Rajasthan: बजट भाषण का एक पेज पढ़ना भूल गए सीएम अशोक गहलोत, दूसरे दिन सुधारी गलती

बजट भाषण का एक पेज पढ़ना भूल गए सीएम अशोक गहलोत, दूसरे दिन सुधारी गलती। फाइल फोटो

Rajasthan अशोक गहलोत बुधवार को वित्तीय वर्ष 2021-22 का बजट विधानसभा में पेश करते समय भाषण के दौरान एक पेज ही पढ़ना भूल गए। कुल 109 पेज के बजट भाषण में गहलोत ने पेज नंबर 10 को पढ़ा ही नहीं।

Sachin Kumar MishraThu, 25 Feb 2021 07:48 PM (IST)

जागरण संवाददाता, जयपुर। Rajasthan: राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत बुधवार को वित्तीय वर्ष 2021-22 का बजट विधानसभा में पेश करते समय भाषण के दौरान एक पेज ही पढ़ना भूल गए। कुल 109 पेज के बजट भाषण में गहलोत ने पेज नंबर 10 को पढ़ा ही नहीं। इस पेज पर चिकित्सा व स्वास्थ्य महकमें से जुड़ी आधा दर्जन घोषणाओं की जानकारी थी। ऐसे में दूसरे दिन गुरुवार को विधानसभा का प्रश्नकाल खत्म होने के बाद गहलोत ने उस पेज को पढ़ा। इसके लिए गहलोत ने विधानसभा अध्यक्ष डा सीपी जोशी से अनुमति मांगी थी।दरअसल,109 पेज के बजट भाषण में पेज नंबर नौ से सीधा 11 पढ़ दिया गया। इस कारण पेज नंबर 10 की घोषणाएं छूट गईं। सीएम से हुई इस चूक की सदन के अंदर और बाहर काफी चर्चा रही। प्रदेश में इस तरह का शायद यह पहला मामला था। हालांकि, बजट भाषण के आंकड़ों में गलती और कुछ बिंदु छूटने के मामले तो पहले भी दो बार हो चुके हैं । ऐसी ही एक गलती पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे से हुई थी । पिछले बजट भाषण में गहलोत से कुछ बिंदु छूट गए थे।

अगले साल से कृषि का अलग से पेश होगा बजट

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने बुधवार को वित्तीय वर्ष 2021-22 का बजट पेश किया। प्रदेश में पहली बार पेपरलेस बजट पेश करते हुए उन्होंने प्रदेश के सभी परिवारों को कैशलेस स्वास्थ्य बीमा की सौगात दी। इसमें प्रदेश के सभी संविदाकर्मी, लघु एवं सीमांत किसानों को निशुल्क और सामान्य परिवारों को 50 प्रतिशत प्रीमियम राशि देकर बीमा का लाभ मिलेगा। इसमें सरकारी और निजी अस्पतालों में इलाज की सुविधा मिलेगी। इसके तहत पांच लाख तक का कैशलेस बीमा कराने की सुविधा दी जाएगी । गहलोत ने कहा कि राज्य सरकार राइट टू हेल्थ बिल लाने जा रही है। इस बार कोई नया कर नहीं लगाया गया। गहलोत ने बजट में खेती और किसानी पर भी जोर दिया। उन्होंने कहा कि अगले साल से आम बजट के साथ ही अलग से कृषि बजट पेश किया जाएगा। सीएम ने किसानों को खेती के लिए बिजली उपलब्ध कराने को अलग से कृषि बिजली वितरण कंपनी बनाने की घोषणा की। इस साल 16 हजार करोड़ का ब्याज मुक्त फसली कर्ज देने की घोषणा करते हुए सीएम ने प्रदेश में कृषि साथी योजना शुरू करने की बात कही।

पशुपालकों की मदद के लिए मोबाइल सेवा

इस योजना के तहत पांच लाख किसानों को उन्नत बीज उपलब्ध कराने के साथ ही 1.20 लाख किसानों को स्प्रींकलर (सिंचाई में उपयोग होना वाला उपकरण) दिए जाएंगे। प्रदेश के नौ जिलों में मिनी फूड पार्क और मथानिया में मेगाफूड पार्क बनाया जाएगा। पशुपालकों की मदद के लिए 108 एंबुलेंस सेवा की तर्ज पर 102 मोबाइल सेवा शुरू की जाएगी। गहलोत ने जयपुर और जोधपुर में मेडिकल हब बनाने, जोधपुर में 30 करोड़ की लागत से क्षेत्रीय कैंसर इंस्टीट्यृट और कोरोना, मलेरिया, स्वाइन फ्लू, टाइफाइड जैसी वायरस संबंधी बीमारियों का एक ही छत के नीचे इलाज कराने के लिए जयपुर में इंस्टीट्यृट आफ ट्रापिकल मेडिसिन एंड वायरोलॉजी की स्थापना करने की भी घोषणा की। उन्होंने जोधपुर में 400 करोड़ की लगात से डिजिटल यूनिवर्सिटी खोलने की घोषणा भी की। प्रतियोगी परीक्षा के लिए युवाओं को रोडवेज बस में नि:शुल्क यात्रा और बेरोजगार युवाओं को इंटर्नशिप व भत्ते में एक हजार रुपये का इजाफा किया गया है।

गहलोत बोले-जादुगर की जादुगरी

बजट पेश करने के बाद मीडिया से बात करते हुए गहलोत ने कहा कि यह बजट जादुगर की जादुगरी है । दरअसल, 3:70 लाख करोड़ के कर्जभार के बावजूद घोषणाओं को पूरा करने को लेकर पूछे गए सवाल के जवाब में गहलोत ने कहा कि जादुगरी से यह सब होगा।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.