Rajasthan: आरएएस भर्ती परीक्षा 2018 परिणाम के मामले में कोर्ट ने दिए जांच के आदेश

Rajasthan न्यायालय ने आरएएस भर्ती परीक्षा 2018 परिणाम के मामले में बुधवार को जांच के आदेश दिए हैं। अधिवक्ता देवेंद्र सिंह शेखावत की याचिका पर हुई सुनवाई करते हुए अदालत ने सिविल लाइन थाना पुलिस को जांच के आदेश दिए।

Sachin Kumar MishraWed, 28 Jul 2021 08:55 PM (IST)
आरएएस भर्ती परीक्षा 2018 परिणाम के मामले में कोर्ट ने दिए जांच के आदेश। फाइल फोटो

अजमेर, संवाद सूत्र। अजमेर एसीजेएम तीन न्यायालय ने आरएएस भर्ती परीक्षा 2018 परिणाम के मामले में बुधवार को जांच के आदेश दिए हैं। अधिवक्ता देवेंद्र सिंह शेखावत की याचिका पर हुई सुनवाई करते हुए अदालत ने सिविल लाइन थाना पुलिस को जांच के आदेश दिए। अधिवक्ता देवेन्द्र सिंह शेखावत ने शिक्षा मंत्री व प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा सहित उनके रिश्तेदारों के खिलाफ इस्तगासे दायर कर अदालत से सुनवाई की मांग की थी। अदालत ने इस्तगासे पर 28 जुलाई तारीख मुकर्रर की थी। अदालत ने पुलिस से कहा कि इस्तगासे की प्रति पुलिस को मिली या नहीं उस पर पुलिस ने क्या जांच की आदि जानकारी से अवगत कराया जाए। अब इस मामले की अगली सुनवाई 31 जुलाई को होगी।

आरएएस 2018 के अभ्यर्थियों को प्राप्ताकों की पुनः गणना का मौका

राजस्थान लोक सेवा आयोग ने राजस्थान राज्य एवं अधीनस्थ सेवाएं संयुक्त प्रतियोगी परीक्षा, 2018 के अभ्यर्थियों को प्राप्तांकों की पुनः गणना का अवसर प्रदान किया है। इच्छुक अभ्यर्थी प्राप्तांकों की पुनः गणना के लिए 29 जुलाई से आठ अगस्त की रात बारह बजे तक ऑनलाइन आवेदन कर सकेंगे। आयोग के सचिव शुभम चौधरी ने बताया कि आयोग द्वारा साक्षात्कार आयोजित कर 13 जुलाई 2021 को साक्षात्कार परिणाम जारी कर दिया गया था। आयोग द्वारा साक्षात्कार में प्रविष्ठ सभी अभ्यर्थियों को नियमानुसार उक्त परीक्षा में उत्तर पुस्तिकाओं में प्राप्त प्राप्तांकों की पुनःगणना कराए जाने के लिए 29 जुलाई से 08 अगस्त 2021 (रात्रि 12 बजे) तक निम्नानुसार ऑनलाइन अवसर प्रदान किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि साक्षात्कार में प्रविष्ठ अभ्यर्थियों के उत्तर पुस्तिकाओं में प्राप्त प्राप्तांकां की पुनःगणना के लिए आयोग की वेबसाइट पर जाकर आवेदन करना है। प्रति प्रश्न पत्र 25 रुपये की दर से शुल्क का ऑनलाइन ही भुगतान करना जरूरी होगा। ऑफलाइन रूप से प्रस्तुत प्रार्थना पत्र व ऑफलइन रूप से शुल्क स्वीकार नहीं किए जाएंगे। उन्होंने स्पष्ट किया कि उत्तर पुस्तिकाओं का पुनःपरीक्षण किसी भी परिस्थिति में नहीं किया जाएगा।

वरिष्ठ अध्यापक अंग्रेजी के तीन अभ्यर्थियों का और हुआ चयन 

राजस्थान लोक सेवा आयोग ने माध्यमिक शिक्षा विभाग के लिए आयोजित वरिष्ठ अध्यापक-अंग्रेजी प्रतियोगी परीक्षा-2018 के पूर्व घोषित परिणाम के क्रम में नॉन टीएसपी क्षेत्र के अन्तर्गत अपात्र अभ्यर्थियों के विरुद्ध तीन अभ्यर्थियों को मुख्य सूची में प्रतिस्थापित किया है। प्रतिस्थापित किए गए अभ्यर्थियों के वरीयता क्रमांक आयोग की वेबसाइट पर उपलब्ध है।

उदयपुर में शिक्षा मंत्री डोटासरा का फूंका पुतला, सीबीआई जांच की मांग

उदयपुर, संवाद सूत्र। आरएएस भर्ती परीक्षा में परिजनों के चयन को लेकर प्रदेश के शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा का विरोध जारी हैं। भारतीय जनता युवा मोर्चा के कार्यकर्ताओं ने खिलाफ बुधवार को शिक्षा मंत्री का पुतला फूंकने के बाद राज्यपाल के नाम जिला कलेक्टर को ज्ञापन दिया। जिसमें उन्होंने निष्पक्ष जांच के लिए मामला सीबीआई को सौंपने की मांग की है। साथ ही युवा मोर्चा कार्यकर्ताओं ने शिक्षा मंत्री को पद से हटाने की मांग की है। भाजपा युवा मोर्चा के जिला अध्यक्ष सनी पोखरना के नेतृत्व में बुधवार को बड़ी संख्या में बड़ी संख्या में कार्यकर्ता एकत्रित हुए और डोटासरा के खिलाफ नारेबाजी करते हुए प्रदर्शन किया। बाद में उन्होंने जिला कलेक्ट्रेट के सामने शिक्षामंत्री का पुतला भी फूंका। युवा मोर्चा के प्रतिनिधिमंडल ने जिला कलेक्टर को राज्यपाल कलराज मिश्र के नाम ज्ञापन दिया। जिसमें उन्होंने इस बात का उल्लेख किया है कि प्रदेश में लाखों युवा बेरोजगार हैं, वहीं कांग्रेस के नेता अपने घर में भ्रष्टाचार का खेल कर रहे हैं। यहां तक आरएएस भर्ती में भी अपने परिजनों को भ्रष्ट तरीके से नियुक्ति देने से नहीं चूंके। यह राजस्थान के युवाओं के साथ अन्याय है। युवा मोर्चा ने इस मामले की जांच सीबीआई से कराने की मांग की है। साथ ही, शिक्षा मंत्री डोटासरा को पद से हटाने की भी मांग की है।

डूंगरपुर तथा सलूम्बर में भी विरोध प्रदर्शन

उदयपुर जिला मुख्यालय की तरह डूंगरपुर जिला मुख्यालय तथा सलूम्बर उपखंड मुख्यालय पर भी भारतीय जनता युवा मोर्चा के पदाधिकारियों एवं कार्यकर्ताओं ने शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा के खिलाफ प्रदर्शन कर मामले की जांच सीबीआई को सौंपे जाने की की है। डूंगरपुर में जिला कलेक्ट्रेट के समक्ष शिक्षा मंत्री का पुतला फूंका गया। युवा मोर्चा पदाधिकारियों ने राज्य सरकार को चेतावनी देते हुए कहा कि यदि सरकार इस मामले की जांच नहीं कराती तो मोर्चा प्रदेश भर में उग्र आंदोलन करेगी।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.