Coronavirus: राजस्थान की यह महिला पांच माह से कोरोना संक्रमित, 31 टेस्ट रिपोर्ट पॉजिटिव; अब होगी 32वीं जांच

महिला पांच माह से कोरोना संक्रमित। फाइल फोटो

Coronavirus भरतपुर के अपना घर आश्रम में रह रही 30 वर्षीय शारदा देवी पिछले पांच माह से कोरोना से जूझ रही है। इस दौरान शारदा देवी के 17 बार आरटीपीसीआई और 14 बार रैपिड एंटीजन टेस्ट कराए जिनकी रिपोर्ट में वे पॉजिटिव मिली।

Publish Date:Sun, 24 Jan 2021 09:14 PM (IST) Author: Sachin Kumar Mishra

जागरण संवाददाता, जयपुर। Coronavirus: राजस्थान के भरतपुर में एक कोरोना पीड़ित महिला पिछले पांच माह में 31 बार जांच करा चुकी है, लेकिन प्रत्येक जांच में उसकी रिपोर्ट पॉजिटिव आ रही है। आमतौर पर कोरोना 14 दिन में पूरा हो जाता है, लेकिन भरतपुर के अपना घर आश्रम में रह रही 30 वर्षीय शारदा देवी पिछले पांच माह से कोरोना से जूझ रही है। इस दौरान शारदा देवी के 17 बार आरटीपीसीआई और 14 बार रैपिड एंटीजन टेस्ट कराए, जिनकी रिपोर्ट में वे पॉजिटिव मिली। इस दौरान उन्हे एलोपैथी, आयुर्वेदिक व होम्योपैथी की दवा दी गई, लेकिन शारदा देवी को इन से कोई फायदा नहीं हुआ। अपना घर आश्रम के संचालक और अध्यक्ष डॉ. बीएम भारद्वाज का कहना है कि शारदा देवी को जब यहां लाया गया था तो उनका वजन काफी कम था। वे काफी बीमार थी। उनकी जांच कराई तो वे कोरोना पॉजिटिव मिली।

आश्रम में उनका ध्यान रखा गया तो वजन आठ किलो बढ़ गया। पहले 30 किलो उनका वजन था जो अब बढ़कर 38 किलो हो गया। संभतया यह देश का ऐसा पहला मामला होगा, जिसमें पांच माह से पीड़ित के कारोना रिपॉर्ट पॉजिटिव आ रही है। वे खुद को पूरी तरह से स्वस्थ महसूस कर रही है। उन्हें आश्रम में बनाए गए एक आइसोलेशन रूम में रखा गया है। अब तक उनके 31 बार टेस्ट कराए गए, अब सोमवार को 32वीं बार जांच होगी। अपना घर आश्रम में बेसहारा लोगों को रखा जाता है। ऐसी ही शारदा देवी है, जिन्हे करीब सात माह पूर्व यहां लाया गया था। इस दौरान वे करीब 45 लीटर काढ़ा पी गई।

भरतपुर के मुख्य चिकित्सा व स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. कप्तान सिंह का कहना है कि अब टेस्ट की कोई जरूरत नहीं है। उनकी रिपोर्ट पॉजिटिव आ रही है, लेकिन उनके लक्षण देखकर लगता है कि उनका वायरस खत्म हो चुका है, जो किसी ऑर्गेन में फंसा हुआ है। इस कारण जांच कराने पर रिपोर्ट तो पॉजिटिव आएगी, लेकिन खतरे की कोई बात नहीं है। शारदा देवी का खुद का कहना है कि मैं पूरी तरह से स्वस्थ हूं। आश्रम में 3046 लोग रह रहे हैं। इनमें 1728 महिलाएं हैं।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.