राजस्थान में बड़ा प्रशासनिक फेरबदल,स्थानीय निकाय एवं पंचायत चुनाव से पहले बड़ा बदलाव

जयपुर, जागरण संवाददाता। स्थानीय निकाय और पंचायती राज संस्थाओं के चुनाव से पहले राजस्थान की अशोक गहलोत सरकार ने प्रदेश में बड़ा प्रशासनिक फेरबदल करते हुए 70 आईएएस अधिकारियों के तबादले किए है।

खान,उधोग,बिजली एवं कृषि जैसे महत्वूपर्ण विभागों में तैनात वरिष्ठ अधिकारियों को कम महत्व के पदों पर लगाया गया है। पिछले कुछ समय से भ्रष्टाचार को लेकर चर्चा में आए खान विभाग में दिनेश कुमार को सचिव लगाया गया है। दिनेश कुमार दो माह पूर्व ही केंद्र में प्रतिनियुक्ति समाप्त होने पर वापस अपने मूल कैडर राजस्थान में आए है।

शनिवार रात सवा दो बजे जारी तबादला सूची में 10 जिला कलेक्टरों को बदला गया है। इसमें भरतपुर, धौलपुर, सीकर, करौली, टोंक, चित्तौड़गढ़, बांसवाड़ा, प्रतापगढ़, कोटा और डूंगरपुर के जिला कलेक्टर शामिल है। अब तक पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के ओएसडी के रूप में काम कर रहे आईएएस अधिकारी गजानंद शर्मा को भूप्रबंधन आयुक्त एवं पदेश निदेशक के पद पर लगाया गया है। पूर्व मुख्यमंत्रियों की सुविधाएं वापस लेने को लेकर हाईकोर्ट के निर्णय के बाद गजानंद शर्मा को हटाया जाना तय माना जा रहा था। वसुंधरा राजे ने भी उन्हे रिलीव कर दिया था ।

तबादला सूची में ये मुख्य बदलाव हुए

अतिरिक्त मुख्य सचिव रविशंकर प्रसाद को राजस्थान राज्य पथ परिवहन निगम का अध्यक्ष बनाया गया है। डॉ. सुबोध अग्रवाल को उद्योग, सूक्ष्म एवं मध्यम उद्यम (एमएसएमई), राजकीय उपक्रम एवं अप्रवासी भारतीय विभाग का अतिरिक्त मुख्य सचिव, पवन कुमार गोयल को राजस्थान राज्य भण्डारण निगम का अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक, डॉ.आर वेंकटेश्वर को प्रशासनिक सुधार एवं समन्वय जन अभियोग निराकरण और मुद्रण एवं लेखन सामग्री विभाग का प्रमुख शासन सचिव बनाया गया है।

अभय कुमार को आयोजना, सांख्यिकी सूचना एवं प्रौद्योगिकी एवं संचार विभाग और सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग का प्रमुख शासन सचिव नियुक्त किया गया है। वहीं श्री आलोक राजस्थान राज्य पथ परिवहन निगम में को प्रबंध निदेशक होंगे। ऊर्जा विभाग के प्रमुख शासन सचिव नरेशपाल गंगवार को आयुक्त कृषि उत्पादन एवं प्रमुख शासन सचिव कृषि एवं उद्यानिकी विभाग के पद पर नियुक्त किया गया है। कुंजी लाल मीणा को गंगवार की जगह ऊर्जा विभाग के प्रमुख शासन सचिव एवं डिस्काम के अध्यक्ष पद पर स्थानांतरित किया गया है। गंगवार को हटाया जाना अधिकारियों में चर्चा का विषय बना हुआ है। दो दिन पहले बजरी माफियाओं की फायरिंग के कारण चर्चा में आई धौलपुर की जिला कलेक्टर नेहा गिरी को जनजाति विभाग में संयुक्त शासन सचिव के पद पर लगाया गया है। चित्तौड़गढ़ की जिला कलेक्टर शिवांगी स्वर्णकार को आयुक्त टी एडं डी उदयपुर के पद पर तैनात किया गया है।

मुख्यमंत्री के संयुक्त सचिव अंतरसिंह नेहरा को बांसवाडा का जिला कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट नियुक्त किया गया है।भरतपुर कलेक्टर रहते हुए विवादो में आई आरूषी मलिक को हटाकर पंचायती राज विभाग में विशिष्ठ सचिव,रीको के एमडी गौरव गोयल को अब खान विभाग में निदेशक,हेमंत गैरा को वित्त सचिव बजट,गायत्री राठौड़ को आयुर्वेद सचिव,वैभव गैलेरिया को चिकित्सा शिक्षा सचिव,मंजू राजपाल को स्कूली शिक्षा सचिव,भवानी देथा को सामान्य प्रशासन सचिव,के.के पाठक को महिला एवं बाल विकास विभाग में सचिव,शूचि शर्मा को उच्च शिक्षा सचिव,सामनाथ मिश्रा को आरएसएमम में निदेशक,नीरज.के पवन को सहकारिता के साथ सूचना एवं जनसंपर्क विभाग में निदेशक का कार्यभार भी दिया गया है ।

एन.के.गुप्ता को जयपुर सिटी ट्रांसपोर्ट में एमडी,जोगाराम को भरतपुर जिलो कलेक्टर,ओमप्रकाश को कोटा कलेक्टर,जितेंद्र कुमार उपाध्याय को विभागीय जांच आयुक्त एवं विष्ण चरण मलिक को आबाकरी आयुक्त के पद पर लगाया गया है। 

1952 से 2019 तक इन राज्यों के विधानसभा चुनाव की हर जानकारी के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.