Petrol Pump Strike: राजस्थान में वैट कम करने की मांग पर पेट्रोल पंप संचालक हड़ताल पर

जयपुर, जेएनएन। राजस्थन में वीरवार को पेट्रोल पंप बंद हैं। राजस्थान पेट्रोलियम डीलर्स एसोसिएशन के आह्वान पर सरकार से वैट कम करने की मांग पर सुबह छह बजे से शाम छह बजे तक के लिए पेट्रोल पंप बंद रखे गए हैं। इस हड़ताल के चलते करीब 4,500 हजार पेट्रोल पंपों पर ताला लगा हुआ है। एंबुलेंस और अग्निशमन वाहनों को ही पेट्रोल व डीजल दिया जा रहा है।

एसोसिएशन के अध्यक्ष सुमित बगई के अनुसार, प्रदेश में अन्य राज्यों के मुकाबले वैट ज्यादा होने के कारण पड़ोसी राज्यों के मुकाबले पेट्रोल और डीजल की खपत कम हो रही है और इससे न सिर्फ पेट्रोल पंप संचालकों को बल्कि सरकार को भी नुकसान उठाना पड़ रहा है। राजस्थान में अन्य राज्यों की अपेक्षा पेट्रोल और डीजल की कीमत पांच से नौ रुपये अधिक है। पेट्रोल पंपों की हड़ताल के बारे में हालांकि एसोसिएशन ने पहले सूचना दे दी थी, लेकिन इसके बावजूद कई लोगों को पेट्रोल और डीजल के लिए परेशान होता देखा गया।

सुमित बगई का कहना है कि यह हड़ताल हम आम जनता को राहत दिलाने के लिए ही कर रहे हैं। ऐसे में थोड़ा कष्ट तो है लेकिन सरकार सुनवाई नहीं कर रही है, इसलिए हमें यह हड़ताल करनी पड़ी है।

सूत्रों के मुताबिक, पेट्रोल पंप संचालकों की हड़ताल की वजह से कई शहरों में पेट्रोल न मिलने से वाहनों की रफ्तार थम गई है। पेट्रोल पंप संचालक एक ओर हड़ताल कर वैट कम करने की मांग कर रही है। दूसरी ओर, सरकार इस मसले को लेकर गंभीर नहीं है। इसका खामियाजा लोगों को भुगतना पड़ रहा है। ब्लैक में पेट्रोल महंगा बेचा जा रहा है। लोग जरूरत की वजह से ज्याजा पैसे देने को मजबूर हैं। सरकार को इस मसले का शीघ्र समाधान करने की जरूरत है, ताकि आम अवाम को राहत मिल सके।

राजस्थान की अन्य खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

1952 से 2019 तक इन राज्यों के विधानसभा चुनाव की हर जानकारी के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.