Rajasthan: पंजाब से आ रहे दूषित जल को लेकर केंद्रीय जलशक्ति मंत्री से मिले राजस्थान भाजपा के नेता

Rajasthan पंजाब से आ रहे दूषित जल को लेकर केंद्रीय जलशक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत ने अधिकारियों को सारी जानकारियां एकत्र कर आगे की कार्रवाई करने के दिशा-निर्देश दिए। शेखावत ने कहा कि केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की टीम पंजाब जाकर यथास्थिति का ब्योरा दर्ज कर रिपोर्ट देगी।

Sachin Kumar MishraThu, 17 Jun 2021 10:43 PM (IST)
पंजाब से आ रहे दूषित जल को लेकर केंद्रीय जलशक्ति मंत्री से मिले राजस्थान भाजपा के नेता। फाइल फोटो

जोधपुर, संवाद सूत्र। राजस्थान में पंजाब के सीमावर्ती क्षेत्रों से आ रहे दूषित जल को लेकर केंद्रीय जलशक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत ने अधिकारियों को सारी जानकारियां एकत्र कर आगे की कार्रवाई करने के दिशा-निर्देश दिए। शेखावत ने कहा कि केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) की टीम पंजाब जाकर यथास्थिति का ब्योरा दर्ज कर एक सप्ताह में रिपोर्ट देगी और भाखड़ा ब्यास प्रबंधन बोर्ड (बीबीएमबी) अपशिष्ट जल का प्रबंधन करने की योजना बनाएगा। गुरुवार को जल शक्ति मंत्रालय में केंद्रीय जल शक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत के साथ राजस्थान के भाजपा अध्यक्ष सतीश पूनियां, केंद्रीय मंत्री अर्जुन राम मेघवाल, केंद्रीय राज्यमंत्री कैलाश चौधरी और सांसद निहालचंद से इस विषय पर गहन विचार-विमर्श हुआ। केंद्रीय मंत्री शेखावत ने कहा कि यह आम शिकायत है कि पंजाब से दूषित जल नहरों के माध्यम से राजस्थान पहुंच रहा है, जो जन-धन दोनों के लिए हानिप्रद है। निश्चित ही यह गंभीर परेशानी है। शेखावत ने कहा कि उद्देश्य समस्या का स्थायी और जनहितकारी निदान है। बैठक में भाजपा प्रदेश उपाध्यक्ष माधोराम, विधायक सुमित गोदारा, बलवीर लूथरा, बिहारी लाल बिशनोई, संतोष बावरी, अनुसूचित जाति मोर्चा प्रदेशाध्यक्ष कैलाश मेघवाल, किसान मोर्चा प्रदेशाध्यक्ष हरी राम रिणवा उपस्थित रहे।

राजस्थान के दस जिले प्रभावित

पंजाब से इंदिरा गांधी नहर परियोजना में आ रहे दूषित जहरीले पानी से राजस्थान के 10 जिले श्रीगंगानगर, हनुमानगढ़, बीकानेर, जैसलमेर, बाड़मेर, जोधपुर ,नागौर, चूरू, झुंझुनू और सीकर प्रभावित हो रहे हैं। हरिके बैराज से काला दूषित जहरीला पानी छोड़े जाने से राजस्थान की इंदिरा गांधी नहर परियोजना, गंगनहर और भाखड़ा-नांगल सिंचाई तंत्र में जहर फैलता जा रहा है। पिछले दिनों इस विषय को लेकर भाजपा प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनियां ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को पत्र भी लिखा था। उन्होंने पत्र में कहा था कि पीना तो दूर, ऐसे जहरीले पानी से सिंचाई तक जानलेवा साबित हो रही है। यह पानी पेयजल के लिए दस जिलों के लगभग दो करोड़ लोगों के लिए सप्लाई किया जाता है। 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.