Rajasthan: गोविंद सिंह डोटासरा बोले, मैं किसी भी जांच को तैयार; निंबाराम को आगे लाए भाजपा

Rajasthan गोविंद सिंह डोटासरा ने कहा कि मैं तो पहले दिन से कह रहा हूं कि किसी भी तरह की जांच करवा ली जाए। मेरे रिश्तेदारों के एक समान अंक मिलने में मेरी कोई भूमिका नहीं मिलेगी लेकिन भाजपा को आरएसएस के क्षेत्रीय प्रचारक निंबाराम को आगे लाना चाहिए।

Sachin Kumar MishraThu, 22 Jul 2021 09:37 PM (IST)
गोविंद सिंह डोटासरा बोले, मैं किसी भी जांच को तैयार; निंबाराम को आगे लाए भाजपा। फाइल फोटो

जागरण संवाददाता, जयपुर। राजस्थान प्रशासनिक सेवा (आरएएस) परीक्षा में राज्य के शिक्षा मंत्री और प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा के तीन रिश्तेदारों को एक समान अंक मिलने के मुद्दे को लेकर विवाद जारी है। राज्य विधानसभा में विपक्ष के नेता गुलाब चंद कटारिया ने बृहस्पतिवार को प्रेस कांफ्रेंस कर डोटासरा का इस्तीफा मांगा है। उन्होंने कहा कि परीक्षा आयोजित करवाने वाली संस्था राज्य लोक सेवा आयोग (आरपीएससी) में भ्रष्टाचार चरम पर है। डोटासरा के दबाव में उनके रिश्तेदारों को साक्षात्कार में एक समान 80-80 अंक दे दिए गए। जबकि इनके लिखित परीक्षा में 50 प्रतिशत से भी कम नंबर आए थे। उन्होंने कहा कि लिखित परीक्षा में डोटासरा की पुत्रवधू की बहन के 47 और भाई के 46 प्रतिशत अंक आए, जो कि काफी कम हैं। अगर साक्षात्कार में उन्हे 80 अंक नहीं दिए जाते तो उनका आरएएस में चयन नहीं होता।

कटारिया ने कहा कि इस प्रकरण की निष्पक्ष जांच होने तक डोटासरा को पद से हटाया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि इस मुद्दे को विधानसभा के मानसून सत्र में उठाया जाएगा। भाजपा सड़कों पर भी सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन करेगी।इस मामले को लेकर अखिल भारतीय विधार्थी परिषद के कार्यकर्ताओं ने डोटासरा के घर के बाहर प्रदर्शन का प्रयास किया, लेकिन पुलिस ने उन्हे खदेड़ दिया। उधर, डोटासरा ने कहा कि मैं किसी भी तरह की जांच के लिए तैयार हूं। किसान के बच्चे आरएएस अधिकारी बन जाते हैं तो भाजपा नेताओं को परेशानी हो रही है। वह अपनी योग्यता से बने हैं। उन्होंने कहा कि मैं तो पहले दिन से कह रहा हूं कि किसी भी तरह की जांच करवा ली जाए। मेरे रिश्तेदारों के एक समान अंक मिलने में मेरी कोई भूमिका नहीं मिलेगी, लेकिन भाजपा को राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के क्षेत्रीय प्रचारक निंबाराम को आगे लाना चाहिए, जो गिरफ्तारी से बचने के लिए छूपते घूम रहे हैं।

यह है निंबाराम से जुड़ा मामला

उल्लेखनीय है कि पिछले माह जयपुर नगर निगम ग्रेटर में सफाई करने वाली कंपनी बीवीजी से जुड़ा एक वीडियो इंटरनेट मीडिया पर वायरल हुआ था। इस वीडियो में कंपनी के दो प्रतिनिधियों व निलंबित महापौर मौम्या गुर्जर के पति राजाराम के बीच 20 करोड़ की रिश्वत को लेकर बातचीत हो रही है। इस वीडियो में निंबाराम भी नजर आ रहे हैं। इसी वीडियो के आधार पर राजस्थान भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो ने राजाराम के साथ ही कंपनी के दोनों प्रतिनिधियों व निंबाराम के खिलाफ मामला दर्ज किया है। राजाराम फिलहाल जेल में है। 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.