राजस्थान की एक महिला विधायक पर पुलिकर्मी को थप्पड़ मारने का आरोप, जांच सीआईडी-सीबी करेगी

राजस्थान की निर्दलीय विधायक रमीला खड़िया पर एक हेड कॉन्स्टेबल को मारने के आरोप में केस भी दर्ज कर लिया गया है।राजस्थान के कुशलगढ़ से विधायक रमीला ने अपने ऊपर लगे आरोपों को खारिज करते हुए कहा है कि आरोप पूरी तरह झूठे हैं।

Priti JhaTue, 15 Jun 2021 01:19 PM (IST)
बांसवाड़ा में निर्दलीय विधायक के खिलाफ मामला दर्ज, पुलिसकर्मी को थप्पड़ मारने का आरोप

उदयपुर, संवाद सूत्र। राजस्थान की एक महिला विधायक पर पुलिकर्मी को थप्पड़ मारने का आरोप लगा है। राजस्थान की निर्दलीय विधायक रमीला खड़िया पर एक हेड कॉन्स्टेबल को मारने के आरोप में केस भी दर्ज कर लिया गया है।राजस्थान के कुशलगढ़ से विधायक रमीला ने अपने ऊपर लगे आरोपों को खारिज करते हुए कहा है कि आरोप पूरी तरह झूठे हैं। वह पुलिवाला लोगों को परेशान करता है और लोगों से कानून के नाम पर पैसे ऐंठता है।

बांसवाड़ा जिले से कुशलगढ़ की निर्दलीय विधायक रमिला खड़िया के खिलाफ हैड कांस्टेबल महेंद्र नाथ ने मामला दर्ज कराया है। विधायक सहित पांच जनों के खिलाफ उसने ड्यूटी के दौरान थप्पड़ मारने तथा मारपीट का आरोप लगाया है। दूसरी ओर विधायक के भतीजे ने हैड कांस्टेबल तथा अन्य पुलिसकर्मियों के खिलाफ मारपीट का केस दर्ज कराया है। मामले की जांच राज्य सरकार ने सीआईडी सीबी को सौंपी है।

विधायक रमिला खड़िया के हैड कांस्टेबल महेंद्र नाथ को कथित रूप से थप्पड़ जड़ने की घटना रविवार की बताई जा रही है लेकिन इसका विवाद बढ़ता जा रहा है। महेंद्र नाथ ने एक दिन बाद सोमवार रात विधायक सहित पांच जनों के खिलाफ रिपोर्ट थाने में दी थी। इधर, विधायक रमिला के भतीजे सुनील ने मंगलवार रात हैड कांस्टेबल महेंद्र नाथ सहित अन्य पुलिसकर्मियों के खिलाफ भी मारपीट का आरोप लगाया है।

यह बताया जा रहा घटनाक्रम

बांसवाड़ा पुलिस के हैड कांस्टेबल महेंद्र नाथ के मुताबिक वह रविवार को नाइट ड्यूटी कर रहाथा। रात लगभग साढ़े दस बजे ने उसने सुनील नाथ को रोका तथा पूछताछ की थी। तब सुनील को खुद को विधायक रमिला का रिश्तेदार बताते हुए धोंस दी तथा धमकाने लगा। इसी दौरान विधायक रमिला भी मौके पर आईं। विधायक ने ना केवल उसे धमकाया, बल्कि थप्पड़ भी मारे। जिसको लेकर उसने विधायक सहित पांच जनों के खिलाफ कुशलगढ़ थाने में ड्यूटी के दौरान पुलिसकर्मी से बदसलूकी, मारपीट तथा ड्यूटी से रोकने के साथ राज्य काज में बाधा पहुंचाने का मामला दर्ज कराया था। जबकि विधायक रमिला खड़िया ने थप्पड़ मारने या मारपीट किए जाने की घटना से साफ इंकार किया है।उनके भतीजे सुनील ने मंगलवार रात हैड कांस्टेबल महेंद्र नाथ एवं अन्य पुलिसकर्मियों के खिलाफ मारपीट का मामला दर्ज कराया है। बताया जा रहा है कि राज्य सरकार ने विधायक और हैड कांस्टेबल के बीच कथित रूप से मारपीट मामले की जांच सीआईडी-सीबी के हवाले कर दी है।

विधायक के बदले स्वर

पुलिसकर्मी को कथित रूप से थप्पड़ मारने की घटना को लेकर विधायक रमिला खड़िया ने पहले जहां आक्रोश जताया वहीं अब स्वर बदल गए हैं। विधायक ने पहले हैड कांस्टेबल तथा पुलिसकर्मियों के व्यवहार को लेकर आपत्ति जताते हुए आक्रोश जताया था, वहीं अब सुर बदलते हुए कह रही हैं कि कोरोना काल में पुलिस के जवान कड़ी धूप में अपने कर्तव्य की पालना में जुटे हैं। उनका किसी भी पुलिसकर्मियों से बैर नहीं। उन्होंने हैड़ कांस्टेबल को थप्पड़ मारने की घटना को मनगढंत बताया।

सच आ जाएगा सामने

विधायक रमीला का कहना है कि राजनीति में प्रेरित होकर इस तरह के मामले दर्ज होते रहते हैं, जिसका उन पर किसी तरह का प्रभाव नहीं पड़ेगा। उन्होंने कहा कि नाकेबंदी पर तैनात हैड कांस्टेबल को कथित रूप से थप्पड़ मारने वाली घटना का सच सीआईडी-सीबी की जांच में सामने आ जाएगा। उन्होंने कहा कि ऐसे मामलों से उन्हें कोई फर्क नहीं पड़ता। नेताओं पर आरोप लगते रहते हैं। वह ऐसी किसी बात का बुरा नहीं मानतीं। यह सब राजनीति से प्रेरित कदम है।

भाजपा मांग रही इस्तीफा

विधायक रमिला के कथित रूप से थप्पड़ मारने की घटना की चर्चा राजनीतिक गलियारों में जमकर गूंज रही है। भाजपा ने इस मामले में विधायक रमिला गुर्जर पर नैतिकता के आधार पर इस्तीफा देने की मांग की है। भाजपा का आरोप है कि कांग्रेस सरकार खुद को बचाने के लिए निर्दलीय विधायक पर दबाव बनाए हुए है। जबकि विधायक रमिला का कहना है कि उन पर किसी तरह का दबाव नहीं है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत तथा पूर्व उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट दोनों से उनकी किसी तरह की दुश्मनी नहीं। उन पर सरकार का किसी तरह का कोई दबाव नहीं।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.