने श्रीराम का अवतार त्रेतायुग में लिया था। इस युग में श्रीराम ने रावण का वध किया था। रावण के वध से तीनों लोकों को उससे मुक्ति मिल गई थी।

श्रीकृष्ण अवतार: कंस और दुर्योधन जैसे अधर्मियों को खत्न करने के लिए द्वापर युग में श्रीकृष्ण के अवतार में श्रीहरि जन्मे थे। इस युग में एक तरफ उन्होंने अपने मामा यानी कंस का अंत किया। वहीं, दुर्योधन के कौरव वंश का अंत पांडवों से करवाया और धर्म की स्थापना की।

बुद्ध अवतार: माना गया है कि भगवान बुद्ध विष्णुजी के नौवें अवतार हैं। इन्होंने ही बौद्ध धर्म की स्थापना की था। साथ ही हिंसा से दूर रहने का उपदेश भी दिया था।

कल्कि अवतार: यह अवतार अभी प्रकट नहीं हुआ है। यह भगवान विष्णु का दसवां अवतार है। कहा जाता है कि जब कलियुग में अधर्म काफी बढ़ जाएगा तब भगवान विष्णु कल्कि का अवतार लेंगे और धर्म की स्थापना करेंगे।

डिस्क्लेमर- 

''इस लेख में निहित किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना में निहित सटीकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है. विभिन्स माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/मान्यताओं/धर्म ग्रंथों से संग्रहित कर ये जानकारी आप तक पहुंचाई गई हैं. हमारा उद्देश्य महज सूचना पहुंचाना है, इसके उपयोगकर्ता इसे महज सूचना के तहत ही लें. इसके अतिरिक्त इसके किसी भी उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता की ही रहेगी. ''

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.