Aaj Ka Panchang: जानिए 06 दिसंबर 2021 का पंचाग, शुभ मुहूर्त, राहुकाल एवं दिशाशूल

Aaj Ka Panchang हिन्दू कैलेंडर के अनुसार आज मार्गशीर्ष मास के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि है। आज 06 दिसंबर 2021 और दिन सोमवार है। सोमवार के दिन भगवान शिव का पूजन किया जाता है। इसके साथ ही इस दिन सोम अर्थात चंद्रमा का पूजन किया जाता है।

Jeetesh KumarMon, 06 Dec 2021 01:51 AM (IST)
Aaj Ka Panchang: जानिए 06 दिसंबर 2021 का पंचाग, शुभ मुहूर्त, राहुकाल एवं दिशाशूल

Aaj Ka Panchang: हिन्दू कैलेंडर के अनुसार, आज मार्गशीर्ष मास के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि है। आज 06 दिसंबर 2021 और दिन सोमवार है। सोमवार के दिन भगवान शिव का पूजन किया जाता है। इस दिन शिव जी का व्रत रखने और पूजन करने का विधान है। इसके साथ ही इस दिन सोम अर्थात चंद्रमा का पूजन किया जाता है। उनके नाम पर ही इस दिन को सोमवार कहा जाता है। इस दिन चंद्रमा के मंत्रों का जाप करने से चंद्र दोष से मुक्ति मिलती है। इसके साथ ही आज के पंचांग में शुभ मुहूर्त, राहुकाल, दिशाशूल के अलावा सूर्योदय, सूर्यास्त, चंद्रोदय, चंद्रास्त आदि के बारे में भी जानकारी दी जा रही है।

आज का पंचांग

6 दिसंबर 2021 का पंचांग

आज का दिशाशूल: पूर्व।

आज का पर्व एवं त्योहार: रम्भा तृतीया।

विक्रम संवत 2078 शके 1943 दक्षिणायन, दक्षिणगोल, हेमंत ऋतु मार्गशीर्ष मास शुक्ल पक्ष की तृतीया 26 घंटे 32 मिनट तक, तत्पश्चात् चतुर्थी पूर्वाआषाढ़ा नक्षत्र 26 घंटे 19 मिनट तक, तत्पश्चात् उत्तराअषाढ़ा नक्षत्र गण्ड योग 20 घंटे 05 मिनट तक, तत्पश्चात् वृद्धि योग धनु में चंद्रमा।

सूर्योदय और सूर्यास्त

आज के दिन सूर्योदय प्रात:काल 07.00 बजे हुआ है, वहीं सूर्यास्त शाम को 05 बजकर 24 मिनट पर होगा।

चंद्रोदय और चंद्रास्त

चंद्रोदय आज प्रातः 09 बजकर 09 मिनट पर होना है। चंद्र के अस्त का समय अगले दिन शाम को 07 बजकर 31 मिनट पर है।

आज का शुभ समय

शुभ योग: आज गण्ड योग 20 घंटे 05 मिनट तक है, इसके बाद वृद्धि योग रहेगा।

ब्रह्म मुहूर्तः प्रातः 05 बजकर 11 मिनट से 06 बजकर 06 मिनट तक रहेगा।

अभिजित मुहूर्त: दोपहर 11 बजकर 51 मिनट से दोपहर 12 बजकर 33 मिनट तक।

विजय मुहूर्त: दोपहर 01 बजकर 56 मिनट से दोपहर 02 बजकर 38 मिनट तक।

अमृत काल: आज प्रातः काल 10 बजकर 02 मिनट से 11 बजकर 28 मिनट तक।

आज भगवान शिव-पार्वती और चंद्रमा का पूजन करना चाहिए। कल शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथी रहेगी, इसे विनायक चतुर्थी के नाम से जाना जाता है। इस दिन भगवान गणेश के पूजन का विधान है। 

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.